मेरा बिलासपुर

सड़कों की दुर्दशा पर मंत्री ने जताई चिंता

mudatबिलासपुर— प्रदेश गठन के बाद सड़क निर्माण का बजट 10 गुना बढ़ गया है। अभी तक प्रदेश के 19 जिलों की वार्षिक बैठक हो चुकी है। बिलासपुर की वार्षिक बैठक आज होगी। बैठक में सभी स्तर के जनप्रतिनिधि शामिल होंगे। इस दौरान सड़क और निर्माण कार्य को लेकर व्यापक स्तर पर चर्चा होगी। अधूरे और गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्य को लेकर भी बातचीत होगी। इस बार सड़क निर्माण कार्य का बजट 5300 करोड़ का है। यह बातें प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री राजेश मुणत ने छत्तीसगढ़ भवन में पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहीं।

               मंत्री मुणत ने कहा कि मुझे लगातार शिकायत मिल रही है कि बिलासपुर की सड़कों की हालत काफी जर्जर है। बैठक के बाद आस-पास की सड़कों का भी मुआयना करूंगा। राजेश मुणत ने कहा कि राज्य सरकार की बजट के अलावा आने वाले पांच साल में एडीबी के सहयोग से 25 से 30 हजार करोड़ रूपए की लागत से चिन्हित सड़कों का निर्माण किया जाएगा।

                 मुणत ने बताया कि एनओटी योजना के तहत प्रदेश सरकार बैंक से कर्ज लेकर पांच महत्वपूर्ण सड़कों का निर्माण तपकरा,लैलुंगा, रायगढ़ और अन्य क्षेत्रों में करेगी। रायपुर-बिलासपुर हाइवे का निर्माण को लेकर पूछे गए प्रश्न पर मुणत ने कहा कि तीन चरणों में काम होगा। आनलाइन टेन्डर निकाला गया है। इस महीने के अंत में टेण्डर की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। पारदर्शिता हो इसके लिए सभी सब कुछ आनलाइन होगा। सड़क का निर्माण एपीसी माडल के तहत होगा । इसमें केन्द्र सरकार का सहयोग भी होगा।

               तुर्काडीह पुल के सवाल पर मंत्री राजेश मुणत ने कहा कि निर्माण में गुणवत्ता नहीं होने के कारण तुर्काडीह पुल की दुर्गति हुई है। ठेकेदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया गया है। मामले को ईओडब्लू को सौंप दिया गया है। ठेकेदार की जमा राशि पचास लाख रुपए हमने जब्त कर लिया है। उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होगी। इस प्रकार की लापरवाही करने से कोई भी ठेकेदार दस बार सोचेगा। बारिश के बाद तुर्काड़ीह पुल का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

निकाय मंत्री करेंगे पदयात्रा..जनसमस्याओं से होंगे रूबरू...महापौर ने बैठक में कर्मचारियों को किया अलर्ट

             मुणत ने एक प्रश्न के जवाब में कहा कि सीपत बालौदा और केन्दा अमरकंटक मार्ग की सड़कों के निर्माण में लापरवाही पर हम बैठक के दौरान जिम्मेदार अधिकारी से बात करेंगे। आखिर इन सड़कों की हालत क्यों खराब है। रायल्टी घोटाले पर भी उन्होंने जांच रिपोर्ट मांगने की बात कही।

           मुणत ने बताया कि इस बार प्रदेश में जहां भी सड़कें बनेंगी स्कूल पहुंच मार्ग को जोड़ने वाली कच्ची स़ड़कों को पक्का बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सड़क निर्माण कार्य में प्रदेश के बेरोजगार डिप्लोमाधारी और इंजीनियरों से भी काम लिया जाएगा। इससे आने वाले समय में बेरोगजगारी कम होगी और प्रदेश में अच्छे ठेकेदार तैयार होंगे।

                 राजेश मुणत ने एक सवाल के जवाब में कहा कि बिलासपुर में सिवरेज का काम चल रहा है। इससे लोगों को थोड़ी बहुत परेशानी हो रही है। लेकिन काम खत्म होते ही सड़कों की स्थिति अच्छी हो जाएगी। रायपुर की तुलना में यहां के ब्रिज गुणवत्ताहीन तकनिकी खामियों से भरे हैं और कुछ आरओबी के निर्माण अभी तक पूरा नहीं आया हैं के जवाब में मुणत ने कहा कि इस बात को लेकर आज व्यापक स्तर पर मंथन में बैठक होगी। खासतौर पर तकनिक मामले पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS