विधिक सेवा पंजीयन अभियान में एनएसएस देगा साथ

IMG20161231131323बिलासपुर—राज्य विधिक सेवा अब असंगठित क्षेत्र के श्रमिक संगठनों का पंजीयन कराएगा। मजदूरों का स्टेटस रिपोर्ट श्रम विभाग को देगा। जानकारी मंत्रालय तक पहुंचायी जाएगी। नेशनल लीगल सर्विस के निर्देश पर पंजीयन कार्य में राज्य विधिक सेवा की सहायता राष्ट्रीय सेवा योजना के छात्र भी करेंगे। प्रेस वार्ता में राज्य विधिक सेवा सदस्य सचिव ने बताया कि असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की पहचान राष्ट्रीय सेवा योजना के सहयोग से किया जाएगा। प्रेस वार्ता में सीएमडी महाविद्यालय के चेयरमैन संजय दुबे और एनएसएस प्रभारी डॉ.पी.एल चन्द्राकर भी उपस्थित थे।

                                  राज्य विधिक सेवा के सदस्य सचिव ने बताया कि नालसा ने असंगठित और संगठित श्रमिकों  की चिंता जाहिर की है। शासन की योजनाएं अंसगठित ही नहीं बल्कि संगठित श्रमिकों तक नहीं पहुंची है। इसलिए हम पंजीयन अभियान में श्रम विभाग का सहयोग करेंगे। रजनीश ने बताया कि प्रदेश में करीब 94 प्रतिशत श्रमिकों का पंजीयन नहीं है। जाहिर सी बात है कि शासन की योजनाएं श्रमिकों तक नहीं पहुंची है। इसकी वजह शायद श्रम विभाग की व्यस्तता हो सकती है।

                                         श्रम विभाग श्रमिकों के हितों को लेकर गंभीर नहीं है के सवाल पर रजनीश श्रीवास्तव ने बताया कि हम ऐसा नहीं कह रहे हैं। श्रम विभाग अपना काम कर रहा है। हम केवल सहयोग करेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों के श्रमिकों को अाज भी पंजीयन की जानकारी नहीं है। जिनका पंजीयन हैं उन्हें योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। नालसा ने श्रमिकों के परेशानोयों को गंभीरता से लिया है। श्रमिकों के हितसंवर्धन को देखते हुए हमने पंजीयन अभियान में एनएसएस छात्रों और स्वयंसेवी संगठनों से सहयोग लेने का फैसला किया है।

                                                पत्रकारों को सीएमडी महाविद्यालय के चेयरमैन संजय दुबे ने भी संबोधित किया। दुबे ने बताया कि सीएमडी के एनएसएस छात्रों ने सेवा क्षेत्र में महाविद्यालय का मान बढ़ाया है। राज्य विधिक सेवा ने महाविद्यालय के छात्रों को अभियान में शामिल कर हमें गौरवान्वित किया है।

                                                                  सीएमडी महाविद्यालय राष्ट्रीय सेवा योजना प्रभारी डॉ.पी.एल चंन्द्राकर ने भी पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया। उन्होने कहा कि विधिक सेवा के साथ काम करने का अवसर मिलना गर्व की बात है। सीएमडी के छात्रों ने नेवसा में शौचालय निर्माण कर भारत स्वच्छता अभियान को मजबूती के साथ बढ़ाया है। चन्द्राकर ने बताया कि सीएमडी महाविद्यालय रिमोट क्षेत्र में लक्ष्य बनाकर एनएसएस कैम्प लगाता है। स्थानीय लोगों में साफ सफाई, साक्षरता अभियान समेत समसामयिक विषयों की जानकारी एनएनएस के छात्र देते हैं।

                             चन्द्राकर ने कहा कि राज्य विधिक सेवा केन्द्र को सात योजनाओं की जिम्मेदारी है। इनमें प्रमुख रूप से मानव तस्करी, असंगठित क्षेत्रों के संगठित श्रमिकों की सेवा, बच्चों को मैत्री पूर्ण विधिक सेवा एवं संरक्षण, गरीबी उन्मूलन योजनाओं का प्रभावी क्रियान्यवयन,आदिवासी अधिकारों का संरक्षण एवं प्रवर्तन और नशा पीड़ितों को विधिक सेवा एवं उन्मूलन की विधिक सेवाएं हैं । राष्ट्रीय और राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण को हमारी जहां भी जरूरत होगी हम सेवा के लिए तैयार हैं।

                                   राज्य विधिक सेवा सदस्य उपसचिव अभिषेक शर्मा ने बताया कि नालसा के निर्देश पर मोतिमपुर स्थित अनुरागी धाम में सात जनवरी को शिविर का आयोजन किया जाएगा। शिविर में असंगठित क्षेत्रों के श्रमिकों का पंजीयन किया जाएगा। साथ ही अन्य महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *