भारी पड़ सकता है अधीक्षण यंत्री का विरोध…नेता पर गिर सकती है निष्कासन की गाज

SADAKबिलासपुर— जनता कांग्रेस नेता अंकित गौरहा ने हिर्री थाना क्षेत्र में रायपुर बिलासपुर सड़क जाम करने का एलान किया है। अंकित गौरहा ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री सड़क योजना के प्रभारी अधीक्षण यंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। गौरहा ने आरोप लगाया है कि वरूम सिंह राजपूत के लोग उन्हें मोबाइल पर मारपीट की धमकी दे रहे हैं। सड़क निर्माण में सात करोड़ के भ्रष्टाचार को मीडिया में नहीं उछालने के लिए लगातार दबाव बना रहे हैं। अंकित गौरहा ने बताया कि वरूण राजपूत समेत ठेकेदारों से उन्हें खतरा है। मामले में सोमवार को पुलिस से शिकायत करेंगे।

                       जनता कांग्रेस नेता अंकित गौरहा ने प्रधानमंत्री सड़क योजना के प्रभारी अधीक्षण यंत्री के खिलाफ धमकी देने का आरोप लगाया है। अंकित के अनुसार मोबाइल फोन पर अधीक्षण यंत्री वरूण राजपूत के रिश्तेदार ने मारपीट की धमकी दी है। राजपूत के रिश्तेदार ने कहा कि नहीं जानता कि उसकी पहुंच कहां तक है। यदि राजपूत के खिलाफ बोलना बंद नहीं किया तो गंभीर परिणाम होंगे।

               अंकित ने बताया कि वरूण राजपूत और शुभनारायण पाठक ने सड़क निर्माण में सात करोड़ रूपए से अधिक का घोटाला किया है। चहेते ठेकेदारों और कंपनियों को ठेका देकर करोड़ों रूपयों का चूना लगाया है। अग्रवाल इन्फ्राफिल्ड और मेसर्स बिटुमैक कंस्ट्रक्शन प्रायवेट लिमिटेड कंपनी के मालिकों पर  अधीक्षण अभियंता सड़क निर्माण कार्य ठेका देने में कुछ ज्यादा ही मेहरबान थे। ए.के.राही, एस.एन.पाठक, वरूण राजपूत, लोलेन एक्का, सीएन भारद्वाज,सीमांत तिवारी,रिचा शाही,मीरा सिंह,रमेश चन्द्र,चन्द्रकांत तिवारी ने ठेकेदारों के साथ मिलकर गुणवत्ताहीन सड़क का निर्माण किया है।

                            एमबी के अनुसार अग्रवाल इन्फ्राबिल्ड और बिटुमैक कम्पनी ने सडक नवीनीकरण भुगतान में करोड़ों रूपए खर्च किये। लेकिन सभी सड़कें  सिर्फ एक साल के भीतर खराब हो गयीं या फिर बनायी ही नहीं गयी ।

थाने में शिकायत के बाद कोर्ट का रास्ताANKIT GOURAHA

                अंकित गौरहा ने बताया कि वरूण राजपूत के खिलाफ धमकी मामले में बिलासपुर के सभी थानों में शिकायत करूंगा। चक्काजाम के बाद हाईकोर्ट का भी दरवाजा खटखटाउंगा। कोर्ट से सड़क निर्माण घोटाले में  स्वतंत्र एजेंसी से जांच कराने की मांग करूंगा। जांच के बाद दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। घोटाला सात करोड़ का नहीं बल्कि इससे कहीं ज्यादा का सामने आ जाएगा।

हो सकती है पार्टी से छुट्टी

               सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जोगी कांग्रेस के नेताओं में मामले को लेकर घमासान है। एक पक्ष अंकित को हाइकोर्ट नहीं जाने के लिए कह रहा है। तो दूसरा पक्ष अंकित को बाहर का रास्ता दिखाने को कह रहा है। पार्टी के कुछ बड़े नेताओं ने अंकित को आंदोलन नहीं करने की चेतावनी दी है। छनकर आ रही खबर के अनुसार यदि अंकित गौरहा ने आंदोलन और हाईकोर्ट जाने का जिद नहीं छोड़ा तो पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है। ऐसा नहीं किया गया तो मुंगेली समेत बिलासपुर सीमावर्ती जिलों के कई पदाधिकारी और कार्यकर्ता जनता कांग्रेस से तौबा कर सकते हैं।

                         ऐसी स्थिति में अंकित गौरहा को या तो आलाकमान बाहर का रास्ता दिखा सकते हैं। या फिर वरूण राजपूत की धमकी को नजर अंदाज कर अंकित गौरहा को पार्टी में बने रहने को कह सकते हैं।

Comments

  1. By Preetam Singh

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *