हमार छ्त्तीसगढ़

सभी जिलों में बनेंगे इंजीनियरिंग पार्क

engineering1रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राज्य के औद्योगिक विकास को गति देने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा चरणबद्ध ढंग से सभी जिलोें में इंजीनियरिंग पार्कों की स्थापना की जाएगी। उन्होंने आज अपरान्ह राज्य के प्रमुख औद्योगिक शहर भिलाई से लगे हुए भारी औद्योगिक क्षेत्र हथखोज (उमदा) में नवनिर्मित इंजीनियरिंग पार्क का लोकार्पण करते हुए यह जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सबके लिए गर्व की बात है कि सार्वजनिक क्षेत्र के अंतर्गत भिलाई इस्पात संयंत्र की स्थापना के बाद छत्तीसगढ़ की औद्योगिक विकास यात्रा निरंतर जारी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश-विदेश में लघु भारत के रूप में भिलाई की पहचान और प्रतिष्ठा है। इसी कड़ी में आज इस क्षेत्र के औद्योगिक विकास में और भी अधिक गति लाने के लिए लोकार्पित  इंजीनियरिंग पार्क की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इसके परिसर में विभिन्न प्रकार के नये उद्योगों की स्थापना की जाएगी, जिनमें स्थानीय लोगों को रोजगार के व्यापक अवसर मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने लोकार्पण समारोह में इंजीनियरिंग पार्क में उद्योग लगाने के लिए जरूरी प्रक्रिया पूर्ण कर चुके उद्यमियों को पंजीयन प्रमाण पत्र प्रदान कर शुभकामनाएं दी। डॉ. सिंह ने कहा कि प्रदेश में रोजगार सृजन की दृष्टि से औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार के प्रयास जारी हैं। सूचना प्रौद्योगिकी, इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरण, सौर ऊर्जा तथा कृषि आधारित उद्योगों में निवेश के लिए काफी सकारात्मक और उत्साहजनक वातावरण का निर्माण हुआ है।
engineering2उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम (सीएसआईडीसी) द्वारा लगभग 121 हेक्टेयर भूमि पर इस इंजीनियरिंग पार्क का निर्माण 49 करोड़ 78 लाख रूपए की लागत से किया गया है। इसमें विभिन्न आकार के 215 औद्योगिक भू-खण्ड विकसित किए गए हैं। इनमें 215 लघु और मध्यम श्रेणी के उद्योग लगाए जा सकेंगे।श्री पाण्डेय ने उम्मीद जताई कि इस पार्क की स्थापना से इलाके में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। अहिवारा के विधायक सांवला राम डाहरे ने भी समारोह को सम्बोधित किया। समारोह में प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशिला साहू, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम (सीएसआईडीसी) के अध्यक्ष छगनलाल मुंदड़ा, संसदीय सचिव लाभचंद बाफना, विधायक विद्यारतन भसीन, वाणिज्य और उद्योग विभाग के सचिव सुबोध कुमार सिंह, रायपुर-दुर्ग संभाग के आयुक्त अशोक अग्रवाल और कलेक्टर दुर्ग श्रीमती आर. शंगीता सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

नये इंजीनियरिंग पार्क की खूबियां
राज्य औद्योगिक विकास निगम के अध्यक्ष छगन लाल मुंदड़ा ने बताया कि भारी औद्योगिक क्षेत्र – हथखोज, भिलाई, जिला-दुर्ग में निगम द्वारा स्थापित इस इंजीनियंिरंग पार्क का विकास 49 करोड़ 78 लाख रूपए की लागत से 121 हेक्टेयर भूमि पर की गई है। यह क्षेत्र ऑयरन ओर, लाईम स्टोन, क्वार्टजाईट आदि खनिज संसाधनों से परिपूर्ण एवं रेल रोड एवं हवाई मार्ग से जुड़ा हुआ है। उल्लेखनीय है कि भिलाई इस्पात संयंत्र के द्वारा देश में स्टील उत्पादन के क्षेत्र में किया जा रहा योगदान महत्वपूर्ण है। यह भारत सरकार के उपक्रम ‘सेल’ का ध्वजवाहक संयंत्र है। इस संयंत्र के द्वारा क्षेत्र में सहायक एवं एंसीलरी उद्योगों के विकास विशेष कर फेब्रिकेशन एवं इंजीनियरिंग उद्योगों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी गयी है।
इंजीनियरिंग पार्क की स्थापना 121 हेक्टेयर भूमि पर कि गई है। इस पार्क में विभिन्न आकार के 215 आद्योगिक भूखण्ड विकसित किये गये है। इस क्षेत्र में इंजीनियरिंग उत्पादों, मशीन टुल्स, ऑटो कम्पोनेंटस, कॉस्टींग एवं फोर्जींग उद्योगों की स्थापना हो सकती है। ऐसे उद्योग  M S M E Sector  के अंतर्गत स्थापित हो सकते है। इससे राज्य में M S M E Sector   के समृद्ध होने की संभावना होगी। इस क्षेत्र मे लगभग दो हजार करोड़ रुपये के निवेश एवं लगभग 5000 व्यक्तियों के रोजगार की संभावना है। इस पार्क की स्थापना से  क्षेत्र में  M S M E Sector   को मजबूती मिलेगी। यह उल्लेखनीय है कि पास में ही शासन द्वारा औद्योगिक क्षेत्र भिलाई, बोरई की स्थापना की गई है जिससे भिलाई इस्पात संयंत्र के अलावा क्षेत्रीय उद्योगों को प्रोत्साहन मिला है। इंजीनियरिंग पार्क से भी क्षेत्र में नवीन उद्योगों की स्थापना का मार्ग प्रशस्त होगा।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS