मेरा बिलासपुर

राजनीतिकरण के सवाल पर चुप्पी..कांग्रेस प्रभारी ने कहा..पुलवामा का नहीं रहेगा असर..रायशुमारी से आएगा प्रत्याशी

बिलासपुर— कांग्रेस के पूर्व विधायक और बिलासपुर के लोकसभा प्रत्य़ाशी मोतीलाल देवांगन ने कहा कि कांग्रेस लोकसभा प्रत्याशी रायशुमारी से तय किया जाएगा। प्रदेश के किसी भी कार्यकर्ता या नेताओं की उपेक्षा नहीं हो रही है। इस समय बजट सत्र चल रहा है। इसलिए आज की बैठक में विधायक उपस्थित नहीं हो सके। कुछ पूर्व विधायक जरूर जिम्मेदारियों में हैं..इसलिए बैठक में शामिल नहीं हुए। हम प्रदेश की सभी 11 सीटें जीतेंगे। देवांगन ने दुहराया कि लोकसभा प्रत्य़ासी की कसौटी विधानसभा के समय निर्धारित कसौटी ही होगी। लेकिन कुछ बातों की पुनरावृत्ति नहीं होगी।

                               प्रदेश कांग्रेस संगठन से लोकसभावार प्रभारियों के एलान के बाद पहली बार ग्रामीण और शहर बिलासपुर लोकसभा प्रभारी मोतीलाल देवांगन और मंजू सिंह बिलासपुर पहुंची। दोनों ने नेताओं ने कांग्रेस कार्यालय में  घंटो लोकसभा की तैयारियों को लेकर कार्यकर्ताओं और नेताओं से बातचीत की। लोकसभा जीतने का मंत्र दिया। दोनों नेताओं ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्य़ाशियों की जीत सुनिश्चित करने तन मन से जुट जाना है।

               कार्यकर्ताओं और नेताओं के साथ बैठक के बाद बिलासपुर लोकसभा ग्रामीण प्रभारी मोतीलाल देवांगन और शहर प्रभारी मंजू सिंह पत्रकारों से रूबरू हुई। दोनों नेताओं ने बैठक के उद्देश्यों के बारे में बताया। साथ सवालों के जवाब भी दिए।

                  सवाल के जवाब में मोतीलाल देवांगन ने बताया कि जल्द ही प्रत्य़ाशियों के नाम का एलान कर दिया जाएगा। प्रत्याशियों के नाम का एलान रायशुमारी के बाद किया जाएगा। उन्होने कहा कि प्रत्य़ाशी चयन में कार्यकर्ताओं की रायशुमारी का महत्व होगा। लोकसभा प्रत्याशी का फैसला कमोबेश  विधानसभा प्रत्याशियों के समय अपनाए गए मापदण्डों के आधार पर ही होगा।

कोयला उत्पादन बढ़ाने कोलइंडिया चेयरमेन ने किया मंथन

                    क्या विधानसभा टिकट वितरण के समय प्रत्य़ाशी चनय में नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिलेगा। सवाल के जवाब में देवांंगन ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं होगा। ना तो पहले ऐसा हुआ और ना ही अब होगा। थोड़ा बहुत होता रहता है। लेकिन विरोध जैसी बात नहीं होगी। रायशुमारी के बाद ही टिकट का फैसला होगा। विधानसभा में हमें इसका परिणाम भी मिला है।

                                देवांगन ने यह भी बताया कि प्रदेश प्रभारी महासचिव जिला प्रभारियों के साथ रायपुर में होगी। जैसा कुछ निर्णय होगा उसका पालन किया जाएगा। टिकट वितरण के समय नाटकीय घटनाक्रम का सवाल ही नहीं उठता है।

           लोकसभा चुनाव किसकी अगुवाई में लड़ा जाएगा। तत्काल उत्तर देते हुए देवांगन ने कहा कि निश्चित रूप से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अगुवाई में लोकसभा का चुनाव लड़ा जाएगा। भूपेश बघेल प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। मोतीलाल देवांगन ने कहा कि हम किसी के दावे पर नहीं बल्कि 11 सीट जीतने के लिए चुनाव लड़ेंगे।

                     अजीत जोगी का दावा है कि कोरबा और बिलासपुर लोकसभा सीट से जनता कांग्रेस की जीत होगी। सवाल के जवाब में मोतीलाल ने कहा कि अजीत जोगी ने पहले भी दावा किया था कि उनके बिना किसी की सरकार नहीं बनेगी। उन्होने भी देखा कि कांग्रेस की सरकार बन गयी। भाजपा के साथ मिलकर उन्होने कांग्रेस की लहर को रोकने का प्रयास किया। लेकिन उन्हें कुछ हासिल नहीं हुआ।

कांग्रेस के बड़े नेता कहते हैं कि कांग्रेस के लिए बिलासपुर लोकसभा बहुत कमजोर हैं। सवाल के जवाब में मोतीलाल ने कहा कि जब हम जीतेंगे तब तो नहीं कहेंगे कि बिलासपुर में हम कमजोर हैं।

इंग्लिश मीडियम स्कूलः कलेक्टर के निर्देश पर विभाग ने मांगा 10 स्कूल.. सभी ब्लाक में खुलेगा 2 स्मार्ट स्कूल.. बिलासपुर को मिलेगा विशेष तोहफा

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद लोकसभा चुनाव पर क्या प्रभाव देख रहे हैं। सवाल के जवाब में देवांगन ने बताया कि पुलवामा हमले के बाद हमारे जवानों ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया है। हम जवानों के साहस को सैल्यूट करते हैं। उन्होने इस बात से इंकार भी किया कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद केवल भाजपा को ही फायदा होगा। ऐसा सोचने वालों को लगता है कि… देश में विपक्ष रहेगा ही नहीं। सच तो यह है कि हम छत्तीसगढ़ में लोकसभा की सभी 11 सीटें जीत रहे हैं।

लोकसभा का घोषणा पत्र विधानसभा से कितना हटकर होगा। सवाल के जवाब में मोतीलाल देवांगन ने कहा कि 2 मार्च को बैठक होगी। इसके बाद सब कुछ साफ हो जाएगा। क्या कुछ किया जाएगा। कार्यकर्ताओं को इसकी जानकारी दी जाएगी।

पुलवामा और पाकिस्तान को दिए गए फौजियों के जवाब को लेकर क्या भारतीय जनता पार्टी राजनीतिकरण कर रही है। काफी देर तक चुप्पी रखने के बाद मोतीलाल देवांगन ने कहा पुलवामा हमला निंदनीय है। जैसे को तैसे की तर्ज पर फौज का जवाब उचित है। बार बार राजनीतिकरण के सवाल को टालते हुए मोतीलाल ने कहा कि आतंकवाद की निंदा करते हैं। सेना जवाब दिया है। दुश्मनों की मंशा देश को अस्थिर करना है। लेकिन सेना ऐसा नहीं करने देगी। बावजूद इसके मोतीलाल ने सीधे सीधे कुछ भी बताने से इंकार कर दिया।

पत्रकार वार्ता के दौरान प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव,जिला ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी और जिला शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर भी मौजूद थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS