प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष अटल ने कहा.. संवेदनशील डॉक्टर का असंवेदनशील बयान..बंद करें स्वामी भक्ति का प्रलाप

बिलासपुर—-प्रदेश कांग्रेस कमेटी उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने पूर्वमुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के बयान पर निशाना साधा है। अटल ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री को इस तरह का  बयान देना न तो शोभा देती है और न ही राजनीतिक शुचिता का पालन ही है।
 
                 प्रदेस कांग्रेस उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के बयान को गैर मर्यादित बताया है। अटल ने कहा छत्तीसगढ़ समेत पूरा देश कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एकजुट होकर काम कर रहा है। राजनीतिक द्वेष भूलकर लोग जन-जीवन की सुरक्षा के लिए काम कर रहे है। ,गरीब ,मजदूर ,वृद्ध,महिला,असहाय ,सर्वहारा ,अस्वस्थ लोगो की कैसी मदद करे..मंथन कर योजना को अमली जामा पहना रहे हैं। कोरोना वायरस से बचाव के लिए छत्तीसगढ़ सरकार और सभी सामाजिक संस्थाए,स्वास्थ्य सेवक,दिन रात मेहनत कर रहे है। जिसके चलते छत्तीसगढ़ में कोरोना को नियंत्रण किया जा सका है। 
 
              ऐसे समय में एक पूर्व मुख्यमंत्री का स्तरहीन राजनीतिक बयान शर्मिन्दा करने वाला है। अटल ने कहा डॉ रमन सिंह का धर्म विशेष पर टिप्पणी करना घोर निंदनीय है। कोई भी जान बूझकर बीमारी से गले नही मिलाता।  रमन सिंह  डॉक्टर भी है  और डॉक्टर को इस तरह का  सोच रखना ,उसके कर्तव्य के प्रति गम्भीरता को दिखाता है।
 
 
                     अटल ने कहा डॉ रमन सिंह 15 वर्ष तक मुख्यमंत्री के अलावा केंद्रीय मंत्री,सांसद,विधायक रहे। ,पुत्र भी सांसद रहे है । लेकिन आज तक छत्तीसगढ़ की गरीब जनता के लिए एक पैसा भी मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा नही किये। अब बयान देकर जनता की सेवा करना चाह रहे है। अटल श्रीवास्तव ने कहा भाजपा के नेता प्रधानमंत्री केयर फण्ड में आर्थिक मदद जरूर करे। लेकिन छत्तीसगढ़ की जनता के प्रति भी उनकी जिम्मेदारी बनती है । उन्हें मुख्यमंत्री राहत कोष  में भी मदद करना चाहिए।
 
                                  अटल ने रमन सिंह को स्मरण दिलाते हुए कहा कि 13 मार्च को छत्तीसगढ़ सरकार ने मंत्रालय / सचिवालय में काम बंद करने का आदेश कर दिया था। लेकिन तथाकथित संवेदनशील केंद्रीय  22 मार्च को एक्शन में आयी। अटल ने कहा छत्तीसगढ़  सरकार ने कोरोना के खिलाफ राहुल मॉडल  चलाकर  महामारी को नियंत्रित किया। जानते हुए भी डॉ रमन सिंह स्वामी भक्ति दिखाने बिना सोच-विचार प्रलाप कर रहे है। डॉ रमन सिंह इस बात को भी भूल गए कि प्रशासन या अन्य मशीनरीज सरकार के निर्देश पर काम करती है।
 
          अटल श्रीवास्तव ने बताया कि सोनिया गांधी  ने केंद्र सरकाए से पांच बिंदुओं की सलाह दी है। कोरोना से हम जीत जाएंगे लेकिन देश की आर्थिक स्थिति पर बुरा असर पड़ेगा। इसलिए जहां से पैसा में कटौती की जा सके देश हित मे होगा।
 
                 अटल श्रीवास्तव ने कहा कि अटल बिहारी बाजपेयी और सुषमा स्वराज ने नेक विचार से एम्स हॉस्पिटल दिए। लेकिन डॉ रमन सिंह के दामाद ने अमानत में खयानत करते  50 करोड़ का स्वास्थ्य घोटाला किया।  जब रमन सिंह धृतराष्ट्र की तरह सत्ता चला रहे थे ,सत्ता जाने के बाद जो यक्ष ज्ञान रमन सिंह को मिल रहा है काश सत्ता में रहते होता। अटल श्रीवास्तव ने कहा कि केंद्र सरकार एक सप्ताह पूर्व तक मास्क,सैनिटाइजर,व अन्य स्वास्थ्य उपकरण का निर्यात कर रही थी। जबकि देश के अंदर स्वास्थ्य विभाग अपना जान जोखिम में डालकर सेवा कर रहे थे। केंद्र सरकार पैसा कमा रही थी । 5 मार्च को राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन  का बयान है कि देश मे केवल 15 टेस्ट लैब है। लेकिन रमन सिंह को इन बातों से न सरोकार है न जिम्मेदारी है । 
 
            अटल ने बताया कि समय आपसी राजनीतिक द्वेष को भूलकर छत्तीसगढ़ के हित में काम करने का है। ,डॉ रमन सिंह 15 वर्षो तक मुख्यमंत्री रहे है। सरकार को छत्तीसगढ़ के हित मे सलाह देते हुए योजनाओ में मदद करे । ताकि छत्तीसगढ़ कोरोना की  मुसीबत से निकल सके। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *