चौक चौराहों का काम मेनुअल के अनुसार-रानू साहू

RanuSahu-12-Aug-2014बिलासपुर—यातायात दबाव कम करने शासन के आदेश के बाद नगर निगम ने विशेष अभियान चलाते हुए शहर के चौक चौराहों को सुव्यवस्थित बनाने का प्रयास किया जा रहा है। आम नागरिकों को यातायात की बेहतर व्यवस्था के लिए सिटी बस का संचालन भी किया जा रहा है। शहर के सभी चौक चौराहों को छोटा कर जाम की स्थिति से शहरवासियों को बचाने का प्रयास किया जा रहा है।

                             जिला प्रशासन, नगर निगम और यातायात पुलिस के संयुक्त प्रयास से यातायात को व्यवस्थित करने चौक चौराहों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। निगम ने चौक चौराहों के आईलैड को छोटा कर ट्रैफिक को सुगम बनाने का प्रयास किया है। अभियान के तहत पुराने बस स्टैंड स्तित श्यामा प्रसाद मुखर्जी चौक और नेहरू चौक के आाईलेण्ड को छोटा किया गया। जरहाभाठा चौक और महाराणा प्रताप चौक के लेफ्ट साइड को क्लियर करने का काम निगम ने किया है।

                     निगम आयुक्त ने बताया कि चौक को छोटा करने और तोड़-फोड़ के दौरान हटाए गए आईलैण्ड वाले स्थान पर सड़कें काफी खराब हो गयी थीं। जिसके चलते लोगों को धूल मिट्टी का सामना करना पड़ता था। भारी वाहनों के फंसने की संभवना भी बढ़ गयी थी। लोगों को  काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था।  दुघर्टना की हमेशा संभावना बनी रहती थी।  इस बात को ध्यान में रखते हुए निगम प्रशासन ने हटाए गए आईलैण्ड वाले स्थान पर डामरीकरण का कार्य आनंदी बिल्डर्स को दिया है। सड़क बनने के बाद जल्द ही लोगों को गड्ठों और धूल से छुटकारा मिल जाएगा।

                 निगम कमिश्नर ने बताया कि महाराणा प्रताप चौक से राजीव गांधी चौक तक सड़क डामरीकरण कार्य के लिए एक करोड़ तिरसठ  लाख की स्वीकृति शासन से मिली है। सड़क निर्माण और मरम्मत के लिए 136.94 लाख रू. की निविदा को 17 जुलाई 2015 को एम.आई.सी. की बैठक में पास किया गया। 22 जुलाई 2015 को सामान्य सभा की बैठक में प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित किया गया था।

                               प्रस्ताव पारित होने के बाद  मेसर्स आनंदी बिल्डर्स को 4 दिसम्बर 2015 को सड़क निर्माण और डामरीकरण का अनुबंध दिया गया। रानू साहू ने बताया कि आनंदी बिल्डर्स ने उक्त स्थान पर 126.66 लाख का कार्य किया है। कार्य के बाद शेष राशि से  नेहरू चौक को छोटा करने के बाद डामरीकरण किया जाएगा। इसके अलावा श्यामाप्रसाद मुखर्जी चौक को छोटा करने के बाद आईलैण्ड वाले खाली स्थान का डामरीकरण और महाराणा प्रताप चौक से नेहरू चौक तक समानान्तर रोड का एप्रोच कार्य होगा।

              निगम आयुक्त ने बताया कि पुनरीक्षित प्राक्कलन 150 लाख रूपए का तैयार किया गया है। इसमें 13 लाख पांच हजार रूपए का अतिरिक्त कार्य स्थल परिवर्तन करते हुए कराने का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है।  एम.आई.सी. ने 25 अप्रैल को एक बैठक में प्रस्ताव को हरी झण्डी भी दे दिया है।

                         रानू साहू ने बताया कि समाचार पत्रों में पढ़ने को मिला है कि चौक को छोटा करने और सड़क निर्माण का कार्य बिना टेंडर के कराया गया है। यह खबर सरासर गलत है। सिविल वर्क्स मेनुअल के अनुसार 25 प्रतिशत राशि की वृद्धि करते हुए पूर्व अनुबंध ठेकेदार से कार्य कराया जा सकता है। इस कार्य में मात्र. 9.53 प्रतिशत  की वृद्धि हुई है। जो कि विधि सम्मत और नियमानुसार भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *