मोदी.. मन की नहीं..धन की करते हैं बात– जोगी

jogiरायपुर— पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने नागालैण्ड सेना के साथ उग्रवादी से मुठभेड़ होने पर कहा कि केन्द्र की सरकार और उसके प्रधानमंत्री के द्वारा देश भर में लोकप्रियता लेने के लिये खूब प्रचार किया कि उन्होंने ऐतिहासिक समझौता किया है अब शांति होगी। भाजपा ने अपनी पीठ जमकर थपथपाकर बजाई।  जोगी ने कहा कि  यह समझौता एक ग्रुप से कर सरकार ने नागालैण्ड के लोगों के साथ धोखा किया है और देश की जनता को भी धोखे में रखने का षड़यंत्र किया है।

जोगी ने कहा कि चुनाव के प्रचार में बड़ी.बड़ी बाते करने वाले मोदी,,,प्रधानमंत्री बनने के बाद मालूम हुआ कि राष्ट्रीय मुद्दों पर स्पष्ट नीति उनके पास नहीं  हैं। उन्होंने कहा कि इस समझौते में बीजेपी का स्वार्थ छुपा हुआ है। इसके पीछे कुछ बातें दबाई गई है। समझौता कर एक उग्रवादी गुट को मजबूत करने का षड़यंत्र रचा है। जब सरकार को मालूम है कि वहां कई गुट है तो खापलाग गुट को भी शामिल क्यों नहीं किया गया।

                            शांति समझौता आईईएम से कर झूठा बढ़ा.चढ़ा कर कि नागालैण्ड से शांति समझौता हुआ कह कर वाहवाही क्यों ली। उन्होंने कहा कि यह सरकार केवल झूठी है और वास्तविक बात को जनता से छुपाने औरउन्हें बरगलाने का काम कर रही है। समझौते की आड़ में बीजेपी हिंसक कार्य करवाकर उन्माद और सत्ता के मद में किसी भी सीमा तक जा सकती है। इसका उदाहरण कश्मीर है जहां बीजेपी का बेमेल गठनबंधन सत्ता में है और अलगाववादी किस प्रकार से हावी हो रहे हैं इसे देखा जा सकता है। आये दिन पाकिस्तान का झंडा फहराया जा रहा है। जनता देख रही है कि वहां भी बीजेपी का प्लेटफार्म तैयार है और सत्ता की पारी मिलने पर धार्मिक कटुता फैलाने के लिए बीजेपी की शाखा आरएसएस और अन्य साम्प्रदायिक दल जो अभी चुप हैं।

जोगी ने कहा कि बीजेपी की सरकार देश को हिटलर की तरह चला रही है जो कि खतरनाक है। हिटलर नीति का परिणाम जनता भी भोगी है। सत्ता के अहंकार में देश की जनता की तरफ ध्यान न देकर केवल चंद उद्योगपतियों को लाभ दे रही है। प्रधानमंत्री का मन जनता के लिये रेडियो पर है और दिल उद्योगपतियों के साथ है। जिसके चलते जनता का मन खिन्न है और उद्योगपति सरकारी संरक्षण में लूट रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.