हमार छ्त्तीसगढ़

मॉक पोल करने के बाद नहीं हुई CRC,कलेक्टर ने पीठासीन समेत 4 कर्मचारियो को किया सस्पैंड

[wds id=”13″] निलंबित,कांकेर,दो सहायक शिक्षक (एल.बी),कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी के.एल चौहान,प्रशिक्षण,लोकसभा निर्वाचन,मतदान दल,,चुनाव प्रशिक्षण,नदारतमतदान अधिकारी निलंबित, (पंचायत) केशव राम साहू,शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला रोबा,विकासखण्ड फिंगेश्वर ,निर्वाचन कार्य,लापरवाही,निलंबित ,विधानसभा चुनाव,chhattisgarh,election,news,सहायक अभियंता कमलेश कुमार,छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल,कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी भीम सिंह,बेमेतरा।चुनाव में लापरवाही बरतने के कारण जिले के 04 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी महादेव कावरे ने बताया कि लोकसभा चुनाव 2019 हेतु निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान मॉक पोल कर उन्हे तत्काल डिलीट किए जाने का निर्देश है। इस निर्देश का परिपालन करने हेतु सर्व संबंधितों को निर्देशित किया गया। 23 अपै्रल 2019 को दुर्ग लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत बेमेतरा जिले के मतदान केन्द्र क्रमांक 239 विधानसभा बेमेतरा मे क्लोज रिजल्ट क्लीयर (सी.आर.सी.) नहीं होना खेद जनक है। यह कृत्य सिविल सेवा आचरण नियम 165 के उपनियम 2 तथा लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 27 के विपरीत है। उक्त कार्य में लापरवाही बरतने के कारण कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा निलम्बन आदेश जारी किया गया है.सीजीवाल डॉटकॉम के whatsapp ग्रुप से जुडने यहाँ क्लिक करे

इनमें पीठासीन अधिकारी शिक्षक एल.बी.  रामशरण सिंह ठाकुर शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला पेण्ड्री विकासखण्ड नवागढ़, मतदान अधिकारी क्रमांक-01 सहायक शिक्षक पंचायत भगवान सिंह सिवना शा. प्राथमिक शाला कुरदा विकासखण्ड बेमेतरा, मतदान अधिकारी क्रमांक-02 सहायक शिक्षक एल.बी. जगजीवन राम बघेल शा. प्राथमिक शाला बिनैका विकासखण्ड नवागढ़, मतदान अधिकारी क्रमांक-03 सहायक शिक्षक एल.बी. विक्रम ध्रुव शा. प्राथमिक शाला मगरघटा विकासखण्ड नवागढ़ को मतदान कार्य में लापरवाही बरतने के कारण सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।

निलंबन अवधि में रामशरण सिंह ठाकुर एवं भगवान सिंह सिवना का मुख्यालय जिला शिक्षा अधिकारी(डी.ई.ओ.) कार्यालय बेमेतरा तथा जगजीवन राम बघेल एवं विक्रम ध्रुव का मुख्यालय विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी(बी.ई.ओ) कार्यालय नवागढ़ नियत किया गया है। निलंबन अवधि में इन्हें जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS