मेरा बिलासपुर

बच्चों में छिपा है भारत का भविष्य…कौशिक

sub juniyar twaikando pratiyogita ka subharambh  (1)बिलासपुर— शिक्षा का कोई शार्टकट रास्ता नहीं होता है। कड़ी मेहनत से ही लक्ष्य हासिल होता है। शिक्षा के साथ खेल गतिविधियों से जुड़ना चाहिए। जिस खेल से भी जुड़ों उसे एक मिशन के रूप लें। इसके बाद सफलता मिलेगी। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने आज बिलासपुर के जिला खेल परिसर में आयोजित तीन दिवसीय 33वें राष्ट्रीय सब जूनियर और 8वीं राष्ट्रीय पुम्से बालक-बालिका ताइक्वांडो प्रतियोगिता 2015 के उद्घाटन समारोह को संबोधित किया।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संभागायुक्त सोनमणि बोरा ने की। प्रतियोगिता में देश के 32 राज्यों के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं।

                          पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कौशिक ने प्रतियोगिता में भाग ले रहे नन्हें बच्चों और बच्चियों को देखकर कहा कि इस आयोजन में लघु भारत का दर्शन हो रहा है। बच्चे भारत के भविष्य है। उन्होंने कहा कि यहां उपस्थित सभी बच्चे अपने घर-द्वार, माता-पिता को छोड़कर प्रतियोगिता में शामिल होने आये हैं। उनका विशेष ध्यान रखा जाये। धरम ने कहा कि इन नन्हें खिलाड़ी बच्चों में से ही आने वाले समय में अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ी छिपा है। जो भारत का नाम बुलंद करेगा।  कौशिक ने खिलाड़ी बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए अपनी शुभकामनाएं दी।

                     कार्यक्रम के अध्यक्ष संभागायुक्त सोनमणि बोरा ने संबोधित करते हुए कहा कि खिलाड़ी खेल भावना के साथ अपने खेलों का प्रदर्शन करें। हार और जीत तो होता ही रहता है। उनका उद्देश्य केवल बेहतर प्रदर्शन होना चाहिए। बोरा ने बिलासपुर में खेल के विकास के लिए किये जा रहे प्रयासों की जानकारी देते हुए कहा कि लगभग 5 हजार क्षमता के सर्वसुविधायुक्त नया इंडोर स्टेडियम बनकर तैयार है। आने वाले समय में ऐसी प्रतियोगिताएं उसी स्टेडियम में होंगी। कार्यक्रम को अखिल भारतीय ताइक्वांडों संघ के सह सचिव प्रभात शर्मा ने भी संबोधित किया।

तीन ठिकानों को बनाया था निशाना .लाखों के माल समेत पकड़ाया पकड़ाया

               कार्यक्रम में स्वागत भाषण सुशील मित्रा ने दिया। समारोह में राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पाण्डेय, अतिरिक्त महाधिवक्ता प्रफुल्ल भारत, उप महाधिवक्ता एस.पी.काले, छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के उपाध्यक्ष बशीर अहमद सहित ताइक्वांडों के ललित पुजारा, रामपुरी गोस्वामी, रामदेव कुमावत सहित 32 राज्यों से आये खिलाड़ी, कोच और खेल प्रेमी उपस्थित थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS