शिक्षा कर्मियों का इंद्रावती नदी में जल सत्याग्रहः पदोन्नति में मनमानी का विरोध

जगदलपुर । जिला पंचायत  बस्तर की हठ धर्मिता से आक्रोशित अनु जाति जनजाति के शिक्षक पं संवर्ग गुरूवार को  अनिश्चित कालीन हड़ताल के 15 वे दिवस  बस्तर के जीवन दायिनी कही जाने वाली जीवन रेखा इन्द्रावती नदी में जल सत्याग्रह कर प्रदर्शन कर रहे हैं।  आंदोलन के समर्थन में स्थानीय युवा जनप्रतिनिधि गण समाजसेवक व सर्व आदिवासी समाज भी शामिल हुए है  ।ज्ञात हो जिला पं बस्तर के तत्कालीन सीईओ रितेश अग्रवाल ने छत्तीसगढ़   शासन के सामान्य प्रशासन विभाग के नियम के  विपरीत सहायक शिक्षक पं से शिक्षक पं के पदोन्नत्ति में आरक्षण रोस्टर के अनारक्षित बिंदु को सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित कर पदोन्नति दी है ।  जिसके कारण सामान्य वर्ग  के कनिष्ट की पदोन्नत्ति हुई । वहीं अनु जनजाति के वरिष्ठ को पदोन्नत्ति से वंचित किया गया.
डाउनलोड करें CGWALL News App और रहें हर खबर से अपडेट
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cgwall
ये जल सत्याग्रह प्रशासन की हठ धर्मिता को 15 दिवस से आंदोलनरत शिक्षकों द्वारा ध्यान आकृष्ट कराने और सूची को संसोधन करा वंचित अनु जनजाति के 154 वरिष्ठ की पदोन्नत्ति की मांग कर दोषी सीईओ के विरुद्ध एस्ट्रो सिटी एक्ट के तहत कार्यवाही की मांग को लेकर  है  ।शिक्षक पं एम्प्लॉइज एसोसिएसन के प्रांताध्यक्ष कृष्ण कुमार नवरंग  ने प्रशासन को आगाह किया कि यदि शीघ्र निर्णय नही लिया तो आंदोलन को उग्र करने पर मदजबूर होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *