रायपुर में मिली मंगला से गायब नाबालिग लड़की…पुलिस टीम को सफलता…8 दिन बाद पकड़ाया 376 का आरोपी

बिलासपुर—बिलासपुर पुलिस ने आठ दिन पहले मंगला से गायब नाबालिग युवती को रायपुर से बरामद किया है। अपहरण के आरोपी को भी रायपुर से फरार होेते बिलासपुर की टीम ने धर दबोचा है। पकडे गए आरोपी का नाम धन्नुलाल चतुर्वेदी पिता परदेशी लाल चतुर्वेदी है। आरोपी ने लड़की को तीन जुलाई को लेकर फरार था  गायब लड़की के पिता ने चार जुलाई को सिविल लाइन थाना पहुंचकर शिकायत की थी। पुलिस कप्तान प्रशांत अग्रवाल के निर्देश पर कार्रवाई करते हुए अपरहण के दोषी को रायपुर में भिलाई की तरफ फरार होते धर दबोचा गया।

               एडिश्नल एसपी ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि मंगला गांव निवासी पेशे से शिक्षक ने चार जुलाई को थाने में अपनी बेटी की अपहरण की शिकायत की। शिक्षक ने बताया कि रोज की तरह वह अपने काम से स्कूल गया। घर में बेटी बेटा और पत्नी थी। साढ़ तीन बजे बेटी ने फोन पर बताया कि वह डांस क्लास जा रही है। शाम को घर लौटा तो बेटी ने मिली। घर में उसकी साइकिल भी थी। काफी खोजबीन के बाद सिविल लाइन थाने में शिकायत दर्ज करने आया है।

पुलिस की तीन टीम–खंगाले गए 150 सीसीटीवी

                       ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि शिकायत के बाद मामले को पुलिस कप्तान के संज्ञान में लाया गया। शिक्षक के घर से लेकर चारो दिशा में तीनों टीमों ने छानबीन शुरू की। टीम ने दीनदयाल कालोनी से रेलवे स्टेशने जाने वाले रास्तों के करीब 150 से अधिक सीसीटीवी को खंगाला। रेलवे स्टेशन की सीसीटीवी को भी देखा गया।

                    सीटीटीवी खंगालने के दौरान फुटेज में पाया गया कि अपहरण की गयी बालिक करीब साढ़े 6 बजे रेलवे स्टेशन पहुंचती है।करीब एक घंटे बाद शाम सात बजे दीनदयाल कालोनी निवासी धन्नुलाल चतुर्वेदी को देखा गया। उसने टिकट काउन्टर से टिकट लिया। इसके बाद मामले की छानबीन शुरू हुई। इस दौरान पुलिस को जानकारी मिली की धन्नुलाल ने ईतवारी एक्सप्रेस की चार टिकटे लिए। इसमें दो टिकट रायपुर के और दो नागपुर के थे। इसके बाद फुटेज में देखा गया कि धन्नुलाल नाबालिग के साथ ईतवारी एक्सप्रेस में चढ़ा।

                 ओपी शर्मा ने बताया कि फुटेज से मिली जानकारी के बाद पुलिस कप्तान ने तीनों टीमों को आदेश दिया कि आरोपी को जल्द से जल्द पकड़ा जाए। छानबीन के दौरान पुलिस को जानकारी मिली की आरोपी ने अपहरणं की घटना के बाद एक बार भी मोबाइल को आन नहीं किया। और ना ही प्रयोग किया। लेकिन पुलिस ने सायबर सेल के सहयोग से जानकारी मिली कि आरोपी को रायपुर में ताटीबंध इलाके में देखा गया है। 12 जुलाई को पुलिस कप्तान के निर्देश पर तीनों टीमों को रायपुर रवाना किया गया।

डोर टू डोर तलाशी

                   पुलिस ने रेलवे स्टेशन से लेकर टाटीबंध,चंदनीडीह और आ्मापारा इलाके के सभी हाटलों को खंगाला। लेकिन पुलिस को किसी प्रकार की कामयाबी नहीं मिली। इस दौरान टीम को जानकारी मिली कि आरोपी धन्नुलाल के तार भिलाई से भी जुड़े हैं। तत्काल एक टीम भिलाई के लिए रवाना हुई। भिलाई में पुलिस को जानकारी मिली कि आरोपी को 12 जुलाई को रायपुर के चंदनीडीह में देखा गया था। इसके बाद पुलिस टीम ने चंदनीडीह पहुंंचकर बालिका फोटो लेकर डोर टू डोर तलाशी शुरू की। तलाशी के दौरान जानकारी मिली कि आरोपी चंदनीडीह में ही बालिका को एक किराए के मकान में रखा है। उसे अपनी बेटी बताता है।

नाबालिग बालिको को बरामद

                       खबर मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर छापामार कार्रवाई कर बालिका को अपने कब्जे में लेकर बिलासपुर भेज दिया। इधर छापामारी की खबर मिलते ही आरोपी सतर्क हो गया। 3-4 दिनों तक आरोपी टाटीबंध और चंदनीडीह में स्थान बदल बदल कर बचने का प्रयास किया।

                  इधर आरोपी को पकड़ने बिलासपुर पुलिस लगातार प्रयास करती रही। लोगों से उसका फोटो दिखाकर पूछती रही है। इसी दौरान पुलिस को भनक लगी कि धन्नुलाल बिलासपुर की पुलिस से बचने बस से भिलाई की तरफ भाग रहा है। इसके बाद पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए धन्नुलाल को बस से धर दबोचा गया।

376 का आरोप दर्ज

                       इधर बरामद की गयी बालिका से पुलिस ने पूछताछ की। सिविल लाइन थाने में बालिका के बयान को दर्ज किया गया। बालिका के बयान के  आधार पर अपहरणकर्ता धन्नुलाल चतुर्वेदी के खिलाफ सीआरपीसी की धारा 365,366,376, आईपीसी की धारा 6,10 पोक्सो एक्ट 2012 के तहत अपराध दर्ज किया गया। आरोपी को न्यायिक रिमाण्ड में जेल भेज दिया गया है।

                         एडिश्नल एसपी ने बताया कि अपहृत बालिका को पता लगाने और आरोपी की गिरफ्तारी में सिविल लाइन थाना प्रभारी कलीम खान,प्रशिक्षु डीएसपी आशा सेन, उप निरीक्षक फैजुल शाह,प्रधान आरक्षक विष्णु साहू, आर जय साहू,तरूण केशरवानी, आर विवेक राय,मनोज शर्मा की भूमिका काबिले तारीफ रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *