बिल्डिंग के बहाने भाजपा पर कांग्रेस का निशाना

CONGRESS BAITHAK 002बिलासपुर–जिला कांग्रेस ने बिलासपुर शहर में विकास के नाम पर किये जा रहे निर्माण कार्यों में न्यायिक जांच की मांग की है। भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्यवाही कदम उठाने को कहा है। प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अटल श्रीवास्तव, शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर, ग्रामीण अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला और नगर निगम नेताप्रतिपक्ष शेखनजीरूद्दीन ने संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि भारतीय जनता पार्टी आमजनों को अच्छे दिन के नाम पर जनता की गाढ़ी कमाई की बंदर बांट कर रही है।

                पीसीसी महांत्री अटल श्रीवास्तव ने बताया कि उच्च न्यायालय परिसर में  निर्माणाधीन न्यायिक प्रशिक्षण अकादमी की बिल्डिंग गिरने से दो मजदूरों की असामयिक मौत हो गई। लगभग एक दर्जन से अधिक मजदूर घायल हो गये है। उन्होंने बताया कि निर्माण कार्य का ठेका भारतीय जनता पार्टी के सांसद पुत्र को मिला है। जिसने गुणवत्ता पर ध्यान नहीं दिया। बिल्डिंग गिरने से दो मजदूरों को अपनी जान गवानी पड़ी। घायल मजदूर जीवन के लिए संघर्ष कर रहे है।

                           अटल ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी विकास के बड़े-बड़े वादें और दावा करती है। सच्चाई इसके उलट है। प्रदेश सरकार ने भ्रष्टाचार के विकास को बढ़ावा दिया है। भ्रष्ट्राचार भारतीय जनता पार्टी का पर्यायवाची बन गया है। चाहे वह तुर्काडीह पुल हो, सिवरेज, आडिटोरियम, अरपा प्रोजेक्ट, गौरव पथ, स्टेडियम, बिलासपुर नगर निगम परिक्षेत्र में सड़क निर्माण, नाली निर्माण, जल आवर्धन जैसी अनेक योजनाएं भ्रष्टाचार की गवाह हैं।

                    सिवरेज का कार्य जिस कम्पनी को मिला है उसका संबंध भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता से है इसी कारण सिवरेज में बड़े पैमाने पर भ्रष्ट्राचार होने के बाद भी कारण बताओं नोटिस के अतिरिक्त और कोई कार्यवाही नहीं की गई। अरपा विकास प्राधिकरण, अरपा नदी के 200 मीटर  की दूरी पर निर्माण कार्य, खरीदी-बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। सामान्य आदमी अपने सामाजिक जिम्मेदारी के निर्वाहन के लिए  क्षेत्र की जमीन की खरीदी-बिक्री नहीं कर सकता है। जबकि अरपा प्राधिकरण अनियोजित ढ़ंग से निर्माण कार्य कर रहा है।  जब अरपा प्रोजेक्ट में कार्य होना  है तो बिना योजना के निर्माण का अर्थ नहीं रह जाता है।  जैसे की चौपाटी में रोड़ निर्माण किया जा रहा है। जो भ्रष्ट्राचार की ओर इशारा करता है।

                कांग्रेस नेताओं ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी के नेताओं में न्यायपालिका का सम्मान और भय नहीं रहा। इसलिए उच्च न्यायालय परिसर में इतनी बड़ी घटना हो गई। जिसमें दो मजदूर मारे गये और लगभग एक दर्जन से अधिक घायल हो गये है। कांग्रेस पार्टी प्रशासन से मांग करती है कि मृत मजदूरों को 20-20 लाख का मुआवजा और घायल मजदूरों को पर्याप्त चिकित्सा मुहैया कराये जायें और उन्हे 5-5 लाख की आर्थिक मदद प्रशास दे। छात्र बेहतर साहित्य का अध्ययन करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *