न्याय के साथ मिला अन्याय का बोनस..जोगी कांग्रेस नेता ने कहा-कमीशनखोरी के कारण आदिवासियों के साथ हुआ अन्याय

बिलासपुर– जनता कांग्रेस नेता अनिल टाह ने अपने समर्थकों के साथ तहसील कार्यालय पहुंचकर भाजपा सरकार और प्रशासन पर धोखधड़ी और भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। अनिल टाह ने बताया कि देरी से मिला न्याय अन्याय के बराबर है। जिन किसानों को 6 साल पहले मुआवजा मिल जाना चाहिए था। उन्हें अब मिल रहा है। यदि जनता कांग्रेस ने प्रयास नहीं किया होता तो शायद किसानों को अभी तक न्याय मिलना मुश्किल था। इसकी मुख्य वजह अधिकारी हैं..जिन्हें कमीशनखोरी के अलावा दूसरा काम बनता ही नहीं है।

                        जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ बेलतरा विधानसभा विधायक प्रत्याशी अनिल टाह के नेतृत्व में मुआवजा के लिए दर दर भटक रहे किसानों को पूरे छः साल बाद न्याय मिला है। तहसील कार्यलाय में पत्रकारों से बातचीत के दौरान अनिल टाह ने कहा कि छत्तीसगढ़िया अधिकार यात्रा के दौरान बेलतरा विधानसभा क्षेत्र लिमहा के ग्रामीणो ने बताया कि पिछले छः सालों से 19 किसानों को मुआवजा नहीं मिला है। सरकार ने सभी किसानों की जमीन को बांध निर्माण के लिए ले तो लिया। लेकिन मुआवजा देना भूल गयी।

                        अनिल टाह ने बताया कि पिछले कुछ महीनों से कलेक्टर कार्यालय से लेकर तहसील और एसीडीएम कार्यालय तक किसानों के साथ चक्कर काटा। तब कही जाकर शासन से 19 में से मात्र 9 किसानों को ही मुआवाजा दिया गया है। दबाव में आकर शासन के अधिकारियों ने एक सप्ताह पहले 5 किसानों को जबकि आज 4 किसानों को मुआवजा का चेक दिया है। अनिल टाह के अनुसार आठ महीने पहले शासन ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि जमीन अधिग्रहण के बाद प्रभावितों को पांच लाख का अतिरिक्त विस्थापन मुआवजा दिया जाएगा। बावजूद इसके शासन ने 9 किसानों और आदिवासियों को विस्थापन मुआवाजा नहीं दिया है।

             टाह के अनुसार भाजपा शासन काल में जमकर भ्रष्टाचार हो रहा है। आश्चर्य की बात है कि जिस बांध को बनाने में किसानों और आदिवासियों की जमीन ली गयी। उस बांध में निर्माण होने के बाद एक बूंद पानी नहीं है। बांध की हालत बद से बदतर स्थिति में है। अनिल टाह ने कहा कि अभी 9 किसानों को मुआवजा बाकी है। इसके अलावा दूसरे बसहा गांव के 54 लोगों की जमीनों का अधिग्रहण किया गया। प्रभावित किसान और आदिवासी पिछले कई सालों से मुआवजा के लिए अधिकारियों के दरवाजे पर नाक रगड़ रहे हैं।

                          अनिल टाह ने बताया कि जनता कांग्रेस गरीब आदिवासी और किसानों के साथ अन्याय नहीं होने देगा। लिम्हा के 9 ग्रामीणों बसहा के 54 प्रभावितों के साथ जिला कलेक्टर और एसडीएम कार्यालय का घेराव करूंगा। जब तक किसानों को न्याय नहीं मिल जाता है चैन से नहीं बैठूंगा।

                             जनता कांग्रेस नेता और बेलतरा विधासभा प्रत्याशी टाह ने बताया कि देर से अधिकार मिलना गरीब आदिवासी  और किसानों के साथ अन्याय है। लेकिन जो राशि मिली है उससे प्रभावितों का  जख्म जरूर भरेगा। टाह ने जानकारी दी कि आज शासन ने जनकराम टेकाम को 8 लाख 4 हजार, परदेशी टेकाम को 1 लाख 92 हजार, बजरंग सिंह को 8 लाख 4 हजार, कलेसर सरोठिया को 16 लाख 20 हजार रूपये का चेक दिया है।

      इसके पहले 5 जून को तहसील कार्यालय से 5 किसानों को छः साल मुआवजा दिया गया। दुःखीराम और लखन को अलग अलग 1 लाख 44 हजार मिले हैं। इसके अलावा महाजन को 8 लाख 64 हजार, अवधराम को 1 लाख 92 हजार और सुमेर सिंह को 9 लाख 72 हजार रूपए का चेक दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *