मेरा बिलासपुर

विवि पर एनएसयूआई का कब्जा…कांग्रेस में जश्न

IMG-20150902-WA0005बिलासपुर—सीएमडी कालेज छात्र संघ चुनाव विवाद के बीच एनएसयूआई ने विश्वविद्यालय अध्यक्ष पद हासिल कर यूनिवर्सिटी पर कब्जा किया है। सीएमडी के कड़वे अनुभव को भूलते हुए एनएसयूआई और यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अध्यक्ष पद की जीत पर जमकर जश्न मनाया है।

                           विश्वविद्यालय बिलासपुर चुनाव परिणाम में आंकड़ों के हिसाब से एनएसयूआई को रायगढ, कोरबा, जांजगीर, मुंगेली और बिलासपुर के कालेजों से अध्यक्ष ज्ञानेश्वर रामटेके को कुल 111 मत हासिल हुए। ज्ञानेश्वर रामटेके ने एबीव्हीपी के सौरभ सराफ को 104 के मुकाबले 111 मतों से पटकनी दी है।

                     ज्ञानेश्वर रामटेके अरपांचल के नलिनी प्रभा वाणिज्य महाविद्यालय के छात्र हैं। एबीव्हीपी के प्रत्याशी को हराते हुए उन्होंने सीएमडी के विवादास्पद चुनाव में मिली एनएसयूआई के जख्म पर मरहम लगाने का काम किया है। वहीं सौरभ की हार ने एबीव्हीपी कार्यकर्ताओं को गम में डूबा दिया है।

               कांग्रेस यूथ जिला अध्यक्ष महेन्द्र गंगोत्री ने बताया कि सीएमडी विवाद ने कालेज के प्रतिनिधियों की आंखे खोल दी जिसके चलते एनएसयूआई को जीत हासिल हुई है। उन्होंने कहा कि सच परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नहीं होता । एनएसयूआई ने सत्य रास्ते पर चलते हुए प्रतिनिधइयों का विश्वास हासिल कर विश्वविद्यालय अध्यक्ष का चुनाव जीता है। जीत के बाद एनएसयूआई समर्थकों में मरवाही सदन में जोगी से मिलकर अपनी खुशी जाहिर की और आशीर्वाद लिया। इस मौके पर बबला खान और अविनाश शैट्टी भी मौजूद थे।

                 विश्वविद्यालय चुनाव में अध्यक्ष प्रत्याशी के अलावा एनएसयूआई को उपाध्यक्ष और सचिव पद पर हार का सामना करना प़ड़ा है। उपाध्यक्ष पद के लिए एबीव्हीपी के अजय कुमार ने एनएसयूआई प्रत्याशी जसीन मेमन को 97 के मुकाबले 105 मतों हराया है। इसी तरह सचिव पद पर भी एबीव्हीपी का प्रत्याशी जीता है। विजय कुमार ने एनएसयूआई प्रत्याशी दीपक कुमार वर्मा को 07 के मुकाबले 135 मत पाकर भारी अंतर से हराया है। सह सचिव पद पर शालिनी जयसिंहानी ने कन्हैया यादव को 69 के मुकाबले 140 मतो से हराया है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS