मेरा बिलासपुर

व्यवस्था से परेशान कालू ने दी आत्मदाह की धमकी…

बिलासपुर— पंचायत चुनाव के दौरान जान से मारने की धमकी देने की शिकायत करने वाले कोनी के कालू सोनी को आज तक न्याय नहीं मिला है वहीं आरोपी त्रिलोक श्रीवास अपने रसूख के दम पर खुलेआम घूम रहा है। जबकि पुलिस उसे फरार बता रही है। सच्चाई तो यह है कि त्रिलोक श्रीवास का शहर में पुलिस के साथ उठना बैठना हो रहा है।

                     मालूम हो कि पंचायत चुनाव के दौरान कोनी निवासी कालू सोनी ने कोनी थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी कि अरपा पार तात्कालीन कोनी सरपंच पति त्रिलोक श्रीवास ने उसे धमकी दिया था कि यदि वह उसके खिलाफ जाएगा तो जान से मार देगा। त्रिलोक के मना करने के बाद भी कालू सोनी ने सरपंच उम्मीदवार चंदू अनंत का प्रचार किया। इसी दौरान त्रिलोक श्रीवास के आदमियों ने उसका अपहरण कर लिया। इस दौरान उसके साथ मारपीट भी की गयी। त्रिलोक ने कालू को इस शर्त पर छोड़ा कि यदि वह किसी का प्रचार करते पाया गया तो जान से हाथ धोना पड़ेगा।

                       कालू सोनी ने सीजी वाल को बताया कि मैने इस घटना के बाद शिकायत थाने से लेकर आई जी तक से की। लेकिन अभी तक उसे न्याय नहीं मिला है। कालू ने बताया कि त्रिलोक का संबध बड़े सभी महकमों के बड़े अधिकारियों से है। वहीं कोनी थानेदार का कहना है कि त्रिलोक श्रीवास फरार है। सच्चाई तो यह है कि वह शहर में खुलेआम घूम रहा है। साथ ही मुझे रोजाना धमकी देता है कि मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा। मेरी पहुंच पुलिस के बड़े अधिकारियों से हैं।

बलात्कार के अलग अलग मामले में 2 आरोपी गिरफ्तार..दोनों ने नाबालिगों को दिया झांसा..किया दैहिक शोषण

                   कालू सोनी ने बताया कि जिसके खिलाफ थाने में एफआईर दर्ज है वह खुले आम घूम रहा है। वहीं मै छिपकर रह रहा हूं। वहीं इस मामले में कोनी थानेदार का कहना है कि त्रिलोग श्रीवास के खिलाफ जांच चल रही है। जांच के बाद ही कार्रवाई होगी। लेकिन इस दौरान त्रिलोक ने उसका जीना हराम कर दिया है।

                         फिलहाल कालू का इस समय व्यवस्था से विश्वास उठ चुका है। उसका कहना है कि त्रिलोक श्रीवास के दबाव में आज उसका परिवार विखर चुका है। उसने पत्नी को भी सरकारी कन्या शाला स्कूल में दबाव बनाकर नौकरी से निकाल दिया है। आज उसके सामने जीने मरने की नौबत आ गयी है।

                 कालू सोनी ने बताया कि मै न्याय के लिए आई जी से लेकर एसपी के दरवाजे पर नाक रगड़ चुका हूं। मुझे त्रिलोक के रसूख के सामने न्याय मिलता हुआ दिखाई नहीं दे रहा है। उसने बताया कि यदि मुझे न्याय नहीं मिला तो वह अपने परिवार के साथ पुलिस कार्यालय के सामने आत्मदाह करूंगा।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS