प्रसुता मौत मामलाः एडिश्नल कलेक्टर अलोक पाण्डेय की जांच..डॉक्टर ने बताया 3 घंटे लेट..अब परिजनों होगी पूछताछ

बिलासपुर—सिम्स में दो दिन पहले प्रसूता और नवजात की मौत को लेकर बजरंगियों ने मंगलवार को सिम्स स्थित एमएस कार्यालय का घेराव किया। सिम्स प्रबंधन पर लारपवाही का आरोप लगाया। बजरंगियों ने सिम्स प्रशासन और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रबंधन को लापरवाह चिकित्सकों और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की।

                     मालूम हो कि दो दिन पहले रतनपुर के पास स्थित जोगीपुर गांव निवासी निर्मला यादव पति मनोज यादव को प्रसव के लिए रविवार देर रात करीब 11 बजे जिला चिकित्सालय में भर्ती किया गया। जिला अस्पताल में प्रसव के दौरान बच्चा मां के गर्भ में फंस गया। संक्रमण की जानकारी और स्थिति को गंभीर देखते हुए डाक्टरों ने प्रसूता निर्मला को रात्रि में ही सिम्स रिफर कर दिया।

                    करीब 12 से एक बजे के बीच प्रसूता को सिम्स स्थित गायनिक वार्ड में गंभीर हालत में भर्ती किया गया। प्रसव और इलाज के दौरान प्रसूता और नवजात की  मौत हो गयी।दूसरे दिन मामले को लेकर लोगों ने धरना प्रदर्शन किया। निर्मला के परिजनों ने बताया कि डाक्टरों की लापरवाही और समय पर इलाज नहीं होने से मां और नवजात की मौत हुई है। मामले को लेकर राजनीतिक दलों और स्वयं संगठनों ने सिम्स प्रबंधन पर इलाज के दौरान लापरवाही और डॉक्टर के समय पर नहीं पहुंचने का आरोप लगाया।

कलेक्टर ने दिया जांच का आदेश

                        मामले को गंभीरता से लेते हुए कलेक्टर पी.दयानन्द ने जांच का आदेश दिया। एडिश्नल कलेक्टर आलोक पाण्डेय मंगलवार दोपहर सिम्स पहुंचकर मामले का मुआयना किया।गायानिक वार्ड का भी भ्रमण कर लोगों से बातचीत की। मामले में जिम्मेदार डॉाक्टर अचला और अन्य जूनियर डाक्टरों के साथ तात्कालीन समय में मौजूद अन्य कर्मचारियों से पूछताछ की।

                       एडिश्नल कलेक्टर आलोक पाण्डेय ने उपस्थित पंजीयक का मुआयना कर डॉक्टर अचला से विशेष रूप से बातचीत की। पूछताछ के दौरान डॉ.अचला ने बताया कि मामले की टेलिफोनिक जानकारी सिह म्स करीब एक बजे रात्रि को मिली। आलोक पाण्डेय को अचला ने यह भी बताया कि वह करीब चार बजे सुबह सिम्स पहुंची। तब तक महिला की मौत हो चुकी थी।

         इस दौरान आलोक पाण्डेय ने डॉ.अचला से जानना चाहा कि जब जानकारी एक बजे मिली और पहुंची चार बजे इसकी कोई खास वजह होगी। मामले में डॉ.अचला संतोष प्रद जवाव नहीं दी। बुधवार को मृतक प्रसूता के परिजनों का बयान लिया जाएगा।

परिजनों का लिया जाएगा बयान

                       एडिश्लल कलेक्टर आलोक पाण्डेय ने बताया कि जूनियर और सीनियर डाक्टरों के अलावा सभी जिम्मेदारों से आज पूछताछ हुई है। बुधवार को परिजनों से बातचीत होगी। रिकार्ड भी देख लिया गया है।  रिपोर्ट तैयार कर कलेक्टर के सामने रखा जाएगा।

स्टाफ से हुई पूछताछ कल परिजनों का बयान

          डॉक्टर लखन सिंह ने बताया कि जूनियर सीनियर सभी डाक्टरों का बयान एडिश्नल कलेक्टर ने लिया है। इसके अलावा स्टाफ के अन्य लोगों से भी पूछताछ हुई है। गायनिक वार्ड में तैनात सबी कर्मचारियों से एडिश्नल कलेक्टर ने सवाल किया है। अब परिजनों का बयान लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *