हमार छ्त्तीसगढ़

बघेल को भाजपा की चुनौती स्वीकार

bhupesh1

रायपुर ।   प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि नान घोटाले में 12 फरवरी को एसीबी ने 25 लोगो को आरोपी बनाया। इस बीच विधानसभा का बजट सत्र भी हुआ। 12 फरवरी के बाद 82 दिन तक भाजपा गूंगी बनी रही। 82 दिन बाद अचानक भाजपा प्रवक्ता शिवतरन शर्मा शपथ पत्र देने की चुनौती दे रहे है। मैं उनकी चुनौती स्वीकार करता हूं। स्वतंत्र एजेन्सी गठित करें। मैं नान घोटाले की जांच के लिये गठित किसी भी स्वतंत्र एजेन्सी के समक्ष शपथ पत्र देने के लिये तैयार हूं।

कांग्रेस भवन में संवाददाताओँ से बातचीत के दौरान उन्होने कहा कि 82 दिन बाद भाजपा यह मान रही है कि सभी साक्ष्य मिट चुके है। तभी इस तरह का बयान एसीबी के छापों के 82 दिन बाद भजपा की ओर से पहली बार आया है। नान घोटाले में एसीबी की कार्यप्रणाली पर पूरे प्रदेश में प्रश्न चिन्ह लग चुका है। एसीबी ने कहा था कि उस डोमेन में हम नहीं जा सकते। वह डोमेन कौन सा है? सभी 25 लोगो की गिरफ्तारी अभी तक क्यो नहीं हुयी है? आरोपी गिरिश शर्मा की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई? भट्ट की जिस महिला मित्र के यहां बड़ी धन राशि बरामद हुयी, उसकी गिरफ्तारी क्यो नहीं हुयी? जिन आईएएस अधिकारियों के लिये पैसे एकत्रित करने की बात एसीबी ने लगातार की थी, उनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं हुयी? मंत्रिमंडल के जिन लोगो का नाम आया, उन पर मामला क्यों नहीं बना?

क्षी बघेन ने चुनौती देते हुए कहा कि  भारतीय लोकतंत्र के इतने बड़े मामले में यह राशि इतनी बड़े पैमाने पर जमा होती थी, उसकी जांच क्यों नहीं होनी चाहिये? नान घोटाले की जांच एक घटना तक सीमित न रहे। नान घोटाले की जांच का दायरा विस्तृत और समग्र होना चाहिये। कांग्रेस को पहले से ही जानकारी थी कि एसीबी जांच का यही हश्र होने वाला है। इसीलिये हमने जिला स्तर पर नान, पीडीएस और धान खरीदी की जांच समितियां बनायी है। कांग्रेस की कमेटियां सभी जिलों में जांच करेगी। उन्होने  पूरे प्रदेश के लोगो से अपील की है कि वे नान घोटाले, धान खरीदी और पीडीएस में भ्रष्टाचार मामले की जांच कर रही कांग्रेस की समितियों को इस मामले में अधिक से अधिक जानकारियां उपलब्ध करायें।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS