मवेशी तस्करी फिर चालू……यूपी ले जाते सोनहत में पकडा गया एक आरोपी….. बाकी फरार

वाड्रफनगर (आयुष गुप्ता ) ।  मवेशी तस्कर फिर अपनी मौजूदगी  दर्ज करा रहे है । वे रात के अँधेरे में जंगल का सहारा लेकर पड़ोसी राज्य में मवेशियों को ले जाते हुवे पकड़े गए । चार मवेशी के साथ एक शख्स गिरफ्तार हुआ है । अन्य पुलिस को देख नव दो ग्यारह हो गए ।-
बलरामपुर जिले का सरहदी इलाका हमेशा से पशु तस्करों का गढ़ बना रहा है । मगर बीते सालो में पुलिस की ताबड़ तोड़ कार्यवाही से पशु तस्करों के होसले पस्त थे । लेकिन जिले के थाना क्षेत्र रघुनाथनगर में हुई गिरफ्तारी ने पशु तस्करों की मौजूदहीदगी फिर दर्ज करा दी है । दरअसल रघुनाथनगर पुलिस को मुखबीर के जरिए सूचना मिली थी, कि कुछ पशु तस्कर मध्यप्रदेश से अलग – अलग टुकडियो में मवेशियों को जंगल के रस्ते हाकते हुए ला रहे है और छत्तीसगढ़ की सीमा को पार कर उत्तर प्रदेश ले  जाने की फ़िराक में है। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने देर रात सोनहत जंगल के रास्ते पर दबिश दी तो एक शख्स कालीचरण को हितासत में लिया और उसके पास से चार मवेशी भैस जप्त किया गया । वही पुलिस की मौजूदगी देख कालीचरण के दो अन्य साथी फरार हो गए  ।  जो आगे पीछे बाईक से रैकी कर रहे थे।  वही आरोपी को छत्तीसगढ़ राज्य कृषक पशु परिवेक्षण की धारा  4(6,10)के तहत कार्यवाही करते हुए जेल भेज दिया गया है। ज्ञात हो कि बलगी रघुनाथनगर वाड्रफनगर होते हुए मवेशी तस्कर झारखंड तथा उत्तर प्रदेश में बुचड खाने में मवेशियों को ले जाते हैं  । आपसी प्रतिस्पर्धा के कारण 7 साल पूर्व मवेशी दलाल कैलाश कुशवाहा को तस्करों ने जंगल में हत्या कर दी थी  । जिसके बाद से  पुलिस की कार्यवाही से यह धंधा 2 साल के लिए बंद हुआ था  ।  किंतु पुलिस प्रशासन की उदासीनता से एक बार पुनः या धंधा चालू हो गया है  ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *