बिल्हा और मस्तूरी में बनाया जाएगा मक्का क्षेत्र,टीएल मीटिंग में कलेक्टर ने गांवों का चयन करने दिया निर्देश

बिलासपुर।ग्रीष्मकालीन धान की रकबे में कमी करने के लिये उसके स्थान पर मक्का फसल को प्रोत्साहित किया जाएगा। कलेक्टर डाॅ.संजय अलंग ने जिले के बिल्हा और मस्तूरी में मक्का क्षेत्र बनाने के लिये गांवों का चयन करने का निर्देश संबंधित अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को आज टीएल की बैठक में दिया।कलेक्टर ने निर्देशित किया कि दोनों विकासखंडों के एक-एक गांव का चयन कर तीन-तीन हजार हेक्टेयर में मक्का उत्पादन का लक्ष्य रखें। इसके लिये कृषि विभाग द्वारा मक्का बीज उपलब्ध कराया जायेगा। बैठक में कलेक्टर ने गौठान ग्रामों में वर्मी कम्पोस्ट खादउत्पादन के साथ-साथ गौ मूत्र का प्रसंस्करण, दलहन-तिलहन उत्पादन और मत्स्य पालन की गतिविधियों को जोड़ने का निर्देश दिया।

गौठानों में महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा उत्पादित वर्मी खाद का समय पर उठाव करने कहा, जिससे समूहों को और ज्यादा कार्य करने के लिये प्रोत्साहन मिलेगा। जिले के गौठानों में 21 टन वर्मी खाद का उत्पादन अभी तक किया गया है, जिसमें से 12 टन खाद का उठाव हो पाया है।

सुपोषण अभियान में सभी विभागों को सहभागिता करने का निर्देश
बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री रितेश अग्रवाल ने निर्देशित किया कि जिले में कुपोषण की दर में कमी लाने के लिये संचालित मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान में सभी विभाग सहभागी बनें। विशेषकर आम जनता से सीधे जुड़े हुये विभाग कुपोषण से मुक्ति के लिये प्रचार-प्रसार करें। स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्र, छात्रावास के साथ-साथ स्वयंसेवी संस्थाओं को भी इस अभियान में शामिल करें। व्यापक जनआंदोलन से जिले को कुपोषण मुक्त किया जा सकेगा।

छात्रावासों में बाड़ी लगाने का निर्देश
छात्रावास के बच्चों को पौष्टिक सब्जियां उपलब्ध कराने के लिये जिले में संचालित सभी आश्रम छात्रावासों में जहां जगह उपलब्ध है, वहां बाड़ी लगाने के निर्देश दिए गए। सहायक आयुक्त आदिवासी विकास ने बताया कि जिले के 34 छात्रावास जहां बाउंड्रीवाल है वहां बाड़ी लगाकर सब्जी उगाये जा रहे हैं। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने निर्देशित किया कि जहां बाउंड्रीवाल नहीं है, वहां तार फेंसिंग और पानी की व्यवस्था कर बाड़ी लगाया जाये।

नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बाड़ी योजना के संचालन के लिये विकासखंड स्तर पर गठित समितियों की बैठक नियमित रूप से लेने और जहां गौठान की भूमि पर अतिक्रमण या विवाद है, उनका निराकरण करने कहा गया। बाड़ी योजना के तहत निःशुल्क सब्जी बीज उपलब्ध कराया जाएगा। जिसके लिये हितग्राही चयन करने का निर्देश दिया गया। साथ ही 14 गौठानों में सामुदायिक पोल्ट्री फार्मिंग की जाएगी। जिसकी तैयारी पशु पालन विभाग द्वारा की जा रही है।

जिले मंे 1 हजार से अधिक नरवा मरम्मत की स्वीकृति हुई है। हफ्ते भीतर हर विकासखंड में कम से कम एक नाला का कार्य शुरू करने का निर्देश दिया गया।प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के तहत सभी विभागों में कार्यरत मजदूरों, छोटे मोटे कार्य करने वाले कर्मचारियों का पंजीयन कराने का निर्देश दिया गया। जिले में अब तक 14 हजार पंजीयन हो चुके हैं। माह मार्च तक 11 हजार और पंजीयन किया जाना है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की समीक्षा की गयी और किसानों की पोर्टल में एंट्री में तेजी लाने के निर्देश दिये।

बैठक में निर्देशित किया गया कि अस्पताल, उद्योग एवं अन्य संस्थाएं जहां पानी का डिस्चार्ज होता है। उनसे इस संबंध में रिपोर्ट ली जाये कि वे दूषित पानी का डिस्चार्ज नहीं कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *