भारत रत्न ने किया युवा आईएएस का सम्मान

IMG-20160825-WA0088बिलासपुर– सिस्टम को कोसने वालों के सामने युवा आईएएस डॉ.सर्वेश नरेन्द्र भूरे ने शानदार मिशाल पेश किया है। डॉ.भूरे ने देश में प्रदेश का नाम रोशन किया है। भारत रत्न सचिन तेन्दुलकर के हाथों अवार्ड लेता देख प्रदेश ने आज युवा आईएएस पर गर्व महसूस किया है। दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में भारत रत्न राज्यसभा सांसद सचिन रमेश तेन्दुलकर ने स्वच्छता अभियान में अभिनव प्रयास के लिए डॉ.भूरे को सम्मानित किया है।

                            दिल्ली में आयोजित अखिलभारतीय स्तर पर आयोजित स्वच्छता अभियान के कार्यक्रम में क्रिकेट के भगवान सचिन तेन्दुलकर ने युवा आईएएस कवर्धा सीईओ डॉ.सर्वेश भूरे को सम्मानित किया है। डॉ भूरे को यह अवार्ड ओडीएफ में उनके योगदान के लिए दिया गया है।

            महाराष्ट्र के गोंदिया में जन्मे डॉ.सर्वेश नरेन्द्र भूरे ने नागपुर मेडिकल कालेज में एमबीबीएस की डिग्री हासिल की। डॉ.भूरे की पत्नी भी चिकित्सक हैं। डॉ.सर्वेश भूरे बिलासपुर में जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी रह चुके हैं। वर्तमान में कवर्धा जिला पंचायत में मुख्य कार्यपालन अधिकारी के पद ही काम कर रहे हैं।

                          बहुमुखी प्रतीभा के धनी डॉ भूरे ने बिलासपुर में काम करते हुए विभिन्न कार्यो में अपना छाप छोड़ा है। केन्द्र सरकार की स्वच्छता मिशन को बिलासपुर में रहते हुए जन-जन तक पहुंचाया है। स्वच्छता मिशन के मोर भाइया अभियान में उनके प्रयास से एक विकलांग मुहबोली बहन के लिए दूसरे जाति के भाई ने अपने खर्च पर शौचालय बनवाया। जिसकी पूरे देश ने प्रशंसा की। बीबीसी में भी भूरे का काम सराहा गया। मुंहबोले भाई और बहन को मिलेलियम स्टार के हाथों केन्द्र सरकार ने सम्मानित किया।

                                              डॉ.भूरे के अभिनव प्रयास से कनोई में प्राकृति संसाधनों से शौचालय का निर्माण कराया गया। बांस के घेरे से तैयार शौचालय को देश ने बिलासपुर जिला पंचायत के प्रयासों को दुबारा सराहा। सरल,मृदुभाषी,काम के प्रति जुनूनियत रखने वाले डॉ.भूरे के प्रयास से बिलासपुर जिले के कई जिलों में लोगों ने बिना शासकीय प्रयास से शौचालय बनवाए। जिला प्रशासन और राज्य सरकार ने उनकी ऊर्जा की जमकर तारीफ की।

                        जानकारी के अनुसार कवर्धा जिला पंचायत सीईओ रहकर डॉ.भूरे ने जिस काम को अंजाम दिया वह किसी रिकार्ड से कम नहीं है। मात्र तीन महीने के भीतर उनके और जिला प्रशासन के प्रयास से 96 ग्राम पंचायतों को शौचालय बनाया गया है। तीस हजार से अधिक शौचालयों का निर्माण रिकार्ड कम समय में पूरा कर ओडीएफ मुक्त किया गया है।

                                        डॉ.भूरे के प्रयासों को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार की अनुशंसा पर केन्द्र सरकार ने उन्हें प्रशस्ति पत्र भेंटकर सम्मानित किया है। युवा आईएएस को दिल्ली में आयोजित स्वच्छता अभियान के कार्यक्रम में भारत रत्न,राज्यसभा सांसद क्रिकेट के भगवान सचिन तेन्दुलकर ने भी जमकर तारीफ की है। इस मौके पर देश की नामचीन हस्तियां भी उपस्थित थीं।

Comments

  1. By Manish MIshra, Asst. Dir. Planning & Statistics, Janjgir

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *