भूपेश बघेल बोले-पुलिस परिजनों का दमन आलोकतांत्रिक,सत्ता मद में राजनैतिक सूझ-बूझ खो चुकी है BJP

रायपुर।पुलिस परिजनों की गिरफ्तारी का कांग्रेस ने कड़ी निंदा करते हुये इसे लोकतंत्र की हत्या करार दिया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि सरकार के खिलाफ लगातार हो रही विरोध प्रदर्शन से घबराकर और बौखलाहट में मुख्यमंत्री रमन सिंह लोकतंत्र में मिली अभिव्यक्ति की आजादी का हनन कर रहे हैं। प्रदेश में 14 साल से अधिक समय से सरकार चला रही भारतीय जनता पार्टी अपनी राजनैतिक विचार शक्ति खोकर प्रजातंत्र को नुकसान पहुंचा रही है।

लोकतांत्रिक तरीके से अपनी मांगों के लिये प्रदर्शन करने वाले पुलिसकर्मियों के परिजनों ने आंदोलन की घोषणा एक महिने पहले से की थी। सत्ता के अहंकार में डूबी भारतीय जनता पार्टी सरकार ने एक बार भी इन पुलिस परिजनों की परेशानियों उनकी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार नहीं किया। सरकार में बैठे हुये लोगों में इतनी भी राजनैतिक सूझ-बूझ नहीं थी कि वे उनसे बातचीत करते इस आंदोलन को रोकते और समस्या का राजनैतिक प्रशासनिक हल ढूंढ पाते।

रमन सिंह सरकार ने शांतिपूर्ण आंदोलनों को कुचलने के लिये बल प्रयोग, धमकी, गिरफ्तारी, बर्खास्तगी जैसे रास्तों को अपनाया जो कि लोकतंत्र में सर्वथा अस्वीकार्य है। आधी रात को पुलिस के परिजनों को सरकारी आवास से खदेड़ा गया। उनके वृद्ध माता-पिता, बच्चों  को डराया गया। सेवा से बर्खास्त करने की कार्यवाही की गयी। पुलिसकर्मियों से जबर्दस्ती शपथपत्र हस्ताक्षर करवाया गया।

पूरी तरीके से राज्य में पुलिसकर्मियों के परिजनो एवं उनके आंदोलन को समर्थन दे रहे कांग्रेस के नेताओं, कार्यकर्ताओं को जबर्दस्ती गिरफ्तार किया गया। नजरबंद किया गया। अघोषित आपातकाल लगा दिया गया। पुलिस वालों को अपने ही परिजनों पर लाठी चलाने गिरफ्तार करने मजबूर किया गया। जिस शोषण अत्याचार दमन के खिलाफ आंदोलन किया जा रहा था उसी का शिकार पुलिस के परिजन हुये। तानाशाही रवैया अपनाकर पुलिस के आंदोलन को कुचला गया।

पूरे राज्य ने रमन सिंह भाजपा का आंतक देख लिया, अब जनता ये आंतकित करने वालों को यहां से खदेड़ेगी, कांग्रेस की सरकार बनेगी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि पुलिस परिजन चिंता न करें, कांग्रेस की सरकार बनने पर उनकी मांगो को पूरा किया जायेगा। रमन सरकार से सभी वर्ग हताश, परेशान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *