मेयर ने कहा…कम्पनी कर्मचारियों के साथ निगम कर्मचारी भी करेंगे टैक्स वसूली…सभापति के प्रस्ताव पर MIC की लगी मुहर

बिलासपुर—हम सभी को मिलकर निगम को मजबूत बनाना है। निगम अंतर्गत चल रहे सभी निर्माण कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। किसी भी कार्यों की गुणवत्ता में कोई समझौता नहीं होगा। यह बात मेयर रामशरण यादव ने एमआईसी की पहली बैठक को संबोधित करते हुए कही। एमआईसी की बैठक निगम दृष्टि सभाकक्ष में शाम 4 बजे से शुरू हुई।
 
          बैठक में  प्रस्ताव क्रमांक 1 से लेकर 7 तक में शासन के मुख्यमंत्री पेंशन योजना, समाजिक पेंशन योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय पेंशन योजना, सुखद सहारा पेंशन योजना, राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय पेंशन योजना के लिए प्राप्त पात्र हितग्राहियों को स्वीकृति प्रदान की गई। प्रस्ताव क्रमांक 8 में सेवानिवृत्ति उपरांत शासन के पत्र के अनुसार लाल बहादुर शास्त्री स्कूल के प्राचार्य डा. भारती तिवारी को 30 अप्रैल 2020 तक पुनर्नियुक्ति की अनुमति दी गई। 
 
            प्रस्ताव क्रमांक 8 में राजकिशोर नगर सामुदायिक भवन के आरक्षण शुल्क और एक चैकीदार रखने की अनुमति दी गई। प्रस्ताव क्रमांक 10 में गांधी चैक से जगमल चैक तक के नाली निर्माण में नियमानुसार अतिरिक्त स्वीकृति दी गई। प्रस्ताव क्रमांक 11 में नूतन चैक स्थित प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत निर्मित मकानों के पास सामुदायिक भवन निर्माण की स्वीकृति दी गई।  पुराना सरकंडा पुलिस से मुक्तिधाम चौक तक बीटी सड़क नवीनीकरण और वार्ड 63 अभिषेक पाण्डेय के घर से जिला क्षय नियंत्रण केंद्र तक सीसी सड़क और वार्ड क्रमांक 67 में बिलासा ताल उद्यान से लेकर विजय पाण्डेय के घर तक सीसी सड़क निर्माण की स्वीकृति दी गई।
 
              प्रस्ताव क्रमांक 15 से 17 तक में कालोनी हस्तांतरण की स्वीकृति दी गई। प्रस्ताव क्रमांक 19 में निगम के अंतर्गत 300 प्लेसमेंट कर्मचारियों के लिए निविदा करने की अनुमति दी गई। बैठक में एमआईसी सदस्यों ने किए गए एजेंडा से संबंधित प्रश्नों के जवाब कमिश्नर प्रभाकर पाण्डेय ने दिए। बैठक में एमआईसी सदस्य भरत कश्यप, विजय केशरवानी, राजेश शुक्ला, अजय यादव, सुनीता नामदेव गोयल, पुष्पेंद्र साहू, संध्या तिवारी, मनीष गढ़ेवाल, सीताराम जायसवाल, बजरंग बंजारे, परदेशी राज, अपर आयुक्त आरबी वर्मा, उपायुक्त दिलीप तिवारी, खजांची कुम्हार, निगम सचिव राजेंद्र अवस्थी उपस्थित थे।
 
जवाली नाला का अब नाम होगा रोटरी सड़क
 
मेयर इन कौंसिल की बैठक में सभापति शेख नजीरूद्दीन ने जवाला नाला का नाम रोटरी नाला रखने का प्रस्ताव लाया। उन्होंने बताया कि 30 साल पहले बरसात के दिनों में पूरे शहर में जल भराव की भयावह स्थिति बनती थी। नाव चलाकर राहत कार्य पहुंचाया जाता था। इस दौरान रोटरी क्लब के सहयोग से जरहाभांठा जवाली नाला से मनोहर टाकीज तक नाला का निर्माण कराया गया। इससे पानी निकास की समस्या से छुटकारा मिला और भयावह जल भराव की स्थिति पर काबू पाया गया। वर्तमान में इस नाले के ऊपर स्लैब डालकर सड़क निर्माण कराया गया है। इसलिए रोटरी सड़क नाम रखा जाना चाहिए।
 
कर वसूली पर दें ध्यान
 
             बैठक में मेयर रामशरण ने संपत्ति कर, जलकर और समेकित कर की समीक्षा की । उन्होंने अभीतक बहुत कम वसूली होने की बात कही। मेयर यादव ने कहा कि वर्तमान में स्पायरों कंपनी कर वसूली कर ही है। लोगों का विश्वास प्राइवेट कर्मचारी पर नहीं होता। इसलिए उनके साथ निगम के भी कर्मचारियों की ड्यूटी लगाने और ज्यादा से वसूली करने की बात कही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *