बाबा के भक्तों के लिए खास है आज का दिन..ऊर्स में देश दुनिया से पहुंच रहे लोग..भक्तों पर बरस रही बाबा कीदुआ

बिलासपुर(रियाज़ अशरफी)– लुतरा शरीफ में हजरत बाबा सैय्यद इंसान अली शाह के 64 वां सालाना उर्स के दूसरे दिन भी अकीदतमंदों की भीड़ जमकर देखने को मिली। पहुंचने वालों ने बाबा इंसान अली के प्रति गहरी आस्था को जाहिर किया है। साथ ही दरगाह में देर रात तक चादर चढ़ाकर खुशहाली की कामना कर रहे हैं।
 
                 ऊर्स के दूसरे दिन  दोपहर 12:40 बजे दरगाह के खादिमों ने मज़ारे पाक ग़ुस्ल दिया। इसके बाद दरगाह के खादिम मोहम्मद उस्मान खान ने सलातो सलाम और शिजरा पढ़कर बाबा से अमन और चैन की दुआ मांगा।  र्स में प्रशासन और पुलिस के अलावा स्थानीय ग्राम पंचायत सरपंच प्रतिनिधि संतोष गन्धर्व और जनपद सदस्य प्रतिनिधि लक्ष्मी साहू ने शिरकत किया।
 
          मुस्लिम जमात के सदर हाजी अब्दुल करीम,सेक्रेटरी मोहम्मद उस्मान खान,खजांची मौलाना मोहम्मद अफ़ज़ल अपनी टीम के साथ व्यवस्था को चुस्त और दुरुस्त बनाने काफी व्यस्त नजर आए। मोम्मद उस्मान ने बताया कि दूर दराज से लुतरा शरीफ दरगाह पहुचने वाले दर्शनार्थी हमारे मेहमान है।  सभी लोगो का सम्मान करना हमारी जिम्मेदारी है। उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी ना हो इसके लिए स्थानीय प्रतिनिधि व्यवस्था को लेकर लगातार मुस्तैद है। रातः 9 बजे सुल्तानपुर उत्तर प्रदेश से आये हजरत अल्लामा मौलाना मुफ़्ती मोहम्मद अहमद वारसी की तकरीर हुई। उन्होंने एकता और भाईचारे का पैगाम दिया। वलियो को खुदा का दोस्त बताया।
                
उर्दू की 17 तारीख खास,,जाहिरी दुनिया को कहा था अलविदा
 
उर्स के दूसरे दिन उर्दू की 16 और 17 तारीख की दरमियानी  रात  64 वर्ष पूर्व हिंदी के 28 सितंबर सन 1960 रविवार को हजरत बाबा सैय्यद इंसान अली शाह ने इस जाहिरी दुनिया से अलविदा कहा। बाबा इंसान अली ने  रात 9 बजकर 35 मिनट पर  अंतिम सांसे लिया। अब अपने आस्ताने में आराम फरमा रहे हैं। दूर दराज से पहुँचे हुए मुसीबतजदो की परेशानी दूर कर रहे है। यही कारण है कि इस दिन का सबसे ज्यादा महत्व है।
              
प्रशासन के साथ क्षेत्र के मुस्लिम समाज ने संभाला मोर्चा
 
             दरगाह प्रभारी एसडीएम मस्तूरी महेश शर्मा की अगुवई में उर्स का सफल आयोजन किया जा रहा है। उर्स में दूर दराज से आये दर्शनार्थियों की व्यवस्था को दुरुस्त बनाने के लिए क्षेत्र के मुस्लिम जमात लुतराशरीफ,खम्हरिया,बछौद,कुकदा,झलमला,मचखण्डा, पोंडी सहित अन्य गांव के जमात के पदाधिकारियों ने मोर्चा संभाला है।
 
 
 
One attachment • Scanned by Gmail

Tags:,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *