लाखों रूपयों की पाइप चोर 3 आरोपी गिरफ्तार…इंजीनियर समेत अन्य की तलाश….हाइड्रा क्रेन और मोटरसायकल जब्त

बिलासपुर—-अमृत मिशन की पाइप चोरी करने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने पकड़ा है। चौथा मुख्य आरोपी इंजीनियर के साथ अन्य लोग फरार हैं। चोरी किए पाइप की कीमत सात लाख रूपए से अधिक थी। प्रार्थी की शिकायत और पुलिस कप्तान के निर्देश पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया ाथा। फिलहाल पकड़े गए आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। जबकि पुलिस फरार इंजीनियर की तलाश गंभीरता के साथ कर रही है।

                मामले का खुलासा करते हुए एडिश्नल एसपी ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि इंडियन ह्यूम पाइप कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनेजर एनएस त्रिपाठी ने बताया कि अज्ञात आरोपियों ने अमृत मिशन की 190 पाइप को पार कर दिया है। पाइप पर म्यूनिसिपल कार्पोरेशन बिलासपुर लिखा है। चोरी 28 सितम्बर की शाम 5 बजे से 29 सितम्बर की सुबह 10 बजे के बीच हुई है। त्रिपाठी ने बताया कि योजना के कार्यक्षेत्र को देखते हुए करीब 824 नग पाइप को साँईधाम तोरवा के सामने एकत्रित कर रखा गया था। दूसरे दिन गिनती में करीब 7 लाक 47 हजार 178 रूपए मूल्य की 190 पाइप कम पाया गया.

                          ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि तोरवा थाना में शिकायत के बाद पुलिस कप्तान के निर्देश पर चोरी के आरोपियों को पकड़ने के लिए टीम का गठन किया गया। टीम में शामिल नगर पुलिस अधीक्षक आरएन यादव और स्टाफ के साथ  जांच पड़ताल तेज हुई। मौके से सीसीटीवी को खंगाला गया। फुटेज में हाइड्रा क्रेन के सहारे 12 चक्के के ट्रक पर पाइप को लोड करते देखा गया। हाइड्रा पर जय अम्बे लिखा पाया गया।

      ओपी शर्मा ने जानकारी दी कि पतासाजी के बाद मालूम हुआ कि हाइड्रा क्रेन महाराणा प्रताप चौक निवासी राजू सिंह की है। हाइड्रा मालिक राजू सिंह ने पूछताछ के दौरान बताया कि चालक गेंदराम पिता  तुलाराम साहू उम्र 23 साल महिमानगर सिरगिट्टी 28 सितम्बर की रात्रि को क्रेन काम से ले गया। पुलिस ने इसके बाद हाइड्रा चालक को पकड़ा। पूछताछ में गेंदराम ने जानकारी दी कि क्रेन को अंकुश राय ने बुक कराया था। पुलिस ने अंकुश राय को को सोनगंगा कालोनी शताब्दी नगर स्थित निवास से हिरासत में लेकर पूछताछ की।  घटना के बारे में अंकुश ने बताया कि अविनाश सिंह, मुकेश साहू, अरविन्द साहू और इंजीनियर अर्नव के साथ मिलकर चोरी की घटना को सांईधाम के सामने करना बताया।

                   पूछताछ के दौरान अर्नव ने बताया कि पाइप की चोरी 28 सितम्ब को मध्य रात्रि के बाद दो से तीन साढ़े पांच बजे के बीच अंजाम दिया है.। पाइप को हाइड्रा क्रेन के सहारे 12 चक्के वाले ट्रक में लोड किया गया। ट्रक को अरविन्द साहू ने मंगाया था। लोड करने के बाद पाइप को कहां भेजा गया इसकी जानकारी उसे नहीं है। अरविन्द ने इस काम के लिए 20 हजार रूपए देने का वादा किया था। लेकिन फरार होने के कारण अभी तक रूपए नहीं मिले हैं।

        शर्मा ने जानकारी दी कि तीनों आरोपियों से पूछताछ के बाद 3 सितम्बर को गिरफ्तार किया गया है। तीनों को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया गया है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों के नाम अरविन्द साहू निवासी राजकिशोर नगर थाना सरकण्डा, मुकेश साहू निवासी देवनन्दन नगर थाना सरकण्डा का रहने वाला है।  पेशे से इंजीनियर अर्नव और उसके अन्य फरार लोगों की तलास की जा रही है। जल्द ही सभी को पकड़ लिया जाएगा। प्रकरण की कार्रवाई में तोरवा थाना प्रभारी शनिप रात्रे और स्टाफ ने विशेष योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *