मेरा बिलासपुर

पात्र छात्राएं ही रहेंगी हॉस्टल में-कलेक्टर

बिलासपुर।शासकीय पोस्ट मेट्रिक अनुसूचित जाति कन्या छात्रावास का  आज कलेक्टर श्री अन्बलगन पी.ने निरीक्षण किया। उन्होंने छात्रावास में उपस्थित छात्राओं से छात्रावास के संबंध में चर्चा की। इस अवसर पर अपर कलेक्टर श्री नीलकण्ठ टेकाम, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्रीमती गायत्री नेताम मौजूद थी।

DSC_0019

कलेक्टर श्री अन्बलगन पी. ने छात्राओं से चर्चा करते हुए कहा कि छात्रावास में अनुशासन होना सर्वोंपरि है। उन्होंने कहा कि यहां पात्रता नियम और अनुशासन हमारी पहली प्राथमिकता है। जिससे पात्र छात्राएं अपनी पढ़ाई सुरक्षित माहौल में सही ढंग से पूरी कर सके। उन्होंने छात्रावास का निरीक्षण करते हुए कहा कि एक कमरे में तीन छात्राएं रह सकती है, इससे अधिक नहीं। कलेक्टर ने छात्रावास की भोजन व्यवस्था की जानकारी ली। उन्होंने छात्राओं को एकजुट होकर भोजन की व्यवस्था स्वयं संभालने कहा। उन्होंने छात्रावास अधिक्षिका को निर्देशित करते हुए कहा कि यहां नियमानुसार अनुशासन ढंग से छात्रावास का सही संचालन करें। उन्होंने कहा कि छात्रावास में रहने वाली छात्राओं के साथ कोई भी रिश्तेदार छात्रावास में नहीं रूक सकती। मिलने वाले रिश्तेदारों को बाहर तक ही सीमित रखें। उन्होंने उपस्थित छात्राओं से की गई कार्यवाही के सदंर्भ में भी पूछताछ की। उन्होंने छात्राओं से कहा कि पात्र छात्राएं ही यहंा नियमानुसार रह सकेंगी। उन्होंने कहा कि जो लड़कियां गांवों से पढ़ने आई है, वे भाग्यशाली है। हमारे देश में मात्र 7 प्रतिशत महिलाओं को ही ऐसा मौका मिलता है। उन्होंने कहा कि यहां की गई कार्यवाही अचानक नहीं था, इसकी सूचना पूर्व से ही दो-तीन बार दे दी गई थी। फिर भी छात्रावास में अत्यधिक  संख्या में छात्राएं रह रहीं थी। सरकार की कोशिश नियमानुसार सबको शिक्षित करने की है। छात्रावास में संसाधन सीमित होने के बावजूद सीमा से अधिक छात्राओं के रहने से पढ़ाई प्रभावित होती है। उन्होंने छात्राओं से कहा कि छात्रावास परिसर स्वच्छ रखें और स्वस्थ रहें। वर्तमान में सही और पात्र छात्राएं रह रही हैं, उन्हें सही ढ़ंग से रखने के लिए व्यवस्थित कार्यवाही की जा रही है।

भागीरथी वर्मा को कारण बताओ नोटिस

कलेक्टर ने छात्रावास परिसर, छात्राओं के कमरे, नहाने का स्थान एवं भोजनालय का निरीक्षण किया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान कहा कि छात्रावास परिसर के बाहर छात्रावासी छात्राओं से उनके रिश्तेदारों के मिलने के लिए एक शेड का निर्माण किया जायेगा।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS