बरतोरी सोसायटी प्रबंधक पर फर्जीवाडे की गिरेगी गाज

बिलासपुर— फर्जी तरीके से बरतोरी प्रबंधक की नौकरी हासिल करने वाले पुन्नीराम को लोकसुराज अभियान के दौरान बर्खास्त किया जा सकता है। बरतोरी के अशोक यादव ने सोसायटी प्रबंधक पुन्नीराम की शिकायत सुराज अभियान में है। कलेक्टर के फर्जी आदेश पर बरतोरी सोसायटी से बर्खास्त पुन्नीराम  दुबारा प्रबंधक बन गया है। संचालक मंडल और जिला सहकारी संस्थाएं को अंधेरे में रखकर उसने धान खरीदी की है।

                     सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बिल्हा विकासखण्ड के बरतोरी सोसायटी प्रबंधक पुन्नीराम जिला सहकारी संस्थाएं,बिल्हा एसडीएम और सोसायटी प्रबंधक को अंधेरे में रखकर नौकरी कर रहा है। पुन्नीराम को करीब आठ महीने पहले जिला सहकारी संस्थाएं उप-पंजीयक डीआर ठाकुर ने बर्खास्त किया था। जिला सहकारी संस्थाएं बिल्हा सीईओ अरूण शर्मा की रिपोर्ट पर बर्खास्तगी की कार्रवाई हुई थी। पुन्नीराम पर कड़ार गांव के एक मामले में दोषी पाया गया था। पुन्नीराम पर सोसायटी में जमकर घोटाला करने का भी आरोप है।

जिला सहकारी संस्थाएं के एक कर्मचारी ने बताया कि पुन्नीराम का नाम बरतोरी सोसायटी से जुड़े कई घोटालों में है। घोटाले के बाद तात्कालीन उप पंजीयक डीआर ठाकुर ने बर्खास्त किया था। बर्खास्तगी के बाद पुन्नीराम ने बहाल होने बिल्हा एसडीएम को आवेदन दिया। एसडीएम ने पुन्नी के आवेदन को अग्रिम कार्रवाई की टीप कर संबधित विभाग को भेज दिया। इस बीच पुन्नीराम ने कलेक्टर कार्यालय में भी आवेदन दिया। किसी तरह आवेदन के पावती में कलेक्टर कार्यालय का सील सिक्का लगा लिया। पावती में लिख लिया कि आवेदन को अग्रिम कार्रवाई के लिए अग्रेषित किया जाता है।

                  बरतोरी गांव के शिकायत कर्ता अशोक यादव ने बताया कि पुन्नीराम ने अग्रेषित कार्रवाई की पावती को संचालक मंडल को दिखाया। संचालक मंडल को बताया कि कलेक्टर ने जांच के बाद प्रबंधक पद पर ज्वाइन करने का आदेश दिया है। संचालक मंडल ने बिना सोच समझे पुन्नीराम को प्रबंधक पद पर दुबारा ज्वाइन करवा लिया।

                                    अशोक ने बताया कि पुन्नीराम चालाक और घोटालेबाज इंसान है। बर्खास्तगी के बाद उसे अभी तक क्लिनचिट नहीं मिली है। अशोक यादव ने बताया कि इसकी जानकारी जिला सहकारी संस्थाए के अधिकारियों की दी। लेकिन धानखरीदी शुरू होने के कारण कार्रवाई नहीं हुई। लोक सुराज अभियान में प्रश्न लगाया है। उम्मीद है कि सुराज अभियान के दौरान पुन्नीराम को सोसायटी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा।

                                               मामले में जिला सहकारी संस्थाएं के कर्मचारी ने बताया कि पुन्नीराम को आठ महीने पहले कई प्रकार की गंभीर शिकायत और जांच के बाद बर्खास्त किया गया था। वह संचालक मंडल को अधेरे में रखकर दुबारा प्रबंधक बन गया है। उसके बहाली की जानकारी न तो जिला सहकारी संस्थाए को है और न ही कलेक्टर कार्यालय को। कर्मचारी ने बताया कि पुन्नीराम ने एसडीएम बिल्हा और कलेक्टर कार्यालय में गुहार जरूर लगाई थी। लेकिन उसका निराकरण अभी तक नहीं हुआ है। कलेक्टर कार्यालय से जारी पत्र के अनुसार अग्रिम कार्रवाई संबधित विभाग को करना है। इसके बाद जांच रिपोर्ट संबधित कार्यालय को दिया जाना था। लेकिन अभी तक पुन्नीराम के खिलाफ जांच प्रक्रिया चालू ही नही हुई है। ऐसे में दुबारा सोसायटी प्रबंधक बनने का सवाल ही नहीं उठता है।

                           कर्मचारी ने बताया कि पुन्नीराम ने दुबारा प्रबंधक पद पर काम करना शुरू कर दिया है। इसकी जानकारी धान खरीदी के दौरान हुई। चूंकि इस समय सोसायटी में किसी प्रकार का छे़ड़छाड़ करना उचित नहीं था। यदि तत्कालीन समय प्रबंधक को हटाया जाता तो धान खरीदी पर असर पड़ता। किसानों को भी नुकसान होता। जिसके चलते फर्जी प्रबंधक पर कार्रवाई नहीं की गयी। उस बीच किसी ने शिकायत भी नहीं की। मामला अब लोकसुराज अभियान में आ गया है…जांच भी चल रही है। इसलिए पूरी संभावना है कि यदि पुन्नीराम ने प्रबंधक पद फर्जी तरीके से हासिल किया है तो उसे बर्खास्त भी किया जा सकता है। उस पर 420 का भी मामला दर्ज हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *