मेरा बिलासपुर

मटियारी सीपत मे परिवार के 5 सदस्यों की सामुहिक हत्या..बड़ा बेटा ने दिया घटना को अंजाम..वाहन की चपेट में आने से मौत

बिलासपुर—- बीती देर रात्रि करीब तीन बजे के आसपास मटियारी में एक ही परिवार के 5 सदस्यों की हत्या हो गयी है। परिवार का बड़ा बेटा रोशन ने अपने माता पिता और भाई बहन को कुल्हाड़ी से मौत के घाट उतारा है। हत्या को अंजाम देकर भागते समय रोशन की भारी वाहन की चपेट में आने मौके पर ही मौत हो गयी। एक  ही परिवार में मौत का तांडव देखने वाला नाबालिग रिश्तेदार ने मामले की जानकारी दी है।
 
            गुरूवार और शुक्रवार की दरमियानी रात करीब 3 बजे मटियारी सीपत थाना स्थित एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत हो गयी है। परिवार के पांच सदस्यों को मौत के घाट उतारने वाला रोशन सूर्यवंशी की भागते समय घर के ही सामने किसी भारी वाहन के चपेट में आने से मौत हो गयी है।
 
             घटना का चश्मदीद हत्यारे रोशन सूर्यवंशी की बुआ का लड़का ने बताया कि रोशन ने हत्या की घटना को देर रात अंजाम दिया। नाबालिग रिश्तेदार ने बताया कि वह पंधी का रहने वाला है। घटना की शाम को मटियारी रोशन के घर गया था। खाने पीना के बाद हम लोग सोने चले गए। इसी बीच रोशन सूर्यवंशी ने लोमहर्षक काण्ड को अंजाम दिया।
 
                         नाबालिग चश्मीदद रिश्तेदार ने बताया कि रात्रि करीब साढ़े तीन बजे के आसपास उसकी नींद खुली। रोशन सूर्यवंशी को हाथ में खून लगी कुल्हाड़ी के साथ देखा। स्थिति को देखते ही वह हड़बड़ा कर उठ गया। उस समय वह रोशन के छोटे भाई ऋषि सूर्यवंशी के साथ एक ही खटिया पर सोया था।
 
           जागने के बाद डर गया। इसी बीच भयंकर हो चुके रोशन सूर्यवंशी ने कहा कि यदि जान बचाना है तो भाग जाए। इसके बाद वह सायकल उठाकर आनन फानन अपने घर पंधी पहुंचा। मां पिता को घटना की जानकारी दी। खबर के बाद हम सभी लोग मटियारी पहुंचे। यहां पहुंचने पर घर के सामने सड़क पर हत्यारा रोशन सूर्यवंशी को मृत पाया। शायद भागते समय किसी भारी वाहन की चपेट में आने से मौत हो गयी है।
 
तीन से साढ़े तीन बजे के बीच हत्या
    
       जानकारी के अनुसार हत्यारा रोशन सूर्यवंशी पिता रूपदास और मां संतोषी बाई का बड़ा बेटा है। रोशन ने ही अपने पिता रूपदास पिता स्वर्गीय वेदराम सूर्यवंशी उम्र 45 साल को कुल्हाड़ी से मौत के घाट उतारा। इसके बाद  मां संतोषी बाई सूर्यवंशी की हत्या की। अपने से छोटे भाई रोहित सूर्यवंशी उम्र 20 साल को मौत के घाट उतारा। इसके बाद बहन कुमारी कामनी को भी कुल्हाड़ी की वार से मार डाला। अन्त में नाबालिग बुआ के लड़के को भगाने के बाद सबसे छोटे बाई ॠषि सूर्यवंशी पिता रूपदास उम्र 15 साल को भी खाट पर ही मौत की नींद सुला दिया। 
 
बाहन के चपेट में आने से हत्यारे की मौत
     हत्यारे की बुआ के नाबालिग लड़के के अनुसार रोशन की धमकी के बाद वह घर आ गया। जब लौटकर देखा तो रोशन अपने घर के सामने मुख्य मार्ग पर मरा हुआ पड़ा है। उसका सिर किसी वाहन की चपेटे में आ गया है। 
 
पुलिस का बयान नशे का आदी था
      
            सीपत पुलिस थानेदार मानसिह राठिका ने बताया कि रोशन नशे का आदी था। गांव वालों ने भी यही कुछ कहा है। घटना दो से तीन बजे के बीच की है। घर में रोशन जिस थाली में खाया था वह अभी भी रखा हुआ है। शायद वह देर रात नशे के बाद घर लौटा । और मां बाप भाई बहन को मौत के घाट उतार दिया। फिलहाल चश्मीदीद नाबालिग को संरक्षण मेंलिया गया है। पूछताछ होगी इसके बाद ही घटना की वास्तविक जानकारी मिल पाएगी।

डॉ.सारांश मित्तर का तखतपुर का दौरा ..क्वारंटीन से निकलकर..बाढ़ और राहत बचाव कार्य का लेंगे जायजा..
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS