हमार छ्त्तीसगढ़

संस्कार गढते हैं शिक्षक—सत्यनारायण

IMG-20150905-WA0020 (2)रायपुर—शिक्षाविद् महान् दार्शनिक उत्कृष्ठ वक्ता स्वतंत्र भारत के दूसरे राष्ट्रपति डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जयंती शिक्षक दिवस पर शहर जिला कांग्रेस कमेटी नें शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर योगदान देने वाले शिक्षकों का सम्मान शाल, श्रीफल,सम्मान पत्र भेंट कर किया।

                         शहर जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष विकास उपाध्याय नें शिक्षक दिवस के अवसर पर कांग्रेस भवन में उपस्थित शिक्षकों का अभिनंदन करते हुए डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के पदचिन्हों पर चलने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि डा0 राधाकृष्णन कहा करते थे मात्र जानकारी देना ही  शिक्षा नही है। व्यक्ति के बौद्धिक झुकाव और इसकी लोकतांत्रिक भावना का भी बड़ा महत्व है यह बातें व्यक्ति को एक उत्तरदायी नागरिक बनाती है। शिक्षा समर्पण की भावना और निरंतर सीखने की प्रवृत्ति है जो व्यक्ति को ज्ञान और कौशल दोनों प्रदान करता है।

                 कांग्रेस नेता हसन खान नें अपने उद्बोधन में कहा गुरू की महिमा अपार होती है, उनकी गुरू दक्षिणा मनुष्य को शिक्षित एवं सहज बनाती है, हम उनके अमुल्य विद्यादान का आदर एवं सम्मान करते हैं। पूर्व शिक्षामंत्री एवं विधायक सत्यनारायण शर्मा नें अपने भाषण में कहा कि शिक्षक समाज के लिए संस्कार गढते हैं। देश के लिए सभ्य और योग्य नागरिक तैयार करते हैं। इस मौके पर उन्होंने एम.आर.फरतारे,  श्याम पारूलकर,  प्रकाश बालाजी,  निर्मल कुमार रिछारिया,  संतोष ठाकुर,  मधुकर राव बंजारी, बी.डी.हिरकने,  छगनलाल सोनवानी, शशीकान्त गिडियन, चतुर्भुज शर्मा, प्रमिला माण्डले, राधा साहू, शिल्पा साहू, भूमिका सिन्हा,जी.डी. वैष्णव, रंजना ठाकुर, एम.एम.शर्मा, भारती शर्मा, आदि शिक्षकों को प्रमाण पत्र एवं श्रीफल देकर सम्मान किया।

                            कार्यक्रम में प्रभारी महामंत्री शैलेष नितिन त्रिवेदी, महापौर प्रमोद दुबे, इंदरचंद्र धाडीवाल, पूर्व विधायक कुलदीप जुनेजा, पूर्व महापौर किरणमयी नायक,समेत भारी संख्या में कांग्रेसी उपस्थित थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS