मेरा बिलासपुर

लापता को मृत घोषित करने की मांग—अजीत जोगी

jogiरायपुर—पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का ध्यान आकर्षित करते हुये कहा है कि साल 2002 के गुजरात दंगों में अल्पसंख्यकों को जान.माल की भारी क्षति उठानी पड़ी थी। उस भयावह कत्लेआम के समय आप ही वहां के मुख्यमंत्री थे। उस समय दंगों से प्रभावितों ने पुलिस में कई शिकायतें और रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। उन दंगों के बाद लापता हजारों अल्पसंख्यकों का आज तक कोई अता.पता या सुराग गुमशुदाओं के रिश्तेदारों या गुजरात पुलिस को नहीं मिले हैं। स्पष्ट है कि लापता अल्पसंख्यक दंगों के दौरान ही शहीद कर दिये गये थे।

जोगी ने प्रधानमंत्री से देश की स्थापित कानून का हवाला देते हुये कहा है कि गुम इंसान की रिपोर्ट लिखे जाने के बाद यदि लापता का सात साल तक कोई अता.पता नहीं चलता है तो कानूनन उसे मृत माना जाता है। गुजरात दंगों को 12.13 साल हो चुके हैं। अभी तक गुमशुदा लोगों के जीवित होने बाबत् कोई साक्ष्य नहीं मिला है। उन्हें मृत मानते हुये मृतकों के परिजनों को 20.20 लाख रूपया मुआवजा राशि दिलवाने संबंधितों को निर्देशित करना एक नैतिक दायित्व है। उन्होने कहा कि इस विषय पर गंभीरता से विचार करेंगे और  सकारात्मक निर्णय लेते हुए साहसिक कदम उठावेंगे।

छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन का आंदोलन स्थगित,CM डॉ रमन के आश्वासन के बाद संगठन ने लिया फैसला
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS