शराबबंदी के नाम पर छलावा कर रही सरकार

JOGIबिलासपुर— जनता कांग्रेस नेताओं ने एक बार फिर सरकार की शराब नीति को भला बुरा कहा है। प्रदेश की शराब नीति को छलावा बताया है। जनता कांग्रेस प्रवक्ता के अनुसार जब सरकार परोक्ष अपरोक्ष रूप से मानती है कि शराब सामाजिक बुराई है तो इसे पूरी तरह प्रतिबंधित क्यों ने कर दिया जाता है। मुख्यमंत्री ने तीन हजार से कम आबादी वाले क्षेत्रों में शराब बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया है। जब शराब समाज की बुराई है तो इसे अन्य क्षेत्रों में क्यों परोसा जा रहा है।

              जनता कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता सुब्रत डे ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि सरकार प्रदेश के एक-एक घर में शराब बेचना चाहती है। पिछले 12 दिनों में तमाम प्रयास के बाद भी रायपुर शहर के दुकानों को शराब उपलब्ध नहीं हुआ है। शराब नहीं पहुंचने के कारण प्रदेश के ज्यादातर दुकाने बंद है। सरकार अपनी नाकामी को छिपाने शराबबंदी का नाम दे रही है।

                           जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ प्रदेश प्रवक्ता ने बताया कि सरकार मां कौशल्या की धरती का अपमान कर रही है। दामाखेड़ा की पवित्र भूमि में कबीर पंथी संत प्रकाश मुनि नाम साहेब ने झोली फैलाकर छत्तीसगढ़ में शराबबंदी का अनुरोध किया था। लेकिन उनकी झोली को खाली छोड़ दिया गया। अब प्रदेश के मुखिया की अंतरात्मा मुंगेर बिहार में स्वामी निरंजनानंद से मिलने के बाद जाग गयी। सवाल उठता है कि क्या छत्तीसगढ़ में उन्हें प्रेरणा देने वाला कोई नहीं है।

                   सुब्रत डे ने बताया कि शराबबंदी वाला बयान केवल एक भर है। पूर्ण शराबबंदी राज्य बिहार के मुख्यमंत्री नितिश कुमार से छत्तीसगढ़ के मुखिया 3 हजार की आबादी वाले गांव में शराबबंदी की बात कह रहें है। ऐसा कह कर सीएम ने बिहार मुख्यमंत्री के सामने अपनी कमजोरी को जाहिर किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *