हमार छ्त्तीसगढ़

मेरी नसीहत अब समझ में आई–जोगी

ajjeet jogiरायपुर—कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजीत जोगी ने राज्य में रमन सरकार के 12 वर्ष पूर्ण होने और सरकार के उत्सव नहीं मनाने पर प्रतिक्रिया दी है कि रमन सरकार उत्सव न मनाकर ठीक ही कर रही है। उन्होंने कहा कि मेरे मुख्यमंत्रीत्वकाल में 12 लाख गरीब परिवार प्रदेश में थे।आज बढ़कर 60-70 लाख हो चुके हैं। क्या यही प्रदेश का विकास है?

              जोगी ने कहा कि मेरे तीन साल के शासनकाल और उस समय के प्रदेश के आठ हजार करोड़ के बजट और वर्तमान के सत्तर हजार करोड़ के बजट से यदि तुलना करें तो पहली नजर में ही विकास का दावा खोखला नजर आता है। प्रथम के तीन वर्षों में छत्तीसगढ़ की चकाचक सड़कें आज की सड़कों से बेहतर रही है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में सिम्स, बिलासपुर, एस्कार्ट, रायपुर का निर्माण हुआ। राजधानी में एम्स के निर्माण की शुरूआत मेरे  शासन काल में हुई।

            खेल के क्षेत्र में शहीद वीरनारायण सिंह के नाम पर अंतर्राष्ट्रीय मैदान के रूप में राजधानी में निर्माण शुरू कराया।  जिसे पूरा कराने में वर्तमान सरकार को 10 वर्ष लग गये। एम्स आज भी अधूरा है। मेरे समय में सिंचाई का क्षेत्र 21 प्रतिशत रहा है लेकिन 12 सालों में सिर्फ 10 प्रतिशत रकबा ही वर्तमान सरकार बढ़ा सकी है। मैंने अपने समय में किसानों की खुशहाली के लिये फसल चक्र परिवर्तन का प्रयास किया था लेकिन उस मुहिम का माखौल भाजपा नेताओं ने उड़ाया था। मेरी नसीहत अब रमन सरकार को समझ में आ रही है।

           जोगी ने कहा कि मेरे मुख्यमंत्रीत्वकाल में अल्प बजट में ही मैंने शक्कर कारखाना, शिक्षा का क्षेत्र के साथ अन्य सभी क्षेत्रों में सर्वांगीण विकास, गुणवत्ता के साथ कराया। उस समय सरकार पर कोई कर्ज नहीं था। आज विकास का दम्भ भर कर अपनी पीठ थपथपा रही रमन सरकार का हाल यह है कि राजकोषीय घाटा 5067 करोड़  है। सरकार पर 8000 करोड़,  बाजार में 5400 करोड़, राष्ट्रीय अल्प बचत निधि की प्रतिभूति से प्राप्त ऋण 1400 करोड़,  वित्तीय संस्थाओं से प्राप्त ऋण बकाया है।

सुराज मे लापरवाही,पटवारी निलंबित

            जिसका 4081 करोड़ रूपये ब्याज के रूप में पिछले वर्ष अदा किया गया जो कि जनता का पैसा है और अब रमन सरकार 8000 करोड़ रूपये के बाण्ड बेचने जा रही है। सरकार का खजाना खाली हो चुका है। रमन सरकार की विकास की स्थिति यह है कि छत्तीसगढ़ के प्रत्येक व्यक्ति को 7000 रूपये का कर्जदार बना दिया है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS