मेरा बिलासपुर

महामंत्री और जिला अध्यक्ष ने कहा…बेनकाब हुआ केन्द्र का चेहरा…अब किसान करेंगे दिल्ली कूच

बिलासपुर—प्रदेश कांग्रेस के निर्देश पर आज जिला कांग्रेस कार्यालय में जिला अध्यक्ष ग्रामीण विजय केशरवानी और प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव ने पत्रकारों से बातचीत की। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि भारत सरकार ने 2500 रूपए प्रति क्विंटल के हिसाब से धान खरीदे जाने से इंकार किया है। साथ भारत सरकार ने धमकी भी दी है कि यदि राज्य सरकार ने इस मूल्य पर धान खरीदा तो केन्द्र सरकार छत्तीसगढ से धान नहीं खरीदेगी। अटल और विजय ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस के निर्देश पर जिला समेत प्रदेश के सभी किसान दिल्ली पहुंचकर घेराव करेंगे। प्रधानमंत्री को पत्र भी देंगे। साथ ही मांग पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन के लिए भी तैयार रहेंगे।

                             प्रदेश कांग्रेस के निर्देश पर आज जिला कांग्रेस कार्यालय में जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी और अटल श्रीवास्तव ने पत्रकारों से बातचीत की। कांग्रेस नेताओं ने बताया कि जैसा की अनुमान है कि इस साल धान की पैदावर अधिक हुई है। जाहिर सी बात है कि सरकार वादे के अनुसार प्रति क्विंटल 2500 रूपए में धान खरीदेगी। भूपेश सरकार ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर निवेदन किया है कि किसानों की पैदावार को 2500 रूपए के अनुसार ही खरीदा जाए। लेकिन केन्द्र सरकार ने 2500 रूपए प्रतिक्विंटल के हिसाब से धान खरीदने से इंकार कर दिया है। इतना ही नहीं चुनाव के समय बोनस की घोषणा किए जाने के बाद अब केन्द्र सरकार ने बोनस देने से भी इंकार कर दिया है। 

                  अटल और विजय ने बताया कि राज्य सरकार ने जब फैसला कि किसानों की पैदावार को 2500 रूपए के भाव से ही खरीदा जाए। इसके बाद केन्द्रीय खाद्य मंत्री ने धमकी दी है कि यदि किसानों से 2500 रूपए की दर से धान खरीदा गया तो चावल को नहीं खरीदा जाए। 

विधायक ने कहा..लड़कियां पढ़ेंगी.विकास ही गढेंगी..सायकल वितरण कार्यक्रम में विधायक ने कहा..देश के विकास में बराबर का योगदान

              दोनों नेताओं ने बताया कि केन्द्र सरकार के फैसले से जाहिर हो गया है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता किसान विरोधी हैं। उनकी करनी और कथनी में भेद है। किसानों की हालत बेहतर हो केन्द्र सरकार ऐसा बिलकुल चाहती है। इसलिए कांग्रेस ने फैसला किया है कि केन्द्र की तानाशाही के खिलाफ ब्लाक से लेकर राज्यस्तर पर उग्र किसान आंदोलन किया जाएगा। जगह धरना प्रदर्शन कर केन्द्र सरकार और भाजपा नेताओं की किसान विरोधी नीतियों का विरोध किया जाएगा। 

ब्लाक और जिला स्तर पर धरना प्रदर्शन

                    विजय केशरवानी ने बताया कि कांग्रेस कार्यकर्ता बूथ स्तर पर किसानों के बीच हस्ताक्षर अभियान चलाएंगे। किसानों के पत्र को इकठ्ठा कर 12 नवम्बर तक रायपुर कार्यालय पहुंचाया जाएगा। 13 नवम्बर को प्रदेश मुख्यालय से किसानों के साथ प्रदेश कांग्रेस कमेटी और कांग्रेस कार्यकर्ता हजारों गाड़ियों में सवार होकर सड़क रास्ते से दिल्ली रवाना होंगे। दिल्ली में प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल और पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम की अगुवाई में धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

                     विजय केशरवानी  ने बताया कि मांग पूरी नहीं होने के बावजूद राज्य सरकार वादे के अनुसार 2500 प्रति क्विंटल के अनुसार ही किसानों से धान खरीदेगी। लेकिन इसके पहले केन्द्र की किसान विरोध नीतियों की जानकारी कांग्रेस पार्टी जन जन तक पहुंचाएगी।

महेश दुबे मामले में जवाब से इंकार

             सवाल जवाब के दौरान विजय ने बताया कि बिलासपुर संभाग के सभी ब्लाक मुख्यालयों में कांग्रेस नेता 8 नवम्बर को धरना प्रदर्शन करेंगे। जिला स्तर पर 11 नवम्बर को धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

                 सीएम के खिलाफ गाली गलौच करने वाले कांग्रेस नेता के खिलाफ क्या कदम उठाए जांएगे के  सवाल को टालते हुए विजय ने कहा कि फिलहाल पत्रकार वार्ता किसानों के हितों को लेकर है। इसलिए फिलहाल सवाल का जवाब देना उचित नहीं होगा। क्या पीसीसी ने गाली  गलौच मामले में कुछ निर्देश दिया है या जानकारी तलब किया है। सवाल के जवाब को टालते हुए विजय ने मामले में कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया। उन्होने कहा कि पहले पता तो चले की गाली गलौच हुआ भी है या नहीं।

जायजा लेने लवन पहुंचे कलेक्टर...लगवाया बूस्टर डोज..जनता से कहा..महाअभियान में बने भागीदार

हजारों गाड़ियों में जाएंगे बीस लाख किसानों का पत्र

                  अटल और विजय ने बताया कि प्रदेश में बीस लाख से अधिक किसान है। सभी किसानों के पत्रों को सैकड़ों गाड़ियों में सड़क रास्ते से दिल्ली ले जाएंगे। पत्र में किसानों की मांग होगी कि बोनस दिया जाए। पिछली सरकार ने छल किया है। कांग्रेस सरकार ने जब 2500 रूपए के हिसाब से धान खरीदने के फैसले का स्वागत किया है। यदि केन्द्र सरकार किसानों का हित चाहती है तो राज्य सरकार के घोषणा के अनुसार धान की खरीदी की जाए। अन्यथा प्रदेश के किसान उग्र आंदोलन को मजबूर होंगे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS