पोस्टिंग को लेकर पटवारियों की बेचैनी

images (4)बिलासपुर–पोस्टिंग के दरवाजे तीस जुलाई तक खुले रहेंगे। कर्मचारियों की धमा चौकड़ी भी तीस जुलाई तक रहेगी। मानसरोवर और बद्रीधाम का दरवाजा  साल में एक ही बार खुलता है। दर्शनार्थियों की तरह पोस्टिंग का भी यहा हाल है। जिले के सभी पटवारी अब पोस्टिंग को लेकर भू अभिलेख कार्यालय की वजाय तहसील कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं। अपने स्तर पर मुफीद स्थान के लिए हाथ पैर भी मार रहे हैं।

                            जिले के पटवारियों की पोस्टिंग लिस्ट अंतिम चरण में है। तहसील कार्यालय में पटवारियों की भीड़ जमकर देखने को मिल रही है। वे पटवारी भी आज नजर आए जो यदा कदा ही तहसील कार्यालय में दिखाई दे जाते हैं। एक ही स्थान पर लम्बे समय से कुण्डली मार कर जमें पटवारियों की धड़कनें तेज हो गयी हैं। बताया जा रहा है कमोबेश सभी की अंतिम सूची तैयार हो चुकी है। नियमानुसार एक स्थान पर तीन साल पूरा करने वाले पटवारियों को इधर से उधर किया जाना है। पोस्टिंग और लिस्टिंग के काम मेंं तहसील कार्यालय काफी व्यस्त है…अंतिम सूची को जल्द ही कलेक्टर के सामने पेश किया जाएगा।

                          जानकारी के अनुसार एक तहसील में औसतन बीस पटवारी हैं। जाहिर सी बात है पटवारियों की रिपोर्ट को ध्यान में रखकर सूची को तैयार किया जाएगा। नाम नहीं छापने की शर्त पर एक पटवारी ने बताया कि अतिगोपनीयता के बाद भी लोगों को जानकारी हो गयी है कि पोस्टिंग की सूची कहां तैयार हो रही है। कई लोगों को तो इस बात की भी जानकारी है कि वे कहां जाने वाले हैं। अंतिम समय में किसी प्रकार का परिवर्तन नहीं हुआ तो लम्बे समय से एक ही स्थान पर जमे पटवारियों का हटना तय है।

                                   जानकारी के अनुसार पहली बार होगा कि पोस्टिंग की जिम्मेदारी भूअभिलेख कार्यालय की वजाय तहसील कार्यालय को ,सौंपी गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *