मेरा बिलासपुर

मेंटल अस्पताल की व्यवस्था पर जस्टिस ने जताई चिंता

बिलासपुर—छ.ग.nirikchad karte collector - jastis (4)हाईकोर्ट के जज और राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष जस्टिस प्रीतिकर दीवाकर तथा कलेक्टर अन्बलगन पी. ने आज सेन्दरी स्थित राज्य मानसिक चिकित्सालय का निरीक्षण किया।

                निरीक्षण के दौरान महिला और पुरूष वार्ड का निरीक्षण कर भर्ती रोगियों से बातचीत की। किचन में निरीक्षण कर पके हुए भोजन के बारे में जानकारी ली। अस्पताल में साफ-सफाई का जायजा लिया। अस्पताल अधीक्षक से भोजन मेनू और मरीजों को दिए जाने वाले भोजन की गुणवत्ता और मात्रा की जानकारी ली। किचन में खाने के बर्तनों की कमी बताई गई। साथ ही मरीजों को कम खाना की पर भी जस्टिस दीवाकर ने पूछताछ की।

                 जस्टिस ने अस्पताल में साफ-सफाई और शौचालयों की स्थिति पर भी असंतोष जताया। वार्डों में निरीक्षण के बाद संयुक्त संचालक स्वास्थ्य के कक्ष में उन्होंने अस्पताल के चिकित्सकों, नर्सों, साइकियाट्रिक सोशल वर्कर के साथ अलग-अलग बैठक कर अस्पताल के बारे में जानकारी प्राप्त की।

             वर्तमान में इस 100 बिस्तर के अस्पताल में 117 मरीज भर्ती हैं। राज्य के विभिन्न हिस्सों से यहां लोग इलाज कराने पहुंचते हैं। अस्पताल के ओ.पी.डी. के बारे में जानकारी जस्टिस दीवाकर ने ली। बताया गया कि प्रतिदिन लगभग 25 से 30 मरीज ओ.पी.डी. में आते हैं।

             अस्पताल में दवाइयों के साथ-साथ पैथोलाजिस्ट, मेट्रन तथा नर्सिंग स्टाफ की कमी बताई गई। जस्टिस दीवाकर ने कहा कि कानून से संबंधित कोई भी समस्या हो तो जिला या राज्य विधिक सेवा कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है।

                निरीक्षण के दौरान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के सदस्य सचिव रजनीश श्रीवास्तव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव शैलेष शर्मा भी उपस्थित थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS