बैगा और बिरहोर में सरकार बांटेगी रेडियो

baigaबिलासपुर—सरकार बिलासपुर जिले के आदिवासी परिवार में रेडियों बांटेगी। छाता का भी वितरण किया जाएगा। बिरहोर और बैगा परिवार में रेडियो और छाता वितरण में करीब करीब 24 लाख रूपए खर्च होंगे।

                                  बिलासपुर जिले के कोटा, तखतपुर गौरेला, मस्तूरी समेत अन्य क्षेत्रों में करीब 3 हजार 75 से अधिक बैगा और बिरहोर की संख्या है। बैगा  और बिहोर परिवार के बीच एक रेडियो और छाता बांटने का फैसला आदिवासी विभाग ने किया है। जनवरी में विभाग ने निविदा जारी किया था। बाद में कुछ खामियों के चलते निविदा को विभाग ने निरस्त कर दिया था।

                एक बार फिर आदिवासी समाज कल्याण विभाग फिर ने निविदा जारी करने का फैसला किया है। फरवरी में निविदा मंगाई जाएगी। मार्च तक सभी आदिवासी परिवार में रेडियो और छाते का वितरण किया जाएगा। योजना के अनुसार क्षेत्र के सभी बैगा और बिहोर परिवार के बीच एक रेडियो और एक छाता वितरण किया जाएगा।

                                रेडियों और छाता बांटे जाने के औचित्य पर आदिवासी समाज कल्याण विभाग के अधिकारी ने बताया कि बैगा और बिरहोर परिवार जंगल में निवास करता है। आदिवासी परिवारों तक बमुश्किल से शासन की योजनाएं पहुंचती हैं। अक्सर पाया गया है कि पिछड़े आदिवासी परिवार के लोग शासन की योजनाओं का समुचित तरीके से लाभ नहीं उठा पा रहे है। इसके कई कारण हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए सरकार ने फैसला कि या है कि बैगा और बिरहोर जाति के लोग शासन की योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा लाभ लें। शासन ने रेडियो और छाता बांटने का फैसला किया है। योजना पर लगातार काम किया जा रहा है।

                    आदिवासी विभाग के अधिकारी ने बताया कि बैगा और बिहोर आदिवासी परिवार को ब्रांडेड रेडियो दिया जाएगा। रेडियों 3 बैण्ड वाला होगा। जिसमें मीडियम के अलावा शार्ट और एफएम वेव होगा। गुणवत्ता को ध्यान में रखते शासन ने फैसला किया है कि छाता का कपड़ा मोटा होगा। उसमें 12 और 8 स्पोकक होंगे।

               बिलासपुर में छाता और रेडियों वितरण योजना में सरकार 24 लाख रूपए खर्च करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *