प्रोफेशनल लर्निंग कमेटी की शिक्षा गुणवत्ता में महत्वपूर्ण भूमिका…सतत पालक संपर्क से बच्चों की संख्या बढ़ाने पर जोर

भाटापारा(मनीष जयसवाल)कोरोना काल मे आनलाइन क्लासेस ज्ञान के आदान-प्रदान का श्रेष्ठ माध्यम  है। पढ़ई तुंहर दुआर योजना केवल ऑनलाइन शिक्षा नहीं घर दुआरी तक शिक्षा को पहुचाने का अभियान है। सामूहिक प्रयासों से विद्यार्थियों को अधिकाधिक लाभ पहुचाने हेतु सतत प्रयास किया जा रहा है। सीजी स्कूल डॉट इन ऑनलाइन पोर्टल के अलावा ऑफ़लाइन मोबाइल एप और निशुल्क काल सेंटर से आडियो क्लासेस छत्तीसगढ़ सरकार शुरू करने जा रही है।शिक्षा वालेंटियर्स की सेवाएं लेकर समुदाय आधारित सीखने की प्रवृत्ति को बढ़ावा देना होगा।प्राचार्य और शिक्षक सतत पालक संपर्क कर स्थानीय उपलब्ध संसाधनों के द्वारा विद्यार्थियों को अधिकाधिक लाभ पहुंचाने के लिए अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें। उक्त बातें जिला शिक्षा अधिकारी  आर के वर्मा ने भाटापारा विकासखंड में आयोजित वेबेक्स ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस के दौरान पढ़ाई तुंहर दुआर अभियान एवं अन्य विभागीय विषयों की परिचर्चा के दौरान कही।CGWALL NEWS के व्हाट्सएप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये

जिला शिक्षा अधिकारी ने  कहा कि डीपीआई द्वारा तय समय सीमा के अंतर्गत बच्चों को लंबित छात्रवृत्ति भुगतान किया जाए। आगामी आदेश तक ऑनलाइन क्लासेस के माध्यम से सीखने और सिखाने की प्रक्रिया से बच्चों को सतत रूप से जोड़ा जाए और एक दूसरे का सहयोग करते हुए विद्यार्थी अधिकाधिक ज्ञानार्जन करें।प्रोफेशनल लर्निंग कमेटी की सक्रियता से समग्र शिक्षा के लक्ष्यों की प्राप्ति में महत्वपूर्ण भूमिका होगी।उन्होंने सभी प्राचार्य, प्रधान पाठक, शिक्षको, विद्यार्थियों, पालको, संकुल समन्वयको एवं समस्त तकनीकी सहयोगीगण को लॉकडाउन अवधि में भी वर्चुअल क्लासेज के संचालन के लिए बधाई दी।

विकास खंड शिक्षा अधिकारी अमरसिंह घृतलहरे ने कहा कि संकुल स्त्रोत केंद्रों के सभी अकादमी कार्यों में सहयोग  की दृष्टि से प्रोफेशनल लर्निंग कमेटियों  का गठन किया गया है। पी एल सी हेड प्राचार्य गण  प्रति सप्ताह  निर्धारित दिवस  को समस्त पी एल सी मेम्बर्स की आनलाइन परिचर्चा आयोजित कर” पढ़ई तुंहर दुआर अभियान के साथ शिक्षा गुणवत्ता में अभिवृद्धि के प्रयासों एवं अन्य विभागीय विषयों की जानकारी देकर विद्यार्थियों एवं पालको को भी  भागीदार बनाएं। 

 विकास खंड नोडल अधिकारी भास्कर देवांगन ने बताया कि भाटापारा के  15 संकुलो में 30 पी एल सी कमेटियों का गठन किया गया है। निर्धारित दिवस गुरुवार को सभी समितियों के सदस्यों की बैठक आयोजित कर विषयों पर चर्चा की गई। अधिकाधिक पालक संपर्क करके बच्चों को ऑनलाइन क्लासेस से जोड़ने हेतु सतत प्रयास किया जाना  होगा।विकासखंड की प्रत्येक शाला के द्वारा विभिन्न विषयों की ऑनलाइन क्लासेस कक्षा शिक्षकों के द्वारा ली जा रही है। ब्लॉक लेवल पर कक्षा पांचवी के लिए सहायक शिक्षक नासिर मोहम्मद, कक्षा छठवीं हेतु  किरण वर्मा द्वारा विज्ञान विषय,  सातवीं हेतु अनुपम मिश्रा शिक्षिका एव  धर्मेंद्र सैनिक द्वारा कक्षा आठवी की अंग्रेजी और विज्ञान विषय की क्लास ली जा रही  है। सीमा मिश्रा  द्वारा कक्षा सातवीं और आठवीं के लिए गणित विषय का अध्यापन करवाया जा रहा है एवं सुगंधा पाठक करहीबाजार उ मा शाला द्वारा कक्षा नौवीं से बारहवीं तक अंग्रेजी विषय की ग्रामर की क्लासेज ली जा रही है।

 देवरी शाला  के व्याख्याता  हेमलाल साहू द्वारा 12 वी भौतिकी की कक्षा में विभिन्न विकास खंडों से भी बच्चे ऑनलाइन क्लास में शामिल होकर लाभ प्राप्त कर रहे हैं। जिला स्तर की कक्षाएं व स्टेट पोर्टल के द्वारा ली जा रही क्लासेस के लिए भी बच्चों को लिंक प्रदान किया जाता है। यह कक्षाएं विषय शिक्षकों द्वारा कक्षाओं से अतिरिक्त सुविधाएं है। इसी प्रकार विगत सप्ताह ब्लॉक के संकुल समन्वयको की परिचर्चा में पढ़ई तुंहर दुआर अभियान के जिला नोडल अधिकारी एम एल साहू ने विद्यार्थियों में लर्निंग आउटकम की निरंतर ट्रैकिंग कर  उपचारात्मक शिक्षण पद्धति द्वारा निदान की आवश्यकता बताई एवम लोक शिक्षण संचनालय के निर्देश पर  प्रत्येक संकुल में मोबाइल और  नेटवर्क विहीन क्षेत्र में आवश्यकतानुसार लाउडस्पीकर के माध्यम से हमरपारा क्लासेस शुरू करने का विकल्प बताया।

उक्त जानकारी देते हुए मीडिया प्रकोष्ठ प्रभारी  ईश्वर देवदास ने बताया कि कांफ्रेंस में बिटकुली के प्राचार्य रमेश वर्मा द्वारा इंस्पायर अवार्ड योजना अंतर्गत पंजीयन एवं प्रक्रिया के संबंध में  सभी शाला प्राचार्यो को अवगत कराया गया।बैठक में विकास खंड की सभी हाई स्कूल, हायर सेकेंडरी शालाओं के प्राचार्य,सचिव एवं प्रोफेशनल लर्निंग कमेटी के नोडल अधिकारी, विकासखंड कार्यालय के अधिकारीगण शामिल हुए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *