मेरा बिलासपुर

बिलासपुर शहर के लोग ही बनाएँगे-स्मार्ट सिटी

caption_pranchaddhaबिलासपुर ।शहर को स्मार्ट बनाने के लिए नगर निगम ने एक बार फिर से मुहिम शुरू की है। इसके लिए शहर के जानकारों  से सुझाव मांगे हैं. । इस ससिलसिले में शहर के वरिष्ठ पत्रकार और पर्यावरण के जानकार श्री प्राण चढ़्डा ने भी अहम् सुझाव दिए हैं।उनका कहना है कि नगर में आला दर्जे  साहित्यकार,रंगकर्मी,संगीतकार,पत्रकार,संस्कार वाली शिक्षा का माहौल। महज़ भवन,होटल, से सिटी स्मार्ट नहीं होती।इसके लिए नागरिकों और अधिकारियों की सोच में सही व् समय पर बदलाव आवश्यक है। घर का जोगी जोगड़ा है और बाहर से लोग आकर बता रहे बिलासपुर कैसे स्मार्ट होगा। जो इस शहर की तहजीब और तकलीफ से वाकिफ भी नहीं हैं।

Join Our WhatsApp Group Join Now

पेश है प्राण चढ़्डा के सुझाव
7bba44f1-dc44-479b-b58d-66fffe9f5ef81,कचहरी में स्मार्ट सिटी बनने लगे फ़टे पुराने बेनर हटायें। इस परिसर से सूखे पेड़ कटायें, पाम के पेड़ जो पानी की कमी से सूख रहे उनको बचाएं। ये बिलासपुर शहर का मुख्य प्रशासनिक इलाका है।
2, अरपा नदी,पर फिल्टर वाटर डालें। शहर के सभी छोटे बड़े नालों का पानी सीधे नदी में प्रवाहित है।
3,अरपा बचाओ अभियान को कलेक्टर ने हरी झण्डी दिखाई और वापस आने पर पता चला गोलबाजार की नाली सफाई का बदबूदार कीचड़ अरपा में डम्प किया जा रहा है। इस बाजार में नाली सफाई की बदबू बनी है।
4,सालिड वेस्ट मैनेजमेंट की योजना खटाई में है । नदी के किनारे या नदी को कूड़ादान बना दिया गया है।
7bdc3180-62c7-4909-97e3-a0aa5762c1a65,शहर में छायादार पेड़ों को काट कर फाक्स टेल्ड पाम लगाने की योजना का हश्र सामने  शहर के बढ़े तापमान के रूप में सामने हैं।
6,किस जगह कौन से पेड़ लगे इसके लिए सोच” की जरूरत हैं। तभी शहर स्मार्ट दिखेगा न क़ि, शहर का दाढ़ी मूंछ मान पेड़ों को काट कर शहर को क्लीन बनाया जाये।
7,शहर की सड़क पर जाम लगता है और रिवर व्यूह रोड खाली दोनो को वन वे कर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है।
9e92da5e-2180-4932-9edd-eb1765793a398,पहले सभी दफ्तरों में वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगे,फिर कालोनियों में। नये मकान इसके बिना नक्शा ही पास न होय।
9,पार्किग की समस्या बनी है। कभी नींद खुलती है तो कहर कुछ पर टूटता है। फिर वही हाल। बेजा कब्जा स्थायी समस्या है।
10,सभी सरकारी बगीचों की हालत ठीक नही एक तो फूल नहीं खिलते हैं तो पूजा के लिए लोग चोरी कर ले जाते हैं। क्या ये लोग जो सामाजिक दायित्व नहीं समझते नल से टोंटी चोरी करते हैं वो स्मार्ट सिटी के काबिल हैं। इस ये बदलाव होना चाहिए।
58597ae2-5846-41f6-90cd-18cb8290eb4511,शहर के सभी तालाब जल कुम्भी से अटे हैं या सूखे पड़े हैं। कब्जा उनको लील रहा है। मोदीजी ने जिनको स्वच्छता अभियान का  दायित्व दिया था, वो अखबारों में फोटो बाद अपनी दुकान समेट चुके।
बिलासपुर का रेलवे स्टेशन और रेलवे का इलाका छत्तीसगढ़ की शान है और इस पर सबको गर्व है। इस इलाके की हरियाली और समय के साथ बदला वास्तुशिल्प इसकी मिसाल है।
इस सबके साथ जरूरी है। नगर में आला दर्जे  साहित्यकार,रंगकर्मी,संगीतकार,पत्रकार,संस्कार वाली शिक्षा का माहौल। महज़ भवन,होटल, से सिटी स्मार्ट नहीं होती।इसके लिए नागरिकों और अधिकारियों की सोच में सही व् समय पर बदलाव आवश्यक है। घर का जोगी जोगड़ा है और बाहर से लोग आकर बता रहे बिलासपुर कैसे स्मार्ट होगा। जो इस शहर की तहजीब और तकलीफ से वाकिफ भी नहीं हैं।

Back to top button
close