सहकार क्षेत्र के बड़े नेताओं ने कहा…बर्दास्त नहीं करेंगे तानाशाही…प्रभारी सीईओ को बताया संदिग्ध…तिवारी ने कहा कर्मचारियोंं ने किया हड़ताल से किनारा

बिलासपुर— छत्तीसगढ़ जिला सहकारी बैंक के बैनर तले आज जिला सहकारी बैंक कर्मचारियों ने कार्यालय के सामने जंगी एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। हडताल में छत्तीसगढ़ सहकारी संगठन के प्रदेश स्तरीय कर्मचारी नेताओं ने शिरकत किया। धरना प्रदर्शन हड़ताल के दौरान कर्मचारी संगठन के नेताओं ने जिला सहकारी बैंक प्रबंधन पर जमकर निशाना साधा। बैंक प्रबंधन पर वरिष्ठ कर्मचारियों पर  कनिष्ठ कर्मचारियों को तवज्जों देने का भी आरोप लगाया।

                             छत्तीसगढ़ जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष सूर्यकांत जायसवाल ने कहा कि प्रदेश के अन्य सहकारी बैंक कर्मचारियों को इंंडेक्श प्राइज दिया जा रहा है। हमारी मांग है कि कर्मचारियोंक को तत्काल सातवां वेतनमान का लाभ दिया जाए। महंगाई भत्ते की एरियर्स राशि का भुगतान किया जाए। उच्च पदों पर काम करने वाले अधिकारियों को एक्टिंग भत्ता दिया जाए। भूमि विकास बैंक के संविलियन किए गए कर्मचारियों को समान वेतन भुगतान हो।

                 सूर्यकांत जायसवाल ने बताया कि प्रभारी सीईओ गुरूद्वान ने मनमाने तरीके से कर्मचारियों को स्थानांतरित कर दिया है। जबकि बच्चों की परीक्षाएं चल रही हैं। स्थानांतरण आदेश को तत्काल वापस लिया जाए। सूर्यकांत के अनुसार जिला सहकारी बैंक में सीनियारिटी का कोई अर्थ नहीं रह गया है। बहुत जूनियर कर्मचारियों को महत्वपूर्ण पदों पर प्रभारी बनाकर बैठा दिया गया है। विकास गुरूद्वान ना केवल जूनियर है बल्कि उन पर कई प्रकार के आरोप भी हैं। बावजूद इसके उन्हें प्रभारी सीईओ बनाया गया है। सहकारी संस्थाएं ने उन्हें सीईओ पद से हटाने का आदेश दिया है। हमारी मांग है कि प्रभारी सीईओ किसी वरिष्ठ कर्मचारी को ही बनाया जाए।

                    सूर्यकांत समेत धरना प्रदर्शन में शामिल सभी वक्ता नेताओं ने प्रभारी सीईओ पर तानाशाही का आरोप लगाया। वक्ताओं ने बताया कि प्रभारी सीईओ कर्मचारियों का भयादोहन कर रहे हैं। कर्मचारियों को आए दिन नोटिस थमा रहे हैं। कभी सस्पेंड करने धमकी तो कभी दूर अंचल में स्थानांतरण की बात करते हैं। ऐसे प्रभारी सीईओ को जल्द से जल्द पद से हटाया जाए। कर्मचारी नेताओं ने कहा कि प्रभारी सीईओ कक्ष इन दिनों संदिग्ध गतिविधियों का केन्द्र बन गया है। नेताओं ने प्रभारी सीईओ पर आंदोलन को दबाने का भी आरोप लगाया है।

              आंदोलन में प्रदेश स्तरीय नेता रायपुर से चन्द्रप्रकाश,राजेन्द्र शर्मा,प्रहलाद मिश्रा,व्ही.के.खरे,प्रकाश अखिलेश और शंशाक दुबे समेत प्रदेश के जिला सहकारी बैंक के कर्मचारी नेता मौजूद थे। सभी ने कहा कि जिला सहकारी बैंक बिलासपुर प्रभारी सीईओ की तानाशाही गतिविधिय़ों को करारा जवाब दिया जाएगा।

घनश्याम ने कहा हड़ताल में दम नहीं

       हडताल से दूर जिला सहकारी बैंक कर्मचारी यूनियन नेता घनश्याम तिवारी ने कहा कि हड़ताल असफल रही। जिले के 565 कर्मचारियों में से 470 कर्मचारियों ने काम किया है।प्रदेश के सहकारी क्षेत्र के संगठनों ने हड़ताल पर नहीं जाते हुए प्रबंधन का सहयोग किया है। जल्द ही बैंक प्रबंधन कर्मचारी हित में महत्वपूर्ण कदम उठाएगा। घनश्याम तिवारी ने हड़ताल में नहीं जाने वाले संगठनों को धन्यवाद भी दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *