संविलयन के ठीक एक दिन पहले रिटायर हो रही महिला शिक्षा कर्मीः23 साल के संघर्ष की गवाह..लेकिन सुविधाओँ से वंचित..पढ़िए संविलयन में एक-एक दिन की देरी कैसे पड़ रही भारी..


रायपुर।
जिला पंचायत रायपुर के धरसींवा विकासखण्ड के शासकीय प्राथमिक शाला बोरियाखुर्द में सहायक शिक्षक पँचायत  के पद पर पदस्थ मित्रांजली वर्मा शिक्षाकर्मियों का संविलियन कर किये जा रहे शासकीय करण के एक दिन पूर्व 30 जून को ही सेवानिवृत्त होने जा रही है।मित्रांजली वर्मा के साथ अजीब विडम्बना होने जा रही है, एक ओर शिक्षक पद का सम्मान पाने के लिए वह विगत 23 वर्षों से संघर्ष कर रही थी,न जाने कितने आंदोलनों की साक्षी रही और परेशानियां झेली, और अब जब शिक्षाकर्मियों के सुखमय दिन की शुरुआत जिस दिन से होने वाली है उसके एक दिन पहले ही वह सेवानिवृत्त हो रही है। जिसके कारण मित्रांजली संविलियन पश्चात एक शासकीय कर्मचारियों को मिलने वाली सुविधाओं व लाभ से वंचित हो जाएगी।
शिक्षक पँचायत/  नगरीय निकाय  मोर्चा के प्रदेश संचालक विरेन्द्र दुबे ने इस घटना को दुर्भाग्यजनक बताते हुए कहा कि- अब संविलियन के लिए पल पल की देरी भी कितना नुकसान दे सकती है इसका अंदाजा बहन मित्रांजली के संविलियन मिलने के एक दिन पहले सेवानिवृत्ति होने से लगाया जा सकता है।बहन मित्रांजली  वर्मा की तरह बहुत सारे हमारे शिक्षाकर्मी साथी अब उम्र के उस पड़ाव पर हैं, जहां पर संविलियन की एक एक दिन की देरी भी उनका भविष्य अंधकारमय कर देगी। संविलियन का महत्व क्या है इनसे बेहतर और कोई नही बता सकता। हम इनकी पीड़ा समझ सकते हैं,इन्हें जब इतने वर्षों के संघर्ष के बाद भी अभी खाली हाथ सेवानिवृत्त होना पड़ेगा। इस संवेदना के क्षण में पूरा प्रदेश हमारी इस सेवानिवृत्त हो रही बहन मित्रांजली के साथ है।
प्रान्तीय उपसंचालक सुनील सिंह,डॉ सांत्वना ठाकुर,विष्णु शर्मा,प्रहलाद जैन,यादवेन्द्र दुबे आदि ने कहा कि-संविलियन में किसी भी प्रकार की बाधा कितना नुकसानदेह हो सकती है,यह इस सेवानिवृत्ति से परिलक्षित हो रहा है।सुखमय जीवन के मुहाने पर कदम रखने के पूर्व ही वहाँ से लौट जाना अत्यंत पीड़ादायक है।
शिक्षक पँ ननि मोर्चा उपसंचालक धर्मेश शर्मा,चंद्रशेखर तिवारी,जितेन्द्र शर्मा,सत्येन्द्र सिंह,शिवेंद्र चंद्रवंशी,दीपक वेंताल,जोगेन्द्र यादव,सन्तोष शुक्ला, हिमन कोर्राम,ओमप्रकाश,विनय सिंह,सी पी तिवारी,बुसरा परवीन,गजराज सिंह,जितेंद्र गजेंद्र,अतुल अवस्थी,अजय वर्मा,राजेश शर्मा,सरवर हुसैन,गौतम शर्मा,आदि ने अपील की है कि- हम सब ऐसे संघर्षशील बलिदानियों का अभिनंदन और आभार व्यक्त करते हैं । जिन्होंने सँघर्ष करके अपनी भावी पीढ़ी के लिए सुरक्षित, उज्ज्वल और निश्चिंतता से भरा जीवन और कैरियर संविलियन के रूप में प्रदान के खुद खाली हाथ सेवानिवृत्त हो रही है। जिस तरह हमारे पूर्वज अपने समय मे जो फलदार वृक्ष लगाये किन्तु उसका फल नही खा सके,बल्कि उस फल की मिठास का अनुभव उसकी भावी पीढ़ी उठा सकी उसी तरह आज हमें 1 जुलाई से मिलने वाला संविलियन भी भावी पीढ़ी के लिए शानदार सुखमय और गरिमामय भविष्य मिलने वाला है ।  किंतु उसका लाभ लेने के लिए हमारी बहन मित्रांजली हमारे साथ नही रहेंगी, शासकीयकरण के एक दिन पहले ही रिटायर होना प्रदेश के समस्त शिक्षाकर्मियों के लिए संदेश भी है कि हम सबके संघर्ष की जीत और हम सबका सपना अब साकार होने जा रहा है,ऐसे समय मे कोई भी संविलियन के मार्ग में कोई अवरोध उत्पन्न कर बाधित करने का प्रयास न करे,साथ ही शासन भी ऐसे मामलों में सहृदयता बरते और संविलियन की प्रक्रिया को सरलीकृत कर जल्द से जल्द संविलियन का क्रियान्वयन करे ताकि और हमारा कोई भी शिक्षाकर्मी साथी सेवानिवृत्त होकर खाली हाथ न जावे।
loading...

Comments

  1. By एस सिंग

    Reply

  2. By v singh

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...