मेरा बिलासपुर

श्रीराम केयर अस्पताल गैंगरेप— शिनाख्ती परेड के बाद हिरासत में 2 संदेही..पढ़ें न्यायिक मजिस्ट्रेट ने क्या कहा..पुलिस का भी सुने बयान

बिलासपुर—- तहसील कार्यालय में तीन तीन के समूह में कुल 12 लोगों की शिनाख्ती परेड हुई। करीब दो घंटे की मशक्त के बाद लड़की ने दो वार्डव्याय की पहचना की है। पहचान के बाद न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश पर दो वार्डव्वाय को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।  सिविल लाइन पुलिस पुलिस दोनों संदेहियों को लेकर सिविल लाइन थाना रवाना हो गयी है। पुलिस सूत्र के अनुसार अब दोनों संदेहियों की कड़ाई से पूछताछ होगी।               

                  बताते चलें कि पीड़िता को 18 मई को इलाज के लिए श्रीराम केयर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 21 और 22 की दरमियानी रात उसके साथ रेप हुआ है। 22 मई को पीड़िता ने अपने पिता और माता से लिखित शिकायत कर बताया कि उसके साथ दो वार्डव्बाय ने रात में रेप किया है। पिता ने मामले की शिकायत सिविल लाइन थाने में की। पुलिस ने अपराध दर्ज किया। इसके बाद लड़की की हालत ज्यादा बिगड़ने पर 24 मई को अपोलो में भर्ती किया गया।

             करीब एक सप्ताह पहले  अपोलो में न्यायिक मजिस्ट्रेट नायब तहसीलदार तुलसी मंजरी साहू ने लड़की की बयान को दर्ज किया था। पीड़िता ने न्यायिक मजिस्ट्रेट को शरीर के निशान दिखाए। उनसे बयान में दर्ज कराया कि दो लोगों ने उसके साथ अनाचार किया है।

                 हालत ठीक नहीं होने के कारण लड़की के पिता ने अपोलो से डिस्चार्ज होने के बाद एक सप्ताह की शिनाख्ती परेड की मोहलत मांगी थी। आज 10 बजे तहसील कार्यालय में 12 लोगों को शिनाख्ती परेड में पेश किया गया। बताया जा रहा है कि शिनाख्ती परेड में शामिल सभी लोग श्रीराम केयर अस्पताल के कर्मचारी थे। इसमें से लड़की की पहचना के बाद पुलिस ने  दो लोगों हिरासत में लिया है।  

कर्मचारियों की तनख्वाह बढ़ी,पढिए इस महीने से मिलेगा दैनिक वेतनभोगियों को बढ़ा हुआ वेतन

न्यायिक मजिस्ट्रेट ने क्या कहा

            शिनाख्ती परेड के बाद न्यायिक मजिस्ट्रेट तुलसी मंजरी साहू ने कहा कि दो संदेहियों के साथ दस अन्य लोगों को शिनाख्ती परेड में शामिल किया गया है। इसमें से पांच लोग घटना के दिन मौजूद थे। लड़की ने मुख्य आरोपी की पहचान कर ली है। रिपोर्ट बन्द लिफाफे में सिविल लाइन थानेदार के हवाले कर दिया गया है। नाम की जानकारी थानेदार देंगे। और क्या कहा न्यायिक मजिस्ट्रेट ने…सुने वीडियो।

प्रबंधन का दावा…हमारे कर्मचारी नहीं

             श्रीराम प्रबंधन का दावा है कि संदेही लोग उसके कर्मचारी नहीं है। इस मामले में हमें और ज्यादा कुछ नही कहना है।

एडिश्नल एशपी ने कहा…होगी जांच

           एडिश्नल एसपी ओम प्रकाश शर्मा ने बताया कि दो संदेहियों को शिनाख्ती परेड के बाद लाया गया है। श्रीराम प्रबंधन का दावा है कि इसमें से एक संदेही घटना के दिन काम पर नहीं था। शायद वह कर्मचारी भी नहीं है। फिलहाल जांच का विषय है। जल्द ही सब कुछ सामने आ जाएगा।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS