राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस:गाँव के विकास की पूरी ज़िम्मेदारी पंचायत प्रतिनिधियों पर-दीवान

बिलासपुर।राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान के तहत मंगलवार को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस मनाया गया।इस अवसर पर बिलासपुर में राज्य स्तरीय एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गयी। कार्यशाला के मुख्य अतिथि ब्रदीधर दीवान ने कहा कि पंचायत राज व्यवस्था के तहत गांव के पूर्ण विकास की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी पंचायत प्रतिनिधियों की है। राष्ट्रीय पंचायतीराज दिवस पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देशभर के पंचायत प्रतिनिधियों को सम्बोधित किया गया, जिसका सीधा प्रसारण दूरदर्शन पर हुआ। कार्यशाला में उपस्थित जनप्रतिनिधियों ने प्रधानमंत्री का सम्बोधन सुना।सिम्स अस्पताल के आॅडीटोरियम में आयोजित इस कार्यशाला में जिला, जिला ंपचायत, जनपद पंचायतों और ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधि बड़ी संख्या में उपस्थित थे। कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए श्री दीवान ने कहा कि गांवों के विकास के लिए पंचायत प्रतिनिधियों और अधिकारियों को समन्वय से कार्य करना होगा। कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए बिलासपुर लोकसभा सांसद लखन लाल साहू ने कहा कि ग्राम पंचायतों को सशक्त करने से गांव का विकास होगा। शासन की योजनाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने और मूलभूत विकास के लिए पंचायती राज संस्थाओं की मुख्य भूमिका है। ग्राम सभा को मजबूत करने और समुदाय की भागीदारी तथा पंचायतों के संसाधनों को गांव के विकास मंे कैसे उपयोग कर सकते हैं। यह महत्वपूर्ण मुद्दा है। इसके लिए हम सबको मिलकर काम करना होगा। उन्होंने विश्वास जताया कि पंचायत प्रतिनिधि गांव के विकास में अहम भूमिका निभाएंगे और आने वाले चुनौतियों को दूर करने में सफल होंगे।
विशिष्ट अतिथि बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि देश की 70 प्रतिशत आबादी गांवों में निवास करती हंै। भारत की आत्मा गांवों में बसी है। गांव का विकास होगा, तभी देश का विकास होगा। पंडित दीनदयाल उपाध्याय और महात्मा गांधी की सोच के अनुरूप पंचायतीराज व्यवस्था बनायी गयी। इस व्यवस्था को सफल बनाने में पंचायत प्रतिनिधियों की अहम भूमिका है। पंचायत को एक माॅडल के रूप में बनाने के लिए पेयजल, स्वच्छता, अतिक्रमण, खेलमैदान, बिजली, सड़क, गौठान, नाली, जल संरक्षण जैसे प्राथमिकता वाले कार्य गांव की आवश्यकता अनुरूप करना होगा। शासन की सभी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने का जिम्मा पंचायतों का है। जनप्रतिनिधि बनने का जो अवसर मिला है, उसका फायदा उठाते हुए अपने पंचायत को एक आदर्श ग्राम पंचायत बनाने के लिए कार्य करें, तभी ग्राम पंचायतराज दिवस की सार्थकता होगी।
कमिश्नर टी.सी. महावर ने अपने सम्बोधन में कहा कि गांव की मूल आवश्यकता भोजन, पानी, शिक्षा, सड़क और बिजली है। बदलते परिवेश में नजर डालें तो, आज गांवों में कीचड़ से भरे सड़कों की जगह पक्के सी.सी.रोड बन गए हैं, लेकिन विकास की कीमत भी चुकानी पड़ रही है। तालाब पाटे जा रहे हैं और पेड़ों को काटा जा रहा है। इस दिशा में ध्यान देना होगा। बारिश का पानी गांव में ही रहें, जिससे तालाब भरे रहेंगे और नलकूप रिर्चाज होंगे। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों को पर्यावरण के लिए कार्य करने पर बल दिया।संसदीय सचिव राजू सिंह क्षत्री ने कहा कि ग्राम पंचायतों को पूर्ण अधिकार दिया गया है कि विकास की रूपरेखा बनाकर उसे धरातल पर उतारें। उत्कृष्ट ग्राम पंचायत बनाने के लिए अपने अधिकारों और कर्तव्यों की जानकारी होनी चाहिए।
कलेक्टर पी. दयानंद ने कहा कि इस वर्ष भारत सरकार की ओर से पहली बार ग्राम स्वराज अभियान चलाया जा रहा है। कार्यशाला के उददेश्य पर प्रकाश डालते हुए बताया कि पंचायतों से क्या अपेक्षाएं हैं और पंचायतीराज व्यवस्था के तहत किस तरह बेहतर कार्य कर अपने गांव को आदर्श गांव बनाया जा सकता है। सुदृढ़ पंचायतीराज व्यवस्था कैसे बेहतर तरीके से कार्य करें, इसके लिए कार्यशाला में प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिले के 54 पंचायतांे का चयन किया गया है, जहां सरकार के सात फ्लेंगशिप योजनाओं का शत-प्रतिशत संचालन किया जाएगा। कार्यशाला के प्रारंभ जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती फरिहा आलम सिद्दिकी ने पंचायतीराज अभियान पर प्रकाश डाला। उन्होंने जिले के विभिन्न पंचायतों में शासन की योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन की जानकारी दी। कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले सरपंच सचिव और स्वच्छता प्रेरकों को सम्मानित किया गया गया।
इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पाण्डेय, छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष भूपेन्द्र सवन्नी, जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक साहू, नगर निगम महापौर किशोर राय, पंचायत विभाग के संचालक तारंन प्रकाश सिन्हा, स्वच्छ भारत मिशन छत्तीसगढ़ के संचालक भास्कर विलास संदीपन, राज्य आजीविका मिशन के संचालक दीपक सोनी, ठाकुर प्यारेलाल पंचायत एवं ग्रामीण विकास संस्थान निमोरा के संकाय सदस्य डाॅ. अशोक जायसवाल सहित जिला एवं जनपद पंचायतों के सदस्य, ग्राम पंचायतों के पदाधिकारी तथा अधिकारी-कर्मचारी बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *