रामानुजगंज : दलधोवा घाट स्कार्पियो लूट मामले का मास्टरमाइंड गिरफ्तार, एसपी ने किया खुलासा

रामानुजगंज (पृथ्वीलाल केशरी )।जिले के चर्चित दलधोवा घाट के समीप स्कार्पियो मालिक सह चालक की हत्या कर स्कार्पियो लूट के मामले के मास्टरमाइंड को भी बलरामपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी के कब्जे से पुलिस ने 9 एमएम पिस्टल, चार जिंदा कारतूस, एक चाकू, दो मोबाइल जब्त किया है। आरोपी झारखंड के लातेहार जिले में सक्रिय माओवादी संगठन जेजेएमपी के लिए भी कार्य करते थे। इस हत्याकांड में पुलिस ने दो आरोपी और दो नाबालिगों को पहले ही गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया था। पुलिस अधीक्षक टी.आर. कोशिमा ने बताया कि बीते 19 अगस्त की सुबह दलधोवा के समीप झाड़ियों में स्कार्पियो मालिक सह चालक कपिल चौधरी पिता स्व. राजेंद्र चौधरी का खून से लथपथ शव मिला था।

प्रारंभिक जांच में ही स्पष्ट हो गया था कि मृतक की स्कार्पियो लूट की मंशा से ही संभवतः वारदात को अंजाम दिया गया था। आरोपियों पर पांच हजार रुपये इनाम की भी घोषणा की गई थीं। पुलिस की एक टीम लगातार झारखंड में आरोपियों की जांच-पड़ताल में लगी थी।

इसी दौरान साइबर सेल को जानकारी मिली जिसके आधार पर पता चला कि घटना का मुख्य मास्टरमाइंड झारखंड के पलामू जिले के नेसलीगंज थानांतर्गत ग्राम मुरूबार निवासी तजमूल अंसारी पिता रफीक अंसारी है। घटना में नेसलीगंज थाना के मुसवाखार निवासी सोनू कुमार पिता भिखारी भुइयां तथा इसी गांव के दो नाबालिग भी शामिल हैं।

इस जानकारी के आधार पर पुलिस ने सोनू कुमार व दो नाबालिगों को गिरफ्तार कर लिया था। उनसे पूछताछ में संपूर्ण घटनाक्रम की जानकारी मिल गई थी। उनकी निशानदेही पर पुलिस ने हत्याकांड में शामिल जहुर अंसारी नामक आरोपी को भी पकड़ लिया था। जहुर अंसारी द्वारा अंबिकापुर में बैठकर हत्याकांड की साजिश रची थी।

वारदात को अंजाम देने से पहले आरोपी व नाबालिग उससे मिल चुके थे। घटना के मास्टरमाइंड झारखंड के पलामू जिलांतर्गत पाकी थाना के आसेहार निवासी तजमूल अंसारी पिता रफीक अंसारी 21 वर्ष को भी आखिरकार गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने वारदात को अंजाम देने के बाद अपनी पिस्टल को गांव से लगे मुरूआल बस्ती के एक तालाब में फेंक दिया था। जब मास्टरमाइंड तजमूल अंसारी को लेकर लौट रही थी, उसी दौरान पूछताछ के बाद आरोपी ने उक्त पिस्टल को भी जब्त कराया।

वहीं मास्टरमाइंड तजमूल अंसारी से हुई पूछताछ में स्पष्ट हुआ कि उसे वाहन स्वामी बनने तथा अधिक पैसे कमाने का शौक था। इसको पूरा करने उसने दो अन्य आरोपी व दो नाबालिगों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया। तजमूल अंसारी पूर्व में झारखंड में कई अपराधों में शामिल रहने से गिरफ्तार हो चुका है।

आदतन अपराधी होने के आधार पर पूछताछ और मोबाइल से मिले अहम सबूतों के आधार पर वह स्वीकार कर चुका है कि झारखंड के लातेहार जिला में सक्रिय माओवादी संगठन जेजेएमपी के लिए वह कार्य कर चुका है। इसकी जानकारी बलरामपुर पुलिस ने झारखंड पुलिस से साझा कर भी अलग से कार्रवाई कराई जा रही है।

वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी माओवादी संगठन जेजेएमपी में शामिल होकर उसी के लिए कार्य करने लगा था। मास्टरमाइंड तजमूल अंसारी ने बताया कि स्कार्पियो लूट और मालिक की हत्या की घटना को अंजाम देने वह पिस्टल लेकर आया था। घटना के वक्त पिस्टल में तकनीकी खराबी आ जाने से गोली नहीं चल सकी, जिस कारण उसने सहयोगियों के साथ मिलकर चाकू से उसे गोद-गोदकर मार डाला था।

लूटी गई स्कार्पियो को बेचकर रकम को आपस में बांटने का उनका प्लान था, किंतु घटना के बाद आरोपी द्वारा यह कहकर स्कार्पियो को बेचने से इंकार कर दिया था कि स्कार्पियो को किराए में चला कमाई करेंगे और जो भी लाभ होगा, उसे आपस में बांट लेंगे। यही वजह थी कि आरोपियों द्वारा लूटे गए स्कार्पियो को बुकिंग हेतु नेसलीगंज टैक्सी स्टैंड पर भी लगाया जा रहा था।

स्कार्पियो चालक कपिल चौधरी की हत्या व स्कार्पियो लूट के मामले में आरोपियों का सुराग देने व उनकी गिरफ्तारी करने, कराने वालों पर पांच हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की थी। पुलिस ने आरोपी अजमल अंसारी केेे पास से एक 9 एमएम पिस्टल, चार जिंदा कारतूस, एक चाकू व दो मोबाइल जप्त किया है पुलिस ने धारा 302,201,120 बी 392,420 भा द वि 25 27 के तहत आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *