मेरा बिलासपुर

रेलवे प्रभावितों के लिए जोगी ने मांगी नौकरी

IMG-20150910-WA0004बिलासपुर— मरवाही विधायक अमित जोगी ने एसईसीआर महाप्रबंधक सत्येन्द्र कुमार से मिलकर पेन्ड्रा गेवरा लाइन के लिए अधिग्रहित जमीन को लेकर चर्चा की। अमित जोगी ने महाप्रबंधक से मिलकर प्रभावित लोगों के लिए मुआवजे की मांग की है।

               आज अपने समर्थकों के साथ मरवाही विधायक अमित जोगी रेलवे महाप्रबंध सत्येन्द्र कुमार से मुलाकात की। इस मौके पर उन्होंने लिखित मांग पेश करते हुए अधिग्रहित जमीन के एवज में जल्द से जल्द प्रभावित किसानों को मुआवजा देने को कहा है।

               जोगी ने सत्येन्द्र कुमार से बताया कि पिछेले दो साल से जमीन को एसईसीआर और राज्य सरकार ने अधिग्रहति किया है। लेकिन प्रभावित लोगों को अभी तक मुआवजा नहीं दिया गया है। जमीन भी खाली है। क्या शासन ने कभी विचार किया कि जिनकी जमीन छीन ली गयी है वे अपना पेट कैसे भरेंगे।

         महाप्रबंधक से मुलाकात कर जोगी ने प्रभावित किसानों के लिए पूरी भरपाई के साथ अधिक से अधिक मुआवजा देने और परिवार के एक सदस्य को नौकरी पर रखने को कहा है।

           मीडिया से चर्चा करते हुए जोगी ने कहा कि पेन्ड्रा गेवरा रेल लाइन सर्वे के बाद राज्य सरकार ,स्थानीय और रेल तंत्र ने अभी तक यह नहीं बताया है कि जमीन के एवज में प्रभावित लोगों को कितना मुआवजा मिलेगा। जमीन पर रेल लाइन कब से बिछेगी। उसे कितनी जमीन चाहिए। अभी तक रेल प्रशासन ने कुछ नहीं बताया है। जोगी ने बताया कि किसानों को रेल लाइन क्षेत्र में खेती भी नहीं करने दिया जा रहा है। पिछले एक साल से जमीन खाली है। जिसके चलते किसानों के सामने रोजी रोटी का संकट है।

मान्यता प्राप्त स्कूल संगठनों ने कहा.. मुश्किल हुआ स्कूलचलाना..अभी नहीं मिली किताब..RTI भुगतान भी नहीं

         उन्होंने कहा कि हमने रेल प्रशासन से कहा है कि या तो किसानों की जमीन वापस किया जाए। अथवा प्रभावित किसानों को उचित मुआवजा दिया जाए। जोगी ने बताया कि मुआवजा कितना मिलेगा रेल प्रशाशन अभी तक स्पष्ट नहीं किया है।

             पत्रकारों से बातचीत करते हुए जोगी ने कहा कि महाप्रबंधक से प्रभावित किसानों के घर से एक सदस्य को नौकरी दिये जाने की भी मांग की है।

                                              मुलाकात के दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेता अनिल टाह, बबला खान आदि लोग उपस्थित थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS