मेरा बिलासपुर

राष्ट्रीय सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा…प्रश्न पत्र से अंग्रेजी व्याकरण का भाग गायब..लापरवाही छिपाने..प्रबंधन ने थमाया उत्तर वाला पुराना सेट

K सेट के पेपर में अंग्रेजी ग्रामर का भाग छापा ही नहीं गया

बिलासपुर—पिछले दिनो राष्ट्रीय स्तर पर सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया। बिलासपुर स्थित दो केन्द्रों में छात्रों ने प्रवेश परीक्षा दिया। परीक्षा के बाद छात्रों ने बताया कि पेपर बनाते समय भारी लापरवाही हुई है। अंग्रेजी मीडियम का ग्रामर भाग पेपर में दिया ही नही गया। नियमानुसार अंग्रेजी ग्रामर अंग्रेजी माध्यम के छात्र और हिन्दी ग्रामर हिन्दी माध्यम के छात्रों के लिए होता है। लेकिन K सेट के पेपर में अंग्रेजी ग्रामर का भाग छापा ही नहीं गया। जब छात्रों ने मामले को सामने लाया तो केन्द्र प्रबंधन ने सैनिक स्कूल का ही पुराना उत्तरों पर टिक लगा हुआ पेपर थमा दिया। अंग्रेजी माध्यम के छात्र अक्षदीप ने बताया कि हमारे साथ धोखा हुआ है। इसलिए सभी अंग्रेजी माध्यम के छात्रों को बोनस अंक दिया जाए।

जानकारी देते चलें कि बिलासपुर कोनी स्थित कृणा पब्लिक स्कूल समेत एक अन्य स्कूल में राष्ट्रीय स्तर पर सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया गया। बिलासपुर स्थित दोनो परीक्षा केन्द्रों में सैकड़ों बच्चों ने परीक्षा में शिरकत कर भाग्य आजमाया। लेकिन परीक्षा केन्द्र से निकलते ही अंग्रेजी माध्यम के छात्रों ने नाखुसी जाहिर किया।

कृष्णा पब्लिक स्कूल परीक्षा केन्द्र से निकलने के बाद अक्षदीप सिंह ने अपने पिता को वस्तु स्थिति से अवगत कराया। जिला प्रशासन को जानकारी देने के बाद अक्षदीप के पिता संदीप ने बताया कि हर साल सैनिक स्कूल प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है। परीक्षा में दसवी और पांचवी के छात्र शिरकत करते है। प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद बच्चों का सैनिक स्कूल में एडमिशन होता है।

कोरोना की तीसरी लहर से बचाव के लिए गाँव-गाँव में काम करेंगे भारतीय किसान संघ के आरोग्य मित्र

इस साल उनका बेटा अक्षदीप भी प्रवेश परीक्षा में शामिल हुआ। अक्षदीप को K सेट का प्रश्न पत्र दिया गया। प्रत्येक सेट में चार पार्ट होते है। इसमें एक पार्ट भाषा का होता है। भाषा पार्ट में अंग्रेजी माध्यम के छात्र को अंग्रेजी ग्रामर और हिन्दी माध्यम के छात्र को हिन्दी ग्रामर के सवालों का जवाब देना होता है। प्रश्न विकल्प में होता है..चार में किसी एक सही विकल्प पर छात्रों को टिक लगाना होता है।

इस बार K सेट में अंग्रेजी माध्यम का ग्रामर भाग पूछा ही नहीं गया। बच्चों ने अपनी शिकायत केन्द्र प्रबंधन के सामने रखा। काफी पूछताछ के बाद केन्द्र प्रबंधन ने अंग्रेजी ग्रामर का पुराना पेपर छात्रों को हल करने के लिए थमा दिया। संदीप सिंह ने बताया कि शिकायत के बाद दिया गया पेपर पुराना था। इसमें अंग्रेजी ग्रामर से 25 विकल्पीय सवाल पूछ गए है। सभी सवाल के जवाब में टिक लगा हुआ पाया गया। जानकारी दिए जाने के बावजूद केन्द्र प्रबंधन ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। जबकि दिए गए पुराने सेट में लगे ज्यादातर टिक सही हैं।

छात्र अक्षदीप के पिता संदीप के अनुसार परीक्षा प्रबंधन की लापरवाही से अंग्रेजी माध्यम वाले होनहार बच्चों के साथ अन्याय हुआ है। हमारी मांग है कि प्रवेश परीक्षा का आयोजन दुबारा किया जाए। अथवा अंग्रेजी माध्यम के बच्चों को बोनस अंक दिया जाए। हमने मामले की शिकायत जिला प्रशासन के अलावा पीएमओ से किया है। उम्मीद है कि बच्चों के साथ न्याय होगा।

 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS