राजनीति के अजातशत्रु थे बीआर…कांग्रेस

br-yadavबिलासपुर– जिला कांग्रेस कार्यालय में आयोजित पूर्व नगर विधायक और अविभाज्य मध्यप्रदेश के मंत्री बी.आर.यादव को जिला कांग्रेस कमेटी के नेताओं ने पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि दी। बीआर यादव के छाया चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्जवलित कर उनके कार्यो को याद किया। कांग्रेस नेताओं ने बीआर यादव को कर्मयोगी बताया।

                         पुण्यतिथि पर याद करते हुए अभयनारायण राय ने कहा कि स्वर्गीय बी.आर. यादव राजनीतिक जीवन में आजादशत्रु थे। साधारण परिवार में जन्म लेकर उन्होने राजनीति में विशेष मुकाम बनाया। कांग्र्रेस सेवादल से राजनीतिक यात्रा शुरू कर पार्षद, विधायक, मंत्री तऔर म.प्र. कांग्रेस संगठन के अनेक पदों पर रहे। उनका जीवन सादगी से भरा था। 1977 से लेकर 1998 तक बिलासपुर की विधानसभा की राजनीतिक धूरी बनकर रहे।

          बीआर यादव के जीवन पर प्रकाश डालते हुए अभय ने कहा कि संगठन के सभी पदाधिकारियों को गम्भीरता से विचार करना होगा कि बी.आर. यादव के बाद कोई व्यक्ति बिलासपुर में चुनाव की राजनीत में सफल क्यों नहीं हो रहा है? आज विलासपुर कांग्रेस को स्वर्गीय यादव जैसे मजबूत  व्यक्तित्व और नेतृत्व की जरूरत है। तभी 2018 में कांग्रेस की वापसी संभव होगी।जितने जल्दी हो सके इस बात को गंभीरता से लिया जाए।

                       कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व विधायक चंद्रप्रकाश बाजपेयी ने की। कार्यक्रम का संयोजन एवं संचालन वरिष्ठ कांग्रेस नेता जफर अली ने किया। जफर अली ने बीआर यादव के जीवन पर विस्तार से जानकारी दी। जफर अली ने इस मौके पर सभी कांग्रेस नेताओं से बीआर यादव के लगन, समर्पण, मेंहनत और सब को साथ लेकर चलने की गुण को अपनाने का आग्रह किया।

                    इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी सदस्य और बीआर यादवन के पुत्र कृष्ण कुमार यादव (राजू ) ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उनके पिता ने बिलासपुर शहर के विकास और कांग्रेस को मजबूत करने के लिए जो भी योगदान दिया है। उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है।  शिवा मिश्रा, जसबीर गुम्बर. ऋषि पाण्डेय, ओत्तलवार ने भी स्वर्गीय बीआर यादव के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला।

                 कार्यक्रम अध्यक्ष पूर्व विधायक चंदप्रकाश बाजपेयी ने कहा कि उनके कार्यकाल में शहर का चहुमुखी विकास हुआ। कांग्रेस को मजबूती मिली। बीआर यादव बहुत ही सहज और सरल स्वभाव के नेता थे। शहर में एस.ई.सी.एल का मुख्यालय , विश्वविद्यालय की स्थापना, अनेको विद्यालाय और  महाविद्यालयों की स्थापना, मेडिकल कालेजों की स्थापना, रेलवे जोन स्थापित करने में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। राज्य निर्माण संघर्ष में भी उनकी गिनती अग्रिम पंक्ति की नेताओं में होती है। कांगे्रस परिवार हमेशा उनके परिवार के साथ सम्मानपूर्वक चलता रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *