राष्ट्रीय कवि संगम और समन्वय साहित्य का आयोजन….कवियों की विशेष प्रस्तुति…रंग में दिखाई दिए साहित्यकार

बिलासपुर—राष्ट्रीय कवि संगम बिलासपुर और समन्वय साहित्य परिषद संयुक्त तत्वावधान में शरद उत्सव पर गोष्ठी का आयोजन किया गया। संस्कार भवन सरकण्डा में आयोजित कवि गोष्ठी में नामचीन साहित्यकारों ने रचना पाठ किया। काव्य पाठ के पहले साहित्यकारों ने माँ सरस्वती की तैल चित्र पर माल्यार्पण किया। माँ सरस्वती की आराधना प्रसाद साहू ने किया। इस दौरान बतौर मुख्य अतिथि छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग के अध्यक्ष विनय पाठक विशेष रूप से मौजूद थे। विशिष्ट अतिथि का भार वरिष्ठ ग़ज़लकार केवल कृष्ण पाठक “केवल” और गीतकार श्रीधर आचार्य “शील” ने उठाया। कार्यक्रम अध्यक्षता छन्दाचार्य बृजेश सिंह ने किया।
               राष्ट्रीय कवि संगम संगठन के शहर अध्यक्ष राघवेंद्र दुबे ने बताया की मंच से पहली बार शरद उत्सव का आयोजन किया गया है। राष्ट्रीय कवि संगम और समन्वय साहित्य परिषद ने फैसला किया है कि शरद उत्सव का आयोजन प्रत्येक वर्ष किया जाएगा। राष्ट्रीय कवि संगम का उद्देश्य युवा कवियों को मंच प्रदान करना है।
                इस अवसर पर राष्ट्रीय कवि संगम के प्रांतीय अधिवेशन में शामिल होने वाले कवियों का भी सम्मान किया गया। “काव्य श्री” से सम्मानित होने वाले नगर के साहित्यकार श्रीधर आचार्य शील का पुष्प माला से सम्मान किया गया। श्री कुमार पांडे, जयेंद्र कौशिक, बालक दास, बालमुकुंद श्रीवास, नितेश पाटकर का भी पुष्प माला से अतिथियों ने स्वागत किया। इस अवसर पर सनत तिवारी ने सभी युवा कवियों को दायित्व बोध कराया। उन्होने कहा कि आपको राष्ट्र विचारधारा को लेकर काव्य प्रेम जागृत करना होगा। लगातार अग्रसर होकर समाज सुधार के लिए लेखन करना होगा।
                  कार्यक्रम की शुरुआत में गीतकार श्रीधर आचार्य शील ने रचनाओं की प्रस्तुति दी। वरिष्ठ ग़ज़लकार केवल कृष्ण पाठक ने ग़ज़ल से सबका मन मोह लिया। संचालन के बीच जय ने भी ख़ूब तालियां बटोरी। इस दौरान पूर्णिमा तिवारी, विपुल तिवारी, सीजन दत्त, राजेश नितिन वस्त्रकार, याशिका चंद्रा, देव कुमार गेंदले, बसंत पांडे “ऋतुराज”, डॉ सुनीता मिश्रा, प्रीति गौराहा, श्रीनिवास कंडाला, शीलम पांडे, मीना दुबे, चित्रा तिवारी, किशोरी साहू, सुषमा पाठक, धनेश्वरी सोनी, स्नेह मिश्र, नितेश पाटकर, बालमुकुंद श्रीवास, बालक दास, बसंती वर्मा, श्री कुमार श्री, विपिन शर्मा, अर्चना शर्मा, एमके दुबे, शरद शर्मा, रविंद्र पांडे, भरत वेद, सनत तिवारी, रमेश सोनी, बुधराम यादव, भारतेंदु साहित्य समिति के वरिष्ठ रचनाकार विजय तिवारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का  संचालन सचिव जयेंद्र कौशिक “जय” ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *