मेरा बिलासपुर

वरिष्ठ पत्रकार बबन मिश्र का निधन

IMG-20151107-WA0008

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार श्री बबन प्रसाद मिश्र का शनिवार को हृदयाघात से आकस्मिक निधन हो गया।वे रायपुर के वृन्दावन हाल में एक कार्यक्रम में थे,इसी दौरान उनकी तबियत बिगड़ गई। उन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया। बबन जी को सीजीवाल परिवार अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है।

                      श्री बबन प्रसाद मिश्र का जन्म 16 जनवरी 1938 को बालाघाट (म.प.) जिले में हुआ। आपके स्व. पिता श्री राधाकिसन मिश्र स्वंतत्रता संग्राम सैनानी रहे और लगभग 29 महीनों तक अंग्रेजों के कारावास में रहें। आपकी शिक्षा-दीक्षा बालाघाट, वारासिवनी में सागर विश्वविद्यालय के अंतर्गत हुई एंव विधि की स्नातक परीक्षा आपने रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर से उत्तीर्ण की।

                    श्री मिश्र जी ने अपनी पत्रकारिता की यात्रा से जबलपुर से सन् 1962 में प्रारंभ की। स्न 1962 से 1972 तक आप दैनिक युगधर्म समाचार पत्र में सह-संपादक रहें। इसी बीच बार-काउंसिल से विशेष अ नुमति लेकर कुछ वर्षो तक वकालत भी की।

                           पूर्ववर्ती मध्यप्रदेश में एंव वर्तमान छत्तीसगढ़ राज्य में चार दशकों से भी अधिक समय से वे साहित्य पत्रकारिता एंव समाजसेवा से जुडे रहें। वर्ष 1972 से 1986 तक वे दैनिक युगधर्म रायपुर के संपादक रहे। कुछ समय तक वे भोपाल में दैनिक स्वदेश समाचार पत्र से जुडे रहे। वर्ष 1987 से 2001 तक दैनिक नवभारत रायपुर के संपादक रहें। वर्ष 2001 से 2003 तक दैनिक भास्कर रायपुर एंव बिलासपुर के लिए प्रबंधकीय सलाहकार के रूप में उन्होने अपनी सेवाएं प्रदान की। वे रायपुर प्रेस-क्लब के अध्यक्ष, छत्तीसगढ साहित्य परिषद के संस्थापक महामंत्री तथा छत्तीसगढ सांस्कृतिक विकास परिषद् के अध्यक्ष के पद को सुशोभित करते रहे हैं। उन्होंने वर्षो तक साहित्यिक, सांस्कृतिक विशेषांको का संपाद किया हैं तथा पत्रकारिता के क्षेत्र में आपकी बहुचर्चित पुस्तक ”मैं और मेरी पत्रकारिता” अनेक पत्रकारों के लिए दिशाबोधक एंव मार्गदर्शक का कार्य कर रही है। वे वर्तमान में कुशाभाउ ठाकरे पत्रकारिता एंव जनसंचार विश्वविद्यालय रायपुर की विद्वत् परिष्द के लिए महामहिम राज्यपाल छत्तीसगढ, द्वारा मनोनीत किए गए हैं तथा वर्तमान में छत्तीसगढ़ शासन के संस्कृति विभाग के अंतर्गत स्थापित पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी सृजनपीठ के अध्यक्ष हैं। उनके आलेखों की कृति ”आजादी की आधी सदी” बहुचर्चित कृति हैं जो गतवर्ष प्रकाशित हुई।

मानव जीवन से दुर्लभ भागवत गाथा..दूर होते हैं मन के विकार-साध्वी सरस्वती

आपको छत्तीगढ़ शासन द्वारा सर्वोच्च साहित्य-पत्रकारिता सम्मान ”पंडित सुंदरलाल शर्मा” सम्मान से विगत वर्ष राज्योत्सव में उपराष्ट्रपति श्री भैरोसिंह शेखावत द्वारा सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त आपको पत्रकारिता एंव साहित्य सेवाओं के लिए अनेक सम्मान्नीय संस्थाओं ने भी सम्मानित किया हैं।

मुख्य मंत्री डॉ रमन सिंह ने राज्य के वरिष्ठ पत्रकार श्री बबन प्रसाद मिश्रा के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है । उन्होंने उनके शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की है और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है । श्री बबन प्रसाद मिश्रा का आज शाम रायपुर में हृदयाघात से निधन हो गया।

अंतिम संस्कार रविवार को
श्री बबन प्रसाद मिश्र का अंतिम संस्कार ८ नवंबर रविवार को दोपहर १ बजे देवेन्द नगर मुक्तिधाम मे होगा अंतिम यात्रा १० रवि नगर राजा तालाब स्थित निवास से प्रारंभ होगी।

बिलासपुर प्रेस क्लब अध्यक्ष शशि कोन्हेर ने बबन प्रसाद मिश्रा जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए उन्हे अपनी विनम्र श्रद्धांजली अर्पित की है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS