पंजीकृत सभी किसानों की धान खरीदी की जाएगी,चीफ सेकरेट्री आरपी मण्डल ने किसानों से की सौजन्य मुलाकात, प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान की हो रही खरीदी

बिलासपुर/मुंगेली।मुख्य सचिव आर.पी.मंडल ने जिले के कोटा, पीपरतराई, भरारी और नेवरा धान खरीदी केन्द्रों का आकस्मिक निरीक्षण किया।निरीक्षण के दौरान श्री मंडल ने कहा कि खरीदी केन्द्रों में व्यवस्थित ढंग से धान खरीदी करें। ताकि किसानों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो। इसके लिये खरीदी केन्द्रों में क्षमता के अनुरूप जितने किसानों की धान खरीदी कर सकते हैं, उतने ही किसानों को टोकन जारी कर तिथि निर्धारित करें। आगामी 15 फरवरी 2020 तक धान खरीदी की जाएगी। प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान खरीदी की जाएगी। धान खरीदी के लिये पर्याप्त समय है।क्षेत्र के सभी पंजीकृत किसानों को अवगत कराएं, ताकि उन्हें किसी तरह की दुविधा न हो।

शाम के बाद धान खरीदी न करें। प्रत्येक केन्द्र में धान का भौतिक सत्यापन की जाये। खरीदे गए धन को व्यवस्थित तरीके से जमाकर और ढंककर रखें। केन्द्रों में पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध है। प्रतिदिन किसानों को बारदाना देने के बाद शेष बारदानों का स्टाॅक एण्ट्री करें। उन्हांेने कहा कि खरीदी केन्द्र में किसानों द्वारा लाए गए धान को ढेरी लगाकर और सफाई कराके पैकिंग कराएं।

मुख्य सचिव ने संभागायुक्त बी.एल.बंजारे, कलेक्टर डाॅ.संजय अलंग, पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल एवं संबंधित अधिकारियों को समझाईश देते हुए कहा धान खरीदी में किसी तरह की लापरवाही न हो, इसके प्रति सतत् सजग रहें।

उन्होंने खरीदी केन्द्र मंे मौजूद किसानों से भी चर्चा कर धान खरीदी की व्यवस्था के संबंध में जानकारी ली। किसानों को जारी टोकन एवं ऋण पुस्तिका भी देखा। मुख्य सचिव के साथ खाद्य सचिव डाॅ.कमलप्रीत सिंह और मार्कफेड के एम.डी.शम्मी आबिदी मौजूद थे।

मुख्य सचिव आरपी मण्डल नेमुंगेली जिले के विकासखण्ड मुंगेली के ग्राम पण्डरभट्ठा में धान खरीदी केंद्र का औचक निरीक्षण किया। इस अवसर पर उन्होने धान विक्रय करने हेतु खरीदी (उपार्जन) केंद्र पहुंचे कृषक सावित्री देवी, राघव मोहन सिंह, बेदराम धु्रव और लीला प्रसाद से सौजन्य मुलाकात की और उनका हालचाल जाना। उन्होने किसानों से उनकी धान की रकबा, धान का उत्पादन, समिति में लाये गये धान की मात्रा, टोकन आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होने कहा कि लगभग ढ़ाई महिने तक चलने वाले राज्य सरकार के किसान हितैषी महत्वपूर्ण अभियान धान खरीदी की शुरूआत एक दिसम्बर से शुरू हो गई है। यह अभियान आगामी 15 फरवरी तक चलेगा।

किसानों से धान खरीदी के लिए राशि, बारदाना और धान रखने की पर्याप्त व्यवस्था है। उन्होने कहा कि धान खरीदी कार्य राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता में से एक है। धान खरीदी अभियान के तहत पूरे प्रदेश में 15 हजार करोड़ की धान की खरीदी की जायेगी। इस अवसर पर उन्होने धान की गुणवत्ता का भी अवलोकन किया। उन्होने कहा कि मुंगेली जिला धान उत्पादक जिले के रूप में जाना जाता है। उन्होने धान खरीदी कार्य में किसी भी प्रकार की भ्रामक अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की बात कही। राज्य सरकार द्वारा किसानों के हित में काम कर रही है।

उन्होने कहा कि किसानों से प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान की खरीदी की जा रही है। धान खरीदी बाद प्रति क्विंटल 2500 रूपए की राशि किसानों के खाते में सीधे जमा की जा रही है। तत्पश्चात उन्होने धान खरीदी केंद्रों में किसानों के लिए पेयजल, बैठक व्यवस्था, चिकित्सा सुविधा आदि के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। निरीक्षण के दौरान उन्होने अनुविभागीय अधिकारी राजस्व खाद्य विभाग के अधिकारी, तहसीलदार और समिति प्रबंधकों को सख्त लहजे में निर्देश देते हुए कहा कि समितियों में धान विक्रय हेतु आने वाले किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं आनी चाहिए।

राज्य शासन के नियमों के तहत ही उन्होने धान खरीदी का व्यापक प्रचार-प्रसार करने के भी निर्देश दिये। इस अवसर पर खाद्य विभाग के सचिव कमलप्रीत सिंह ने किसानों के धान को तौलते समय तौल का पूरा ध्यान रखने, ढ़ेरी बनाकर ही धान तौलने और वास्तविक किसानों का ही धान खरीदने के निर्देश दिये। उन्होने धान भर्ती की बोरो की गिनती हेतु स्टेक व्यवस्था नहीं होने पर अपनी गहरी नाराजगी व्यक्त की और शीघ्र धान की स्टेक व्यवस्था को सुदृढ़ करने के निर्देश दिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *