शिक्षक पत्नी पर प्रधानपाठक की विशेष कृपा…10 साल से नहीं गयी स्कूल…लेकिन तनख्वाह में कमी नहीं…

जांजगीर-चांपा–पामगढ़ ब्लॉक में फर्जीवाड़े का एक अनोखा मामला सामने आया है।शिक्षक पति पत्नी की मनमानी से लोग परेशान हैं। लेकिन दोनों का रसूख इतना है कि कोई भी शिक्षक मुंह खोलने से बच रहा है। दरअसल प्राथमिक शाला हिर्री मे अमृत ज्योति और पल्लवी ज्योति दोनों पति-पत्नी शिक्षक हैं। अमृत स्कूल का प्रधानपाठक है।अमृत पर आरोप है कि अपनी पत्नी के लिए अटेंडेंस रजिस्टर अपने घर लेकर जाता है। कभी कभी तो आफिस में ही बैठकर घर पत्नी का सिग्नेचर कर देता है। मजेदार बात है कि स्कूल के सभी लोगों को इस बात की जानकारी है लेकिन कुछ बोलने से डरते हैं।

                           पामगढ़ ब्लाक के हिर्री प्राथमिक पाठशाला प्रधानाध्यापक की मनमानी से शिक्षक परेशान है। प्रधानपाठक की तानाशाही इतनी की कोई कुछ भी कहने से बच रहा है। जानकारी के अनुसार प्रधानपाठक अमृत ज्योति की शिकायत कई बार उच्च अधिकारियों से की गयी। लेकिन वह अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा है।

                     सूत्र ने बताया कि पत्नी की जगह हस्ताक्षर करने की शिकायत प्रधानपाठक अमृत ज्योति की कई बार उच्चाधिकारियों से हई। लेकिन अभी तक किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है। मामले का खुलासा 18 मार्च को हुआ।  जब संकुल प्रभारी स्कूल का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने जांच के दौरान पाया कि अटेंडेंस रजिस्टर में 5 शिक्षकों के हस्ताक्षर हैं। लेकिन मौके पर केवल चार शिक्षक ही मौजूद हैं।

                      संकुल प्रभारी ने जांच पडताल के दौरान पाया कि प्रधानपाठक के खिलाफ की गयी शिकायत सही है। संकुल प्रभारी ने प्रधान पाठक अमृत ज्योति से पूछा कि साइन होने के बाद भी पल्लवी ज्योति कहां है। मामले को अमृत ज्योंति ने टालने का प्रयास किया। लेकिन स्कूल में पदस्थ शिक्षक पंचायत मोती लाल सुनहरे ने बताया कि पिछले 10 सालों से पल्लवी ज्योंति स्कूल नहीं आ रही हैं। लेकिन अटेंडेस रजिस्टर में दस्तखत पूरे दिन के है। दरअसल प्रधानपाठक कभी कभी अपने कार्यालय में ही पल्लवी ज्योति की दस्तखत कर देते हैं। या फिर अटेंडेंस रजिस्टर घर लेकर जाते है और दुसरे दिन हस्ताक्षर के बाद लाते हैं।

                     मालूम हो कि हिर्री प्राथमिक स्कूल में 5 शिक्षक पदस्थ हैं। शिक्षक मोतीलाल ने बताया कि कई बार पामगढ़ एसडीएम और विकास खंड शिक्षा अधिकारी से लिखित में शिकायत भी की गई है। लेकिन अभी तक मामले को किसी ने गंभीरता से नहीं लिया है। पामगढ़ विकास खंड शिक्षा अधिकारी ने कहा कि जांच के बाद आरोपियों पर कड़ी कार्रवाही की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *